Connect with us

शिक्षा

TISS प्रशासन का अमानवीय रवैया, महज कुछ फीस नहीं देने पर कॉलेज प्रसाशन ने छात्र की डिग्री रोकी

Published

on

मुंबई: शिक्षा का बढ़ता बाजारीकरण और निजीकरण एक वैश्विक समस्या बनती जा रही है ऐसे में मुंबई के टाटा सामाजिक विज्ञानं संस्थान (TISS) में एक बेहद चौंका देने वाला वाकया सामने आया है.

घटना 8 मई  की है जब TISS में दीक्षांत समारोह चल रहा था जिसमे छात्रों को उनकी डिग्री दी जा रही थी, और जिसके मुख्य अतिथि अनिल काकडलोड़कर थे, इसी बीच बिहार का बेहद गरीब परिवार का एक युवक जिसने TISS से L.L.M की पढाई की है , उसे प्रशासन द्वारा  दीक्षांत समारोह में बुला कर एक लिफाफा दिया गया जिसमे डिग्री की जगह एक कार्डबोर्ड था जिसके ऊपर लिखा था की आपने अपने हॉस्टल और मेस की फीस नहीं भरी है.

प्रशासन के इस रवैये से छात्र बहुत अपमानित महसूस कर रहे है, पीपल्स बीट से बात करते हुए संदीप ने कहा की मैं अकेला छात्र नहीं हूँ  जिसके साथ ऐसा हुआ है, L.L.M. और Masters in Philosophy में पढने वाले और भी छात्रों के साथ ऐसा मजाक किया गया है. हालत ये है की प्रशासन के इस रवैये के कारन ऐसे छात्र अपने दोस्तों के सामने लिफाफा खोलने में काफी शर्मिंदगी महसूस  कर रहे है.

एक अन्य छात्र ने बात करते हुए कहा है की उच्च शिक्षा का अत्यधिक महंगा हो जाने के कारन गरीब परिवार के बच्चों का पढना  लगभग नामुमकिन सा होता जा रहा है.

बता दें की संदीप बिहार के एक बेहद गरीब परिवार से आते है, इन्होने अपना L.L.B  BHU से करने के बाद L.L.M के लिए TISS में दाखिला लिया. प्रथम सेमेस्टर में भी संदीप ने बड़ी मुश्किल से अपना फीस दिया उसके बाद संदीप छात्रवृति की मदद से आगे की पढाई पूरी कर सके.

अपने L.L.M फीस का लगभग एक लाख जमा करने के बाद वो अब तक 20,000 रूपए नहीं चूका सके जिसके कारन उनकी डिग्री रोक दी गयी. संदीप ने अपनी पीड़ा अपने फेसबुक वाल पर भी लिख कर बयां की है, उन्होंने लिखा है की

“शिक्षा के बढ़ते बाज़ारीकरण और निजीकरण से सरकारी संसथान भी अछूते नहीं है। कल टाटा सामाजिक विज्ञानं संस्थान में दीक्षांत समारोह था और मुझे भी L.L.M डिग्री देने के लिए आमंत्रित किया गया था। मुझे भी मंच पे बुला के बोर्ड ऑफ़ गवर्ननेंस के अध्यक्ष श्री रामादोरई ने डिग्री दी। जब हमने डिग्री खोला तो पाया की मेरे लिफाफे में एक चार्ट पेपर पे लिखा है की आपने हॉस्टल और मेस की फी नहीं भरी है। इससे ज्यादा शोषित छात्रों के साथ अपमान क्या हो सकता है। बता दे की केवल बीस हज़ार रुपये जमा नहीं करने पर मेरे डिग्री को रोक दिया गया। मुझे डिग्री नहीं दिया जाता परन्तु मार्कशीट दे दिया जाता। लेकिन सबकुछ रोक दिया गया।“

TOI से बात करते हुए प्रशासन ने कहा है की “ हमने वही किया जो देश और दुनिया के तमाम विश्वविद्यालय करते है, अगर कोई छात्र फीस नहीं देता है इसका मतलब है की वो अपने डिग्री की इज्जत नहीं करता है” उन्होंने आगे कहा की जब ये छात्र अपने बकाया को जमा कर देंगे तो इनको इनकी डिग्री दे दी जाएगी.

बता दें की पिछले कुछ दिनों से TISS में छात्र संगठन हॉस्टल और मेस के फीस में वृद्धि को लेकर लगातार प्रशासन के खिलाफ धरना दे रहे थे.

शिक्षा

जानें अनलॉक 4 में किन राज्यों में खुल रही हैं स्कूल

Published

on

केन्द्र सरकार ने अनलॉक 4.0 की गाइडलाइंस के तहत राज्य सरकारों को 21 सितंबर से कंटेनमेंट जोन्स के बाहर कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों के लिए स्कूल-कॉलेज खोलने की अनुमति दे दी थी। इसके लिए सरकार ने बच्चों के माता-पिता की तरफ से सहमति होने की अनिवार्य शर्त रखी थी। हालांकि अभी कई राज्य सोमवार से स्कूल कॉलेज खोलने को लेकर असमंजस में दिखाई दे रहे हैं।

बता दें कि केन्द्र शासित चंडीगढ़ में सोमवार से कई सरकारी स्कूल खुल रहे हैं। इस दौरान स्कूल आने वाले बच्चों से सहमति पत्र लिया गया है। स्कूलों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए नियम बनाए गए हैं। हालांकि कई स्कूल टीचर्स का मानना है कि माहमारी को देखते हुए और जिस तरह से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, ऐसे में अभी स्कूल खोलने का निर्णय सही नहीं है। टीचर्स का मानना है कि बच्चों से सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क आदि के नियमों का पालन कराना कठिन होगा।

वहीं उत्तर प्रदेश की बात करें तो यूपी सरकार ने सोमवार से स्कूल कॉलेज नहीं खोलने का फैसला किया है। प्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, ऐसे में डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने पहले ही 21 सितंबर से राज्य में स्कूल खोले जाने की संभावना को खारिज कर दिया था।

वहीं असम में सरकार सोमवार से स्कूल कॉलेज खोलने जा रही हैं। हालांकि परिजनों की सहमति मिलने के बाद ही छात्र-छात्राएं स्कूल आ सकेंगे। सरकार ने इसके लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (एसओपी) तैयार की है, जिसकी मदद से छात्रों में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क पहनने जैसी बातों का पालन कराया जाएगा।

बिहार में भी कंटेनमेंट जोन्स के बाहर 9-12वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल कॉलेज खोलने का फैसला किया है। वहीं दिल्ली में अभी स्कूल कॉलेज बंद रहेंगे और छात्रों की सुरक्षा के लिहाज से सरकार कोई खतरा नहीं लेना चाहती।

कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश में 21 सितंबर से कुछ स्कूल खोले जाएंगे। हालांकि यहां नियमित कक्षाएं नहीं चलेंगी और छात्र गाइडेंस के लिए टीचर्स से मदद ले सकेंगे। हिमाचल में 50फीसदी छात्रों को स्कूल बुलाया गया है। वहीं मेघालय में भी कुछ स्कूल कॉलेज 21 सितंबर से खुल जाएंगे। मेघालय में भी अभी छात्रों की 50 प्रतिशत उपस्थिति रहेगी और नियमित कक्षाएं नहीं होंगी।

Continue Reading

शिक्षा

दिल्ली में फीस न जमा करने पर प्राइवेट स्कूल में बच्चों का नाम लिस्ट से काटा, आदेश गुप्ता ने दिल्ली सरकार को घेरा

Published

on

दिल्ली के कई प्राइवेट स्कूलों ने कोरोना लॉकडाउन के बीच फीस का भुगतान नहीं करने वाले छात्रों को ऑनलाइन क्लास देने से मना कर रहे हैं। कुछ स्कूलों ने तो पहले से ही ऑनलाइन क्लासेस से छात्रों के नाम हटा दिए हैं जबकि कुछ ने नोटिस जारी कर चेतावनी दी है कि यदि फीस नहीं दी तो बच्चों को ऑनलाइन क्लास नहीं दी जाएगी।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि कई प्रमुख प्राइवेट स्कूल है जिन्होंने फीस न जमा होने के कारण ऑनलाइन क्लास से बच्चों का नाम काट दिया है और उनके अभिभावकों को व्हाट्सएप ग्रुप से भी निकाल दिया है जिसकी शिकायत स्वयं अभिभावकों ने दी है। दिल्ली सरकार को प्राइवेट स्कूलों की मनमानी क्यों नहीं दिख रही है? इस अनदेखी से तो साफ जाहिर है कि दिल्ली सरकार ने प्राइवेट स्कूलों को अपनी मनमानी करने की छूट दे रखी है।

गुप्ता ने कहा कि पहले भी शिक्षा निदेशालय ने बीते 30 अगस्त को दिल्ली के सभी निजी स्कूलों को निर्देश दिया था कि वे उन छात्रों को ऑनलाइन कक्षाओं में प्रवेश से मना न करें जिनके माता-पिता कुछ कारणवश लॉकडाउन के दौरान फीस का भुगतान करने में असमर्थ थे। लेकिन निर्देशों के बावजूद प्राइवेट स्कूल ट्यूशन फीस के साथ-साथ अन्य फीस की मांग रखी।

उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूलों के लिए दिल्ली सरकार द्वारा जारी किया गया निर्देश भी अन्य निर्देशों की तरह दिखावटी है। यह आदेश दिल्ली के लोगों को दिखाने के लिए है कि दिल्ली सरकार उनकी समस्याओं का समाधान कर रही है लेकिन वास्तविकता में दिल्ली सरकार प्राइवेट स्कूलों के साथ मिलीभगत कर अपनी जेब भरने में लगी है। बच्चों की शिक्षा और उनके अभिभावकों की आर्थिक स्थिति से दिल्ली सरकार का कोई सरोकार नहीं है इसलिए दिल्ली सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का क्रियान्वयन धरातल पर नहीं होता है।

Continue Reading

देश

जेएनयू मामला:- दिल्ली पुलिस को कोर्ट की फटकार, चार्जशीट दाखिल करने के लिए दिल्ली पुलिस के पास नही है लीगल डिपार्टमेंट की मंजूरी

Published

on

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित 10 छात्रों के खिलाफ कथित देशद्रोह के मामले में दिल्ली की अदालत ने पुलिस को फटकार लगाई है. कोर्ट ने पुलिस से दिल्ली सरकार से मंजूरी लिए बिना चार्जशीट दायर करने पर सवाल खड़े किए.इस मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा, ‘आपके पास लीगल डिपार्टमेंट की मंजूरी नहीं है. आपने सरकार की अनुमति के बिना चार्जशीट कैसे दाखिल कर दी.’ इस पर दिल्ली पुलिस ने बताया कि 10 दिन के अंदर दिल्ली सरकार से चार्जशीट के लिए ज़रूरी मंजूरी मिल जाएगी.दरअसल देशद्रोह के मामले में CRPC के सेक्शन 196 के तहत जब तक सरकार मंजूरी नहीं दे देती, तब तक कोर्ट चार्जशीट पर संज्ञान नहीं ले सकता.दरअसल दिल्ली पुलिस ने यहां पटियाला हाउस कोर्ट में जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ 1200 पन्नों का आरोपपत्र दाखिल करते हुए कहा कि वह परिसर में एक कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे थे और उन पर फरवरी 2016 में यूनिवर्सिटी कैंपस में देश विरोधी नारों का समर्थन करने का आरोप है.
पुलिस ने कोर्ट के सामने दावा किया था कि जेएनयू छात्र संघ के पूर्व नेता कन्हैया कुमार ने सरकार के खिलाफ नफरत और असंतोष भड़काने के लिए 2016 में भारत विरोधी नारे लगाए थे. पुलिस ने आरोपपत्र में कई गवाहों के बयानों का हवाला देते हुए कहा है कि नौ फरवरी 2016 को यूनिवर्सिटी कैंपस में कन्हैया प्रदर्शनकारियों के साथ चल रहे थे और काफी संख्या में अज्ञात लोग नारेबाजी कर रहे थे.ये भी पढ़ें- ‘देशविरोधी नारे लगाने के आरोपी कश्मीरियों के संपर्क में था उमर खालिद’गौरतलब है कि संसद हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरू को दी गई फांसी की बरसी पर कैंपस में इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. आरोपपत्र के मुताबिक गवाहों ने यह भी कहा कि कन्हैया घटनास्थल पर मौजूद था, जहां प्रदर्शनकारियों के हाथों में अफजल के पोस्टर थे. ‘अंतिम रिपोर्ट में कहा गया है कि कन्हैया ने सरकार के खिलाफ नफरत और असंतोष भड़काने के लिए खुद ही भारत विरोधी नारे लगाए थे.’इसमें कहा गया है कि एजेंसी ने जिन साक्ष्यों को शामिल किया है, उनमें जेएनयू की उच्चस्तरीय कमेटी, जेएनयू के कुलसचिव भूपिंदर जुत्सी का बयान और मोबाइल फोन रिकार्डिंग (जिसमें कुमार को कार्यक्रम के रद्द होने को लेकर बहस करते सुना गया) शामिल है. इसमें कहा गया है, ‘कन्हैया ने उनसे (जुत्सी) से यह भी कहा कि इजाजत के बगैर भी कार्यक्रम करेंगे.’आंकड़ों से समझिए मुल्क में कितने देशद्रोही हैंपुलिस ने जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य के बारे में कहा कि उन्होंने भारत विरोधी नारे लगाए थे.
आरोपपत्र में कहा गया है कि कई वीडियो में उमर खालिद को नारे लगाते देखा गया है, जिससे उसकी मौजूदगी की पुष्टि हुई है. उसके मोबाइल फोन की लोकेशन का भी बतौर साक्ष्य इस्तेमाल किया गया. वहीं रामा नागा के बारे में आरोपपत्र में कहा गया है कि उसने आरएसएस के खिलाफ भाषण दिए थे.इस मामले में करीब तीन साल बाद आरोपपत्र दाखिल करने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही दिल्ली पुलिस ने कहा है कि इस तरह के मामलों में आमतौर पर इतना वक्त लग जाता है क्योंकि इसके तहत देश भर में जांच की गई और इसमें ढेर सारे रिकार्ड तथा सबूत शामिल थे

Continue Reading

Trending