Connect with us

देश

क्या किसी का कलेजा नहीं फटता कि हम इन युवाओं की क्षमता का किस निर्ममता से हत्या कर रहे हैं?

Published

on

भारत से अमरीका पढ़ने जाने वाले छात्रों की संख्या में इस साल 12.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। चीन से जाने वाले छात्रों की संख्या में 6.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

लगातार तीन साल से अमरीका जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या बढ़ती जा रही है। 186,267 छात्र अमरीका गए हैं। अमरीकी यूनिवर्सिटी में पचास फीसदी छात्र भारत और चीन से पढ़ रहे हैं।

बिजनेस स्टैंडर्ड में विनय उमर जी की रिपोर्ट है। यह वृद्धि तब है, जब अमरीका ने वीज़ा मिलने की प्रक्रिया को जटिल और धीमा कर दिया है।

जिन्हें पढ़ना है और जो सक्षम हैं, वो यहां से निकल लिए। उन्हें पता है कि भारत की यूनिवर्सिटी किसी लायक नहीं बची है। उनका भरोसा सिर्फ नेता में रह गया है। स्कूल कालेज और अस्पताल में नहीं। यह सही भी है कि भारत की यूनिवर्सिटी कबाड़खाने से ज़्यादा नहीं हैं।

पिछले दिनों फाइनेंशियल एक्सप्रेस में एक और रिपोर्ट आई थी। भारत की उच्च शिक्षा का बजट 25,000 करोड़ है। अमरीका में भारतीय छात्र जो अपनी पढ़ाई के लिए निवेश कर रहे हैं वो 42,000 करोड़ से ज़्यादा है।

अब भी आप हिन्दू मुस्लिम टापिक में ही धंसे रहना चाहते हैं तो आपकी मर्ज़ी। भविष्य बर्बाद हो रहा है और नेता आपका इतिहास टीवी पर करेक्ट करवा रहा है। धंसे रहिए इस दलदल में।

कम से कम आई टी सेल के लिए ट्रोल की कमी नहीं होगी। जो लोग आईआईटी नहीं कर पाते हैं वो आज कल आईटी सेल में चले जाते हैं।

दो चार आई आई टी हैं, आई आई एम हैं, कुछ कालेज हैं, उन्हीं को पिछले बीस साल से क्लास के क्लास में योग्य शिक्षक नहीं हैं। शिक्षकों की भर्ती होती नहीं, होती है तो राजनीतिक मुख्यालयों से पर्ची कटाकर हो रही है। हमारे नौजवान किसी भी शिक्षक को स्वीकार कर लेते हैं। क्योंकि वे इस लायक ही नहीं होते हैं कि अच्छे शिक्षक और बुरे शिक्षक में फर्क कर सकें। जिन स्कूलों से कालेज आते हैं वहां भी कहां सबको अच्छे शिक्षक मिलते हैं।

यह कैसा युवा है जो क्लास न हो तो मंज़ूर, परीक्षा में चोरी हो तो मंज़ूर, टीचर न मिले, लैपटॉप मिल जाए तो वह मंज़ूर, लाइब्रेरी न हो, वह भी मंंज़ूर। कितने लोगों का ढंग से पढ़ने का सपना रोज़ ध्वस्त होता होगा।

कस्बों में दूर- दूर से लड़कियां बसों में आती हैं कि कालेज में पढ़ाई होगी, नहीं होती है। लड़के भी जाते हैं मगर किसी को पता ही नहीं कि घटिया मास्टर ने घटिया पढ़ाकर उल्लू बनाया है।

ऐसे नौजवान टीवी पर बांचे जा रहे कचरे की तरह इतिहास को किताब न समझेंगे तो कौन समझेगा। सिस्टम ने जिस लायक बनाया है, ज़्यादातर उसी लायक परफार्म कर रहे हैं।
इसलिए भारत के युवा चाहें जितने प्रतिशत हैं, नेता उन्हें बोरी में रखे आलू से ज़्यादा नहीं समझते हैं। युवा भी नेताओं को ग़लत साबित नहीं करते हैं।

भारत के नौजवानों को उल्लू बनाना सबसे आसान है। जो न बनाया उसने नेतागिरी ही क्या की। क्या किसी का कलेजा नहीं फटता कि हम इन युवाओं की क्षमता का किस निर्ममता से हत्या कर रहे हैं? क्या युवाओं को ही फर्क नहीं पड़ता है क्या?

(ये लेखक के निजी विचार हैं। रवीश कुमार एनडीटीवी के सीनियर एक्जीक्यूटिव एडिटर हैं।)

देश

मौसम विभाग:- दिल्ली सहित कई राज्यों में अगले 5 दिन तक बरसेंगे बादल, उत्तराखंड में अलर्ट

Published

on

By

दिल्ली-एनसीआर में देरी से ही सही पर बारिश आने के बाद मौसम खुशनुमा हो गया है। मौसम विभाग ने कहा है कि आने वाले 4-5 दिन दिल्ली में हल्कि तो वहीं, हिमाचल, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भारी से बहुत बारिश देखने को मिल सकती है। मौसम विभाग की मानें तो पंजाब और हरियाणा के अलग-अलग इलाकों में हल्की से तेज बारिश हो सकती है। वहीं राजस्थान के कुछ जिलों में बादल गरजने के साथ बिजली गिरने का अनुमान लगाया गया है। वहीं, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी भारी बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। मध्य महाराष्ट्र और गोवा के लिए बुधवार को रेड अलर्ट जारी किया गया था।

दिल्ली में छह दिनों तक बारिश

मानसून की पहली झमाझम बरसात में बुधवार को दिल्ली के ज्यादातर हिस्से भीग गए। इसके चलते दिल्ली के लोगों को गर्मी और उमस से खासी राहत मिली है। राजधानी के रिज मौसम केंद्र ने दिन के समय 107.4 मिलीमीटर बरसात रिकॉर्ड की, जो दिल्ली में सबसे ज्यादा रही।मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले छह दिनों कर  दिल्ली में हल्की बारिश हो सकती है। गुरुवार के कुछ इलाकों में हल्कि बारिश देखने को मिलेगी जबकि, शुक्रवार को बारिश की गतिविधि कम रहेगी। कहीं-कहीं ही हल्की बूंदाबांदी होने की संभावना है। शनिवार को हल्की बारिश के आसार हैं, जबकि रविवार के दिन मध्यम व भारी बारिश की संभावना जताई गई है।

यूपी के कुछ इलाकों में बारिश का अनुमान

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कई इलाकों में आज बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग ने कहा है कि यहां गुरुवार से मौसम बदल सकता है। राज्य के कुछ इलाकों में बादल छाए रहेंगे तो कुछ इलाकों में हल्कि बारिश देखने को मिलेगी। लेकिन हारनपुर, मेरठ, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, अमरोहा, मुरादाबाद, रामपुर, पीलीभीत, बलिया, लखीमपुर खीरी समेत कई इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

उत्तराखंड में भारी से बहुत भारी बारिश का अलर्ट 

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, गुरुवार के लिए राज्य में कोई अलर्ट नहीं है। हालांकि, कई जगह हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। 16 जुलाई को देहरादून और नैनीताल में भारी बारिश की संभावना है। 17 को उत्तरकाशी, देहरादून, नैनीताल, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ में कहीं कहीं भारी से बहुत भारी बारिश संभव है। 18 को देहरादून, पौड़ी, बागेश्वर, नैनीताल, पिथौरागढ़ में कहीं कहीं भारी से बहुत भारी बारिश का येलो अलर्ट रहेगा। पिछले 24 घंटे में राज्यभर में झमाझम बारिश हुई है।

हरियाणा, पंजाब और राजस्थान का मौसम

मौसम विभाग ने कहा है कि हरियाणा और पंजाब में हल्कि से मध्यम बारिश देखने को मिलेगी। वहीं राजस्थान के कुछ जिलों में बादल छाए रहने और वज्रपात की आशंका जताई है। मौसम विभाग ने कहा है कि अगले 24 घंटों के दौरान कोटा, बारां, सिरोही, सवाईमाधोपुर, टोंक, बाडमेर, पाली, जालौर जिलों में कहीं कहीं बादल गरजने के साथ-साथ वज्रपात की भी संभावना है।दिल्ली-एनसीआर में देरी से ही सही पर बारिश आने के बाद मौसम खुशनुमा हो गया है। मौसम विभाग ने कहा है कि आने वाले 4-5 दिन दिल्ली में हल्कि तो वहीं, हिमाचल, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भारी से बहुत बारिश देखने को मिल सकती है। मौसम विभाग की मानें तो पंजाब और हरियाणा के अलग-अलग इलाकों में हल्की से तेज बारिश हो सकती है। वहीं राजस्थान के कुछ जिलों में बादल गरजने के साथ बिजली गिरने का अनुमान लगाया गया है। वहीं, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी भारी बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। मध्य महाराष्ट्र और गोवा के लिए बुधवार को रेड अलर्ट जारी किया गया था। 

 

Continue Reading

देश

बिहार चुनाव के बीच शाहनवाज़ हुसैन और राजीव प्रताप रूडी कोरोना संक्रमित पाए गए

Published

on

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर जहां सभी दलों की तरफ से प्रचार अभियान जारी है. इसी बीच बिहार बीजेपी के दो बड़े नाम राजीव प्रताप रुडी (Rajiv Pratap Rudy) और शाहनवाज़ हुसैन (Shahnawaz Hussain) कोरोना संक्रमित हो गए हैं. साथ ही उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय की तबियत भी ठीक नहीं है . हालांकि सुशील मोदी की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव है लेकिन ये दोनों नेताओं ने भी फ़िलहाल अपने आपको आइसोलेट कर लिया है.

 

बताते चले कि कोरोना संकट के बीच बिहार विधानसभा का चुनाव तीन चरणों में हो रहा है. पहले चरण के लिए  28 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे. वहीं नतीजों का ऐलान 10 नवंबर 2020 को किया जाएगा.  आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जहां पहले चरण में जहां 16 जिलों की 71 सीटों पर मतदान होगा तो वहीं दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर मतदान किया जाएगा. इसके अलावा तीसरे और अंतिम चरण में 15 जिलों की 78 सीटों पर मतदाता अपने अधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे.

Continue Reading

देश

रिया के बेल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगी NCB, बढ़ सकती है मुश्किलें

Published

on

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की अत्महत्या के मामले में ड्रग कनेक्शन को लेकर गिरफ्तार अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को ज़मानत दी। रिया को कोर्ट ने 28 दिन बाद एक लाख रुपये के मुचलके पर सशर्त जमानत दी है। वहीं रिया के भाई शोविक चक्रवर्ती की ज़मानत याचिका खारिज कर दी है।

जमानत मिलने के बाद भी रिया की मुश्किलें अभी खत्म नहीं ही है। जांच एजेंसी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने जमानत का विरोध दिया है। अतिरिक्त महाधिवक्ता अनिल सिंह ने जमानत के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने रिया के अलावा सुशांत के स्टाफ दीपेश सावंत और सैमुअल मिरांडा को भी जमानत दी है। वहीं अब्दुल बासित की ज़मानत याचिका खारिज कर दी गई है।

न्यायमूर्ति एस.वी. कोतवाल, जिन्होंने पिछले सप्ताह जमानत अर्जी संबंधी सुनवाई पूरी की थी, उन्होंने बुधवार सुबह फैसला सुनाया। एनसीबी द्वारा 9 सितंबर को ड्रग से संबंधित मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद, रिया ने 28 दिन हिरासत में बिताए हैं। उन्हें मंगलवार को एक विशेष एनडीपीएस अदालत ने 20 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

कोर्ट के आदेश का स्वागत करते हुए, मानशिंदे ने कहा, “सच्चाई और न्याय की जीत हुई है।”उन्होंने कहा, रिया की गिरफ्तारी और हिरासत पूरी तरह से अनुचित थी। तीन केंद्रीय एजेंसियों – सीबीआई, ईडी और एनसीबी – रिया के पीछे पड़ गई थी और अब यह सब खत्म होना चाहिए। हम सच्चाई के लिए प्रतिबद्ध हैं। सत्य मेव जयते।

बता दें अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच के दौरान सामने आए ड्रग्स एंगल के मामले में एनसीबी द्वारा रिया, शोविक सहित 19 को अगस्त-सितंबर के दौरान गिरफ्तार किया गया था। उन लोगों में चक्रवर्ती भाई-बहन, सुशांत के कर्मचारी दीपेश सावंत, सैमुएल मिरांडा, कई ड्रग पेडलर, सप्लायर और फिल्म उद्योग से जुड़े व्यक्ति शामिल हैं।

सितंबर के अंत तक गिरफ्तार किए गए अन्य लोग हैं–अब्बास लखानी, करण अरोरा, जैद विलात्रा, अब्दुल बासित परिहार, कैजान इब्राहिम, अनुज केसवानी, अंकुश अरनेजा, कमरजीत सिंह आनंद, संकेत पटेल, संदीप गुप्ता, आफताब अंसारी, दिव्या फर्नांडिस, सूर्यदीप मल्होत्रा, क्रिस कोस्टा, राहिल विश्राम और क्षितिज आर. प्रसाद। अभियुक्तों में से कुछ को जमानत मिल गई है, अन्य अलग-अलग अवधि के लिए हिरासत में हैं क्योंकि एनसीबी की जांच कई अन्य अभिनेत्रियों से पूछताछ के साथ जारी है।

Continue Reading

Trending