Connect with us

राजनीति

बीजेपी जिसे पाकिस्तान का एजेंटऔर देशद्रोही कहती है,उसे भी अपनी पार्टी में ले सकती है।

Published

on

राम से क्या काम, छलकाइये जाम, भाजपा में नरेश आए हैं

“व्हिस्की में विष्णु बसे, रम में बसे है राम , जिन में माता जानकी, ठर्रे में हनुमान।”

उपरोक्त बयान संत तुलसीदास के नहीं बल्कि संत नरेश अग्रवाल के हैं, जो समाजवादी पार्टी से निकल कर भाजपा में आ चुके हैं। जुलाई 2017 में जब राज्य सभा में उन्होंने अमृत वचन कहे थे तब भाजपा के नेता पर आक्रोशित हुए थे। चैनलों पर हिन्दू मुस्लिम डिबेट की महफिल सज़ी थी। जनता को बहलाने का मौका मिल गया था। वह भी गुस्से में मूल सवालों को छोड़ इस आक्रोश को पी रही थी कि क्या इस देश में राम के साथ अब ये भी होगा। चैनल से लेकर सड़कों पर ब्दाश्त के बाहर का माहौल बनाया गया। इस का लाभ उठाकर सांप्रदायिकता कूट कूट कर भरी गई थी। अग्रवाल को लिखित माफी मांगनी पड़ी थी। इस बयान के आठ महीने के भीतर नरेश अग्रवाल भाजपा में हैं। रेल मंत्री उन्हें चादर ओढ़ा कर स्वागत कर रहे थे।

उस वक्त क्या क्या नहीं कहा गया। राकेश सिन्हा ने ट्विट किया था कि नरेश अग्रवाल पर महाभियोग चलाया जाना चाहिए। संसद से निकाल दिया जाना चाहिए। नेशनल इंवेस्टिगेटिंग एजेंसी और रॉ पाकिस्तान के साथ इनके संबंधों की जांच करनी चाहिए। उम्मीद है ए आई ए ने अपनी जांच पूरी कर अमित शाह को रिपोर्ट सौंप दी होगी। इससे एक बात तो साबित होता है कि बीजेपी जिसे पाकिस्तान का एजेंट कहती है, देशद्रोही कहती है, उसे भी अपनी पार्टी में ले सकती है।

एक बीजेपी नेता ने कहा था कि नरेश अग्रवाल का मुंह काला करने वाले को एक लाख का इनाम मिलेगा। बेचारा वो नेता अब उसी नरेश अग्रवाल के लिए फूल माला लेकर खड़ा रहेगा। हम राजनीति में बहुत भोले हैं। यह सब बयान नेता बहुत दूर की सोच कर देते हैं। मुमकिन है अग्रवाल जी ने व्हिस्की में विष्णु बसे, रम में श्रीराम बोलकर भाजपा का ही काम किया होगा ताकि हंगामा हो, सांप्रदायिकता फैले, नफरत फैले और पार्टी का काम हो जाए। अब वही नरेश अग्रवाल भाजपा में हैं।

जुलाई 2015 में भाजपा के संसदीय दल ने कांग्रेस शासित राज्यों में भ्रष्टाचार पर एक बुकलेट निकाला। पहले पन्ने पर असम के हेमंत विश्वा शर्मा पर आरोप लिखा हुआ था, एक महीने बाद वही बीजेपी हेमंत विश्वा शर्मा का स्वागत कर रही थी। उससे पहले बीजेपी हेमंत विश्वा शर्मा पर घूम घूम कर आरोप लगाती थी कि ये गोगोई सरकार का सबसे भ्रष्ट चेहरा है। एक महीने बाद हेमंत विश्व शर्मा बीजेपी में शामिल हो गए।

मीडिया ने चालाकी से इस सवाल को हल्का कर दिया और आप उस वक्त के जितने भी विश्लेषण गूगल से निकाल कर पढ़ेंगे, सबमें लिखा मिलेगा कि राहुल गांधी ने इनसे बात नहीं कि इसलिए इस महान संगठनकर्ता ने कांग्रेस छोड़ दी। वे हेमंत विश्वा शर्मा पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगा रहे थे बल्कि राहुल गांधी के अहंकार के सवाल को बड़ा बना रहे थे।

वो समय था जब मोदी सरकार या भाजपा के खिलाफ कहने पर आई टी सेल और समर्थकों का जमात टूट पड़ता था। जनता भी जुनून में इन सवालों पर ग़ौर नहीं कर रही थी। उसने ध्यान ही नहीं दिया कि जिस हेमंत विश्वा शर्मा पर बीजेपी बुकलेट निकाल चुकी है वह पूर्वोत्तर में उनका नायक है। आप असम के मुख्य मंत्री सोनेवाल से ज़्यादा इस नेता के बारे में ज़्यादा सुनेंगे। कहां विधायक ख़रीदना है, कहां सरकार बनानी है।

9 अप्रैल 2016 को अमित शाह ने कहा था कि हेमंत विश्वा शर्मा के खिलाफ सारे आरोपों की जांच होगी। विपक्ष का कोई नेता होता है तो सीबीआई ओवरटाइम करती है मगर अपने नेताओं की जांच भूल जाते हैं। सबको पता है हेमंत विश्वा शर्मा की छवि के बारे में। ऐसे नेता जब दूसरे दलों में होते हैं तो महाभ्रष्ट हो जाते हैं मगर भाजपा में होते हैं तो महान रणनीतिकार हो जाते हैं।

लेकिन हेमंत विश्वा शर्मा के आगमन पर एक शख्स ने विरोध किया था। आई आई एम अहमदाबाद से सीधा बीजेपी ज्वाइन करने वाले प्रद्युत बोहरा ने हेमंत विश्वा शर्मा के भाजपा में शामिल होने पर अमित शाह को एक पत्र लिखा और दस साल से ज्यादा समय तक भाजपा में रहने के बाद भाजपी छोड़ दी।

अमरीका में एक डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस है जिसने 7 जुलाई 2015 को लुई बर्गर कंपनी के खिलाफ केस किया कि इसने भारत सहित कई देशों में रिश्वत दी है। सबसे ज़्यादा रिश्वत भारत के अधिकारियों को दी है। इस कंपनी को गोवा और असम में पानी की सप्लाई के मामले में कंसलटेंसी का काम मिला था। उस आरोप पत्र में यह भी लिखा था कि कंपनी ने अधिकारियों के साथ एक मंत्री को भी रिश्वत दी है। बीजेपी ने पब्लिक में शर्मा के ख़िलाफ़ आरोप लगाए थे। तब सोनेवाल केंद्र में मंत्री थी, उन्होंने तरुण गोगोई से पूछा था कि वे क्यों चुप हैं। आज सोनेवाल चुप हैं और शर्मा उन्हीं के साथ मंत्री हैं। इस मामले की जांच कर रही सीआईडी तीन तीन बार कोर्ट में डांट खा चुकी है कि जांच में देरी क्यों हो रही है।

न खाऊंगा न खाने दूंगा। 2019 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनता के बीच जाएं तो अपना नारा बदल देना चाहिए। जो खाया है उसे बुलाऊंगा, जो दे देगा उसे भगाऊंगा। हेमंत विश्वा शर्मा पर आरोप लगाकर, अपने ही आरोपों का थूक घोंट कर भाजपा ने पूर्वोत्तर में जो कामयाबी हासिल की है उम्मीद है कि वही कामयाबी व्हिस्की में विष्णु और रम में श्री राम का दर्शन करने वाले नरेश अग्रवाल यूपी में दिला देंगे।

भ्रष्टाचार का सवाल जनता को मूर्ख बनाने का होता है। नैतिकता का प्रश्न हम लेखकों के पास ही बचा होता है। जनता भी इन प्रश्नों को नज़रअंदाज़ कर देती है। हर दल का यही हाल है। आप विपक्ष की भी गारंटी नहीं ले सकते कि उसके यहां ऐसे नेता नहीं हैं और ऐसे नेता कहीं और से नहीं आएंगे। यह बात इज़ इक्वल टू के लिए नहीं कह रहा बल्कि यह बताने के लिए आप मतदाता के तौर पर उल्लू बनने के लिए अभिशप्त हैं।

आप विरोधी होकर भी उल्लू बन सकते हैं और समर्थक होकर उल्लू बन सकते हैं। भारत की जनता इन दो चार पार्टियों में उलझ गई है। नैतिकता की स्थापना का प्रश्न बेकार प्रश्न है। राम को जम कर गाली दो, राम मंदिर वालों की पार्टी में मिल जाओ। कहीं ऐसा न हो जाए कि विपक्षी दलों के सारे भ्रष्ट, बददिमाग़ भाजपा में चले जाएं और बिना कुछ हमारे महाभ्रष्ट विपक्षी दल अपने आप ईमानदार हो जाएं! भ्रष्टाचार भारत की राजनीति की आत्मा है। इसके शरीर पर राष्ट्रवाद और धर्मनिरपेक्षता ओढ़ कर ये सब नौटंकी करते हैं। राजनीति को बदलना है तो कांग्रेस और बीजेपी से आगे सोचिए. कुछ नया सोचिए और नया कीजिए। वर्ना इज़ इक्वल टू करते रहिए। उस चुनाव में भी उल्लू बने, अगले चुनाव में भी उल्लू बनेंगे।

(यह पोस्ट मूलतः वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार के फेसबुक वाल पर प्रकाशित हुई है)

ये भी पढ़ें:बैंकों में महिला कर्मियों की हालत बद्तर, पढ़े बैंक कर्मियों द्वारा लिखा गया पत्र:रविश कुमार

ये भी पढ़ें:एक देश जिसे आज़ाद करवाने में बिहारी मजदूरों ने निभाया अहम् योगदान,आज मना रहा है 50वां स्वतंत्रता दिवस

ये भी पढ़ें:कांग्रेसमुक्त भारत का नारा लगाते लगाते भाजपा कांग्रेसयुक्त हो गई:- कन्हैया कुमार

 

(आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

 

देश

युवाओं की आवाज़ जेल और गोलियों के डर से ना पहले कभी दबी थी, ना आगे कभी दबेगी:- कन्हैया कुमार

Published

on

उमर खालिद पर  हुए जानलेवा हमले के खिलाफ देशभर के युवा एक जुट होने लगे। जहां एक तरफ छात्र नेता शेहला रशीद ने उमर के पक्ष में ट्वीट करते हुए सत्ता के नशे में चूर सत्ताधारियों को लताड़ा वहीं जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने देश मे बढ़ रहे जंगलराज पर सरकार को आड़े हाथों लेटवहुये मीडिया को भी नही छोड़ा। उन्होंने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा कि:-

देश में जंगल राज का इससे बड़ा सबूत क्या होगा कि संसद भवन से थोड़ी दूर कभी संविधान की प्रतियाँ जला दी जाती हैं तो कभी उमर ख़ालिद पर गोली चलाने जैसे अपराध को अंजाम दिया जाता है। स्वतंत्रता दिवस से पहले संसद भवन के पास किसी नागरिक पर इस तरह हमला करना यह दर्शाता है कि इस देश में अपराधियों का मनोबल कितना बढ़ गया है। इसके लिए अपराधियों को मिलने वाला सरकारी संरक्षण और दरबारी मीडिया का प्रोत्साहन जिम्मेदार है। लेकिन युवाओं की आवाज़ जेल और गोलियों के डर से ना पहले कभी दबी थी, ना आगे कभी दबेगी।

इस शर्मनाक और कायराना हमले की सिर्फ़ आलोचना करने से काम नहीं चलेगा। हमें अभी डर का माहौल बनाकर देश को लूटने वालों के ख़िलाफ़ एक बड़ा मोर्चा बनाकर बार-बार सड़कों पर निकलना होगा। भाजपा की मीनाक्षी लेखी ने आज की इस कायराना हरकत को सनसनी फैलाने वाला तमाशा बताया है। यह बयान उस पार्टी की तरफ़ से आया है जिसने लोकतंत्र को ख़ुद तमाशा बना दिया है।

कवि सर्वेश्वर दयाल सक्सेना कहते हैं-

“भेड़िया गुर्राता है
तुम मशाल जलाओ।
उसमें और तुममें
यही बुनियादी फर्क है
भेड़िया मशाल नहीं जला सकता।

अब तुम मशाल उठा
भेड़िये के करीब जाओ
भेड़िया भागेगा।”

संघ-भाजपा की नफरतवादी विचारधारा के खिलाफ सभी प्रगतिशील ताकतों को एकजुट होकर प्रेम, सद्भावना और संघर्ष की मशाल जलानी होगी क्योंकि आज अगर खामोश रहे तो कल सन्नाटा छा जाएगा।

Continue Reading

राजनीति

मेरा गला दबोचा. मुझे जमीन पर गिरा दिया और एक बंदूक निकालकर मुझ पर तान रहा था:- उमर खालिद

Published

on

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र नेता उमर खालिद पर हमले की कोशिश की गई है. उमर खालिद पर दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के पास इस अटैक की कोशिश हुई. हालांकि, किसी प्रकार की क्षति नहीं पहुंची और वह पूरी तरह सुरक्षित हैं.

यह घटना दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब इलाके की है. जानकारी के मुताबिक, उमर खालिद अपने साथियो के साथ कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के पास बैठे हुए थे. इसी दौरान कुछ लोग वहां पहुंचे और उन्होंने उमर की तरफ आने की कोशिश की. आरोप है कि इन दो में से एक शख्स के पास पिस्तौल थी. इस दौरान वहां बैठे लोगों को जब शक हुआ तो वे रुक गए और फिर वहां से फरार हो गए.

घटना के बाद उमर खालिद ने कहा कि वह जब चाय पीकर लौट रहा था तो किसी ने पीछे से हमला किया. उसका गला दबाने की कोशिश की, उसे जमीन पर गिरा दिया और बंदूक निकालकर उस पर तान दिया.

‘मैंने उसकी बंदूक गिराई’

घटना के बाद उमर खालिद ने आज तक से कहा, ‘मैं एक मुहिम से जुड़ा हूं जिसका नाम है यूनाइटेड अगेंस्ट हेट. आज उसका ढाई बजे कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में प्रोग्राम था. मैं 2:10 पर ही पहुंच गया. प्रोग्राम शुरू होने में समय था तो सोचा दोस्तों के साथ चाय पी लूं, जब चाय पीकर लौट रहा था तो किसी ने पीछे से हमला किया.

उन्होंने कहा,  ‘मेरा गला दबोचा. मुझे जमीन पर गिरा दिया और एक बंदूक निकालकर मुझ पर तान रहा था, उस समय मैंने उसकी बंदूक को दूर किया. दोस्तों ने पुश किया तो वो भागा और भागते हुए गोली की आवाज आई. पता नहीं वो कौन थे. पुलिस जांच करे और हमलावरों को पकड़े.’

खालिद ने आगे कहा, ‘मैं पहले भी निशाने पर रहा हूं. मेरी जान को खतरा है और मैंने पहले भी पुलिस से सुरक्षा मांगी थी. अमित जानी ने मारने की धमकी दी थी. डॉन रवि पुजारी ने भी धमकी दी थी. 2 बार पुलिस से सुरक्षा मांगी और अब भी सुरक्षा मांग रहा हूं.’

पुलिस को कार्यक्रम की जानकारी नहीं

उमर खालिद पर हमले के बारे में जानकारी देते हुए जॉइंट सीपी अजय चौधरी ने कहा कि उमर खालिद यहां एक कार्यक्रम में आए थे. चाय पीने के लिए जब वह बाहर निकले तभी उसी समय यह घटना घटी. पुलिस को जानकारी नहीं थी कि अंदर कोई प्रोग्राम चल रहा है. उमर का कहना है तब ही एक शख्स ने हमला किया. मौके से एक पिस्टल मिली है. फायरिंग हुई या नहीं इसकी जांच की जा रही है.

दूसरी ओर, उमर खालिद को जांच के लिए पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन ले जाया गया है. उमर पर हमले को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की नेता मीनाक्षी लेखी ने महज प्रोपेगैंडा करार दिया.

छात्र नेता शेहला रशीद ने ट्वीट कर इस घटना को चौंकाने वाला और निंदनीय करार दिया. उन्होंने कहा कि दिल्ली में उमर खालिद पर किसी ने पीछे से गोली मारने की कोशिश की. वह अभी ठीक हैं, लेकिन हम उनकी सुरक्षा को लेकर बेहद चिंतित हैं.

सड़क पर मिली पिस्तौल

आरोप है कि हमला करने आए हमलावर पिस्तौल छोड़कर वहां से फरार हो गए. ये पिस्तौल सड़क पर पड़ी मिली है. फिलहाल, पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामले की तफ्तीश की जा रही है.

Continue Reading

देश

कन्हैया कुमार का बेगूसराय दौरा कहीं 2019 के चुनाव का आगाज तो नही?

Published

on

आज कल जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार अपने गृह जनपद बेगूसराय में है और वहां पर घूम घूम कर जन सम्पर्क कर रहे है। छात्र छात्राओं से मिल रहे है और बड़े बुजुर्गों से आशीर्वाद लेते नजर आ रहे है। हाल ही में कन्हैया कुमार ने बेतिया में एक जन सभा को संबोधित किया और मोदी सरकार पर जम कर हमला किया है। वैसे तो कन्हैया कुमार हर बार ही मोदी सरकार पर हमला बोलते नजर आते है लेकिन इस बार उन के तेवर कुछ और ही कह रहे है।
हालांकि इस बात की पुष्टि करने का हमारे पास कोई सबूत नही है और ना ही हमारी कन्हैया कुमार से किसी तरह की कोई बात हुई है की इस बात को सही ठहराया जाय कि कन्हैया कुमार ने 2019 के चुनाव का आगाज कर दिया है लेकिन जिस तरह से कन्हैया कुमार जनसंपर्क और छात्र छात्राओं, बड़े बुजुर्गों के बीच पहुँच रहे है उस हिसाब से लग रहा है कि कन्हैया कुमार 2019 के चुनाव के लिए कमर कस चुके है।
पूर्व में चल रही खबरों से यह तो स्पष्ट हो ही गया है कि कन्हैया कुमार 2019 में बेगूसराय से कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार होंगे। कन्हैया कुमार राजनीति में अपना सिक्का जमा चुके है और आज की तारीख में देश के जाने माने छात्र नेताओं में से एक है।
कन्हैया कुमार को मुख्य रूप से उन के तीखे तेवर और मोदी सरकार को आड़े हाथों लेने के लिए जाना जाता है। कुछ दिन पूर्व ही कन्हैया कुमार ने अपनी पीएचडी की थीसिस जमा कर के उन तमाम मोदी समर्थकों को करारा जवाब दिया जो कि कन्हैया के कई सालों से जेएनयू में रहने पर सवाल खड़े कर रहे थे।
अपने घर पहुचते ही अपनी पीएचडी की थीसिस अपनी मां को सौंपी है। कन्हैया की मां आज भी आंगनवाड़ी में सहयका है और उसी से अपने परिवार का पालन पोषण कर रही है।

Continue Reading

Trending