Connect with us

विदेश

ईरान में राष्ट्रपति हसन रूहानी के खिलाफ प्रदर्शन हुआ उग्र, राष्ट्रपति रूहानी का प्रदर्शनकारियों को चेतावनी

Published

on

ईरान: बीते गुरुवार को ईरान का दूसरा सबसे बड़ा शहर मशहद में सरकार के खिलाफ लोगों का अचानक सड़क पर आ कर प्रदर्शन करना पुरे महकमे को सकते में डाल दिया, जब देश में बढ़ रहे महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार के खिलाफ हजारों महिला एवं पुरुष अचानक ही सड़कों पर आकर सरकार और राष्ट्रपति हसन रूहानी के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे|

इसी बीच राष्ट्रपति हसन रूहानी ने प्रदर्शनकारियों को चेतावनी दिया उनका कहना है की प्रदर्शनकारी बिना इजाजत प्रदर्शन कर रहे है,सरकार की इस चेतावनी के बावजूद ईरान के कई सहरों में सरकार का विरोध जारी है, इन प्रदर्शनों में ईरान के बिभिन्न सहरों में तक़रीबन 12 लोगों की मौत हो चुकी है|

वह की सरकारी टेलीविजन के अनुसार रविवार की रात ईरान के बिभिन्न शहरों में करीब 10 लोगों की मौत हुई है हालाँकि सरकार के तरफ से कोई आधिकारिक आंकड़ा पेश नहीं किया गया है|

राजधानी तेहरान के इंघेलाब स्क्वायर में रविवार शाम पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले दागे, इसके अलावा खोर्मावाद, शाहीनशहर, तोयसेरकन,चाह्बहार,सनानदज,इलाम,इजेह सहित कई शहरों में विरोध प्रदर्शन की ख़बरें हैं|

पुरे ईरान में पिछले चार दिनों में करोब 400 लोगों को हिरासत में लिया गया, सरकार की भ्रष्ट नीतियों, महंगाई और भ्रष्टाचार के विरुद्ध एक शहर से शुरू ये प्रदर्शन अब पुरे देश में फ़ैल गया और अब इसने राजनितिक रूप भी ले लिया है, जहाँ एक तरफ रूहानी के राजनैतिक विरोध करने वाले इस प्रदर्शन का फायदा उठाते हुए प्रदर्शनकारियों के साथ नजर आ रहे है वही दूसरी तरह राष्ट्रपति हसन रूहानी लगातार शांति बनाये रखने की अपील कर रहे है|

ईरान के इस प्रदर्शन की गूंज अब पुरे देश सहित विदेशों में भी दिखाई दे रहा है, लन्दन में रह रहे ईरानी नागरिक और राष्ट्रपति हसन रूहानी के विरोधियों ने ईरानी दूतावास के बहार प्रदर्शन कर ईरान में चल रहे विरोध को अपना समर्थन दिया|

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विदेश

दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों में शामिल हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, टाइम मैगजीन के एडिटर ने कहा “बीजेपी ने मुसलमानों को खारिज कर दिया”

Published

on

अमेरिका की मशहूर पत्रिका टाइम ने दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी शामिल किया है। इस सूची में शामिल अन्‍य भारतीय लोगों में गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई, अभिनेता आयुष्‍मान खुराना, एचआईवी पर शोध करने वाले रविंदर गुप्‍ता और शाहीन बाग धरने में शामिल बिल्किस भी शामिल हैं। टाइम मैगजीन ने प्रधानमंत्री मोदी के बारे में लिखे अपने लेख में कई तल्‍ख टिप्‍पण‍ियां की हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के अलावा इस लिस्‍ट में शी जिनपिंग, ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई इंग वेन, डोनाल्‍ड ट्रंप, कमला हैरिस, जो बाइडन, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल समेत दुनियाभर के कई नेता शामिल हैं। टाइम मैगजीन ने पीएम मोदी के बारे में लिखा, ‘लोकतंत्र के लिए सबसे जरूरी स्‍वतंत्र चुनाव नहीं है। इसमें केवल यह पता चलता है कि किसे सबसे अधिक वोट मिला है। इससे ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण उन लोगों का अधिकार है जिन्‍होंने विजेता के लिए वोट नहीं दिया। भारत 7 दशकों से अधिक समय से दुनिया का सबसे बड़ा लोक‍तंत्र रहा है। भारत की 1.3 अरब की आबादी में ईसाई, मुस्लिम, सिख, बौद्ध, जैन और अन्‍य धर्मों के लोग शामिल हैं।’

‘BJP ने भारत के मुसलमानों को खारिज कर दिया’

टाइम मैगजीन के एडिटर कार्ल विक ने लिखा, ‘यह सब भारत में है जिसे अपने जीवन का ज्‍यादातर समय शरणार्थी के रूप में गुजारने वाले दलाई लामा ने सद्भाव और स्थिरता का उदाहरण बताया है। नरेंद्र मोदी ने इन सभी को संदेह में ला दिया है। भारत के ज्‍यादातर प्रधानमंत्री करीब 80 फीसदी आबादी वाले हिंदू समुदाय से आए हैं लेकिन केवल मोदी ही ऐसे हैं जिन्‍होंने ऐसे शासन किया जैसे उनके लिए कोई और मायने नहीं रखता है।’

कार्ल विक ने लिखा, ‘नरेंद्र मोदी सशक्तिकरण के लोकप्रिय वादे के साथ सत्‍ता में आए लेकिन उनकी हिंदू राष्‍ट्रवादी पार्टी बीजेपी ने न केवल उत्कृष्टता को बल्कि बहुलवाद खासतौर पर भारत के मुसलमानों को खारिज कर दिया। बीजेपी के लिए अत्‍यंत गंभीर महामारी असंतोष को दबाने का जरिया बन गया। और दुनिया का सबसे जीवंत लोकतंत्र अंधेरे में घिर गया है।’ बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान टाइम मैगजीन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘भारत का डिवाइडर इन चीफ’ यानी ‘प्रमुख विभाजनकारी’ बताया था।

हालांकि टाइम ने नतीजों के बाद उन पर एक और आर्टिकल छापा था। दूसरे आर्टिकल का शीर्षक था- ‘मोदी हैज यूनाइटेड इंडिया लाइक नो प्राइम मिनिस्टर इन डेकेड्स’ यानी ‘मोदी ने भारत को इस तरह एकजुट किया है जितना दशकों में किसी प्रधानमंत्री ने नहीं किया’। इस आर्टिकल को मनोज लडवा ने लिखा है जिन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान ‘नरेंद्र मोदी फॉर पीएम’ अभियान चलाया था। आर्टिकल में लिखा गया है, ‘उनकी (मोदी) सामाजिक रूप से प्रगतिशील नीतियों ने तमाम भारतीयों को जिनमें हिंदू और धार्मिक अल्पसंख्यक भी शामिल हैं, को गरीबी से बाहर निकाला है। यह किसी भी पिछली पीढ़ी के मुकाबले तेज गति से हुआ है।’

Continue Reading

विदेश

चीन की साजिश का पर्दाफाश, सेना को पीछे हटाने के बहाने LAC पर तैनात की अतिरिक्त टुकड़ी

Published

on

भारत और चीन के बीच लद्दाख स्थित एलएसी पर पिछले चार महीनों से तनाव जारी है। इस बीच चीन का दोहरा रवैया एक बार फिर उजागर हो गया है। जहां एक तरफ चीन लगातार अपने सैनिकों को पीछे हटाने की बात कहने के साथ भारत से भी परस्पर पीछे हटने की मांग कर रहा है। वहीं, दूसरी तरफ चीनी सेना लगातार एलएसी पर खुद को मजबूत करती जा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन ने 29-30 अगस्त को भारत द्वारा रेजांग ला की पहाड़ियों पर चढ़ाई करने के बाद से अब तक सैनिकों की तीन बटालियन एलएसी पर तैनात कर ली हैं। चीन ने एक बटालियन रेकिन ला पर रखी है, जबकि दो बटालियन स्पांगुर लेकर पर रखी हैं। यह सभी 63 कंबाइंड आर्म्स ब्रिगेड का हिस्सा हैं, जो शिकवान में मौजूद हैं।

जून मध्य में गलवान में हुई झड़प के बाद से दोनों देशों के बीच विवाद गहरा गया है। पिछले दो महीने में चीनी सेना ने सिर्फ पूर्वी लद्दाख के हिस्से पर ही घुसपैठ की कोशिश नहीं की, बल्कि अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और उत्तराखंड से लगी सीमाओं से भी भारत में दाखिल होने की कोशिश की। कुछ इंटेलिजेंस रिपोर्ट्स में इस बात का खुलासा भी किया गया है।

इससे पहले लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच ताजा टकराव के बाद बीजिंग ने पारस्परिक चर्चा के माध्यम से आने वाली भीषण ठंड के चलते सैनिकों की जल्द से जल्द वापसी की मंगलवार को उम्मीद जताई थी। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजान ने भारत और चीन द्वारा एक-दूसरे पर सोमवार को पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के पास हवा में गोलियां चलाने का आरोप लगाए जाने के कुछ घंटे बाद सैनिकों की वापसी की यह उम्मीद जताई।

 

 

Continue Reading

विदेश

भारत में अपना असेंबली प्लांट बंद करेगी प्रीमियम मोटरसाइकिल ब्रांड Harley Davidson

Published

on

प्रीमियम अमेरिकन मोटरसाइकिल ब्रांड Harley Davidson के चाहने वालों के लिए बुरी खबर है. दरअसल कंपनी ने भारत में कारोबार बंद करने की बात कहकर सबको चौंका दिया है. कंपनी का कहना है कि भारत में बाइक्स ( harley bikes) का कारोबार उसके लिए घाटे का सौदा साबित हो रहा है और यही वजह है कि अब कंपनी ने भारत में अपना असेंबली प्लान बंद करने की तैयारी में है. Harley Davidson की कीमत की वजह से इसे खरीदार नहीं मिल पाते जिसकी वजह से कंपनी को घाटा उठाना पड़ रहा है. हालांकि, वो भारतीय बाजार में बाइक की बिक्री जारी रखेगी.

40 से 50 हजार रुपए बढ़ सकती है कीमत- असेंबली बंद करने का फैसला उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया प्रशांत के उन हिस्सों में लिया गया है, जहां पर कंपनी की गाड़ियों के सेल्स डाउन हुई है. कंपनी से जुड़े एक सोर्स ने बताया कि कंपनी सिर्फ अपनी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट को बंद कर रही है. बाइक की मार्केटिंग और सेल्स जारी रहेगी. अब भारत में बाइक को थाइलैंड से इम्पोर्ट किया जाएगा. ऐसे में बाइक की कीमत 40 से 50 हजार रुपए बढ़ सकती है. कंपनी के सीईओ जोशन जेट्ज ने कहा है कि हार्ले केवल उन्ही देशों में कारोबार को जारी रखेगी जहां कंपनी को मुनाफा बढ़ने के आसार हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी ऐसे किसी भी देश में व्यापार नहीं करेगी जहां उसे नुकसान हो रहा है.

फाइनेंशियल ईयर (2019-2020) में कंपनी ने भारत में केवल 2,500 बाइक बेचे हैं, जबकि इस साल अप्रैल से जून की अवधि के बीच कंपनी केवल 100 बाइक ही बेच पाई है. जुलाई में दूसरी तिमाही के रिजल्ट के साथ एक बयान में हार्ले- डेविडसन ने कहा था कि कंपनी अंतरराष्ट्रीय बाजारों से बाहर निकलने की योजना का मूल्यांकन कर रही है.

Harley Davidson स्ट्रीट 750, Street ROD हैं. कंपनी ने भारत में हार्ले-डेविडसन स्ट्रीट 650 जैसे किफायती मॉडलों को बाजार में उतारा है, लेकिन यह बाइक रॉयल एनफील्ड के 650 cc मॉडल से कहीं अधिक महंगी है. कम कीमत में बेहतरीन फीचर्स देने वाली अन्य कंपनियों ने भारत में हार्ले-डेविडसन की बिक्री को खासा प्रभावित किया है. हार्ले डेविडसन ने अपनी एंट्री-लेवल Street 750 मोटरसाइकिल की कीमत भी घटा दी है. भारतीय बाजार में अब इस बाइक (विविड ब्लैक कलर ऑप्शन) की एक्स-शोरूम कीमत 4.69 लाख रुपये है. यानी कंपनी ने इसकी कीमतों में 65,000 रुपये की भारी कटौती की है.

Continue Reading

Trending