Connect with us

राजनीति

मेघालय:- कांग्रेस उभरी बड़ी पार्टी बन कर लेकिन मात्र 2 सीट मिलने के बावजूद भाजपा बनाएगी सरकार

Published

on

 

दिल्ली:- पहले गोआ और अब मेघालय आखिर भाजपा ऐसा कौन सा खेल खेल रही है कि वह अगर पूर्ण बहुमत में नही भी है तो भी सरकार बना दे रही है। मेघालय में अगर साफ तौर पर देखा जाए तो भाजपा को मात्र दो ही सीट मिली है लेकि सत्र के लालच ने भाजपा को इतना अंधा कर दिया है कि वह किसी के साथ भी खड़े हो कर के सत्ता में काबिज होना चाहते है। ठीक वैसे ही जैसे जम्मू कश्मीर मव पीडीपी के साथ खड़े हो कर के सरकार बना ली।

पूर्वोत्तर का स्कॉटलैंड कहलाने वाले मेघालय में भाजपा ने रविवार को महज तीन घंटे में बाजी पलटते हुए कांग्रेस के हाथों से सत्ता छीन ली। दस साल से सरकार चला रही कांग्रेस 21 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी लेकिन सत्ता से बाहर हो गई। नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के अध्यक्ष और तूरा के सांसद कोनराड संगमा को भाजपा और अन्य दलों के समर्थन से छह मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

कोनराड पूर्व लोकसभा अध्यक्ष पीए संगमा के बेटे हैं।  दो विधायकों वाली पार्टी ने सबसे बड़े दल कांग्रेस को दी पटखनी शनिवार को घोषित चुनाव परिणाम में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर सामने आने के बाद कांग्रेस ने रात में ही राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। इस बीच भाजपा के कई दिग्गज नेता भी रात में शिलांग पहुंच गए।

रविवार सुबह से बैठकों का जो सिलसिला शुरू हुआ, उसके तीन घंटे के अंदर ही तमाम क्षेत्रीय दलों ने कोनराड संगमा के नाम पर सहमति जता दी।  छह मार्च को एनपीपी के कोनराड संगमा लेंगे सीएम पद की शपथ पूर्वोत्तर के भाजपा नेता व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू और असम के भाजपा नेता हिमंत बिस्व सरमा ने सुबह से ही गोटियां बिछाने की कवायद शुरू कर दी थी। रिजिजू ने यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी (यूडीपी) के नेता डोनकूपर राय से मुलाकात की। राज्य के मौजूदा सियासी समीकरणों में छह सीटों वाले यूडीपी का समर्थन अहम था। डोनकूपर ने बाद में एलान किया कि वह राज्य में स्थिर सरकार के गठन के लिए एनपीपी को समर्थन देंगे।

उन्होंने समर्थन के लिए एक ही शर्त रखी थी कि मुख्यमंत्री एनपीपी अध्यक्ष कोनराड संगमा को चुना जाएगा। इस बीच, रिजिजू और हिमंत ने दूसरे क्षेत्रीय दलों के साथ भी बात की। कुल मिला कर तीन घंटे में ही 34 विधायकों का समर्थन जुटाकर दो विधायकों वाली भाजपा ने बाजी पलट दी। रविवार शाम को कोनराड संगमा ने राज्यपाल के सामने अपने समर्थक 34 विधायकों की परेड करा दी। इसके बाद राज्यपाल गंगा प्रसाद ने उनको सरकार बनाने का न्योता दिया। वैसे, कांग्रेस ने भी यूडीपी से समर्थन के लिए संपर्क किया था लेकिन बात नहीं बनी। कांग्रेस के हाथों से बाजी निकलते देखकर पार्टी के तीन वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, कमलनाथ और मुकुल वासनिक दोपहर को ही शिलांग से निकल गए।

देश

युवाओं की आवाज़ जेल और गोलियों के डर से ना पहले कभी दबी थी, ना आगे कभी दबेगी:- कन्हैया कुमार

Published

on

उमर खालिद पर  हुए जानलेवा हमले के खिलाफ देशभर के युवा एक जुट होने लगे। जहां एक तरफ छात्र नेता शेहला रशीद ने उमर के पक्ष में ट्वीट करते हुए सत्ता के नशे में चूर सत्ताधारियों को लताड़ा वहीं जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने देश मे बढ़ रहे जंगलराज पर सरकार को आड़े हाथों लेटवहुये मीडिया को भी नही छोड़ा। उन्होंने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा कि:-

देश में जंगल राज का इससे बड़ा सबूत क्या होगा कि संसद भवन से थोड़ी दूर कभी संविधान की प्रतियाँ जला दी जाती हैं तो कभी उमर ख़ालिद पर गोली चलाने जैसे अपराध को अंजाम दिया जाता है। स्वतंत्रता दिवस से पहले संसद भवन के पास किसी नागरिक पर इस तरह हमला करना यह दर्शाता है कि इस देश में अपराधियों का मनोबल कितना बढ़ गया है। इसके लिए अपराधियों को मिलने वाला सरकारी संरक्षण और दरबारी मीडिया का प्रोत्साहन जिम्मेदार है। लेकिन युवाओं की आवाज़ जेल और गोलियों के डर से ना पहले कभी दबी थी, ना आगे कभी दबेगी।

इस शर्मनाक और कायराना हमले की सिर्फ़ आलोचना करने से काम नहीं चलेगा। हमें अभी डर का माहौल बनाकर देश को लूटने वालों के ख़िलाफ़ एक बड़ा मोर्चा बनाकर बार-बार सड़कों पर निकलना होगा। भाजपा की मीनाक्षी लेखी ने आज की इस कायराना हरकत को सनसनी फैलाने वाला तमाशा बताया है। यह बयान उस पार्टी की तरफ़ से आया है जिसने लोकतंत्र को ख़ुद तमाशा बना दिया है।

कवि सर्वेश्वर दयाल सक्सेना कहते हैं-

“भेड़िया गुर्राता है
तुम मशाल जलाओ।
उसमें और तुममें
यही बुनियादी फर्क है
भेड़िया मशाल नहीं जला सकता।

अब तुम मशाल उठा
भेड़िये के करीब जाओ
भेड़िया भागेगा।”

संघ-भाजपा की नफरतवादी विचारधारा के खिलाफ सभी प्रगतिशील ताकतों को एकजुट होकर प्रेम, सद्भावना और संघर्ष की मशाल जलानी होगी क्योंकि आज अगर खामोश रहे तो कल सन्नाटा छा जाएगा।

Continue Reading

राजनीति

मेरा गला दबोचा. मुझे जमीन पर गिरा दिया और एक बंदूक निकालकर मुझ पर तान रहा था:- उमर खालिद

Published

on

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र नेता उमर खालिद पर हमले की कोशिश की गई है. उमर खालिद पर दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के पास इस अटैक की कोशिश हुई. हालांकि, किसी प्रकार की क्षति नहीं पहुंची और वह पूरी तरह सुरक्षित हैं.

यह घटना दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब इलाके की है. जानकारी के मुताबिक, उमर खालिद अपने साथियो के साथ कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के पास बैठे हुए थे. इसी दौरान कुछ लोग वहां पहुंचे और उन्होंने उमर की तरफ आने की कोशिश की. आरोप है कि इन दो में से एक शख्स के पास पिस्तौल थी. इस दौरान वहां बैठे लोगों को जब शक हुआ तो वे रुक गए और फिर वहां से फरार हो गए.

घटना के बाद उमर खालिद ने कहा कि वह जब चाय पीकर लौट रहा था तो किसी ने पीछे से हमला किया. उसका गला दबाने की कोशिश की, उसे जमीन पर गिरा दिया और बंदूक निकालकर उस पर तान दिया.

‘मैंने उसकी बंदूक गिराई’

घटना के बाद उमर खालिद ने आज तक से कहा, ‘मैं एक मुहिम से जुड़ा हूं जिसका नाम है यूनाइटेड अगेंस्ट हेट. आज उसका ढाई बजे कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में प्रोग्राम था. मैं 2:10 पर ही पहुंच गया. प्रोग्राम शुरू होने में समय था तो सोचा दोस्तों के साथ चाय पी लूं, जब चाय पीकर लौट रहा था तो किसी ने पीछे से हमला किया.

उन्होंने कहा,  ‘मेरा गला दबोचा. मुझे जमीन पर गिरा दिया और एक बंदूक निकालकर मुझ पर तान रहा था, उस समय मैंने उसकी बंदूक को दूर किया. दोस्तों ने पुश किया तो वो भागा और भागते हुए गोली की आवाज आई. पता नहीं वो कौन थे. पुलिस जांच करे और हमलावरों को पकड़े.’

खालिद ने आगे कहा, ‘मैं पहले भी निशाने पर रहा हूं. मेरी जान को खतरा है और मैंने पहले भी पुलिस से सुरक्षा मांगी थी. अमित जानी ने मारने की धमकी दी थी. डॉन रवि पुजारी ने भी धमकी दी थी. 2 बार पुलिस से सुरक्षा मांगी और अब भी सुरक्षा मांग रहा हूं.’

पुलिस को कार्यक्रम की जानकारी नहीं

उमर खालिद पर हमले के बारे में जानकारी देते हुए जॉइंट सीपी अजय चौधरी ने कहा कि उमर खालिद यहां एक कार्यक्रम में आए थे. चाय पीने के लिए जब वह बाहर निकले तभी उसी समय यह घटना घटी. पुलिस को जानकारी नहीं थी कि अंदर कोई प्रोग्राम चल रहा है. उमर का कहना है तब ही एक शख्स ने हमला किया. मौके से एक पिस्टल मिली है. फायरिंग हुई या नहीं इसकी जांच की जा रही है.

दूसरी ओर, उमर खालिद को जांच के लिए पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन ले जाया गया है. उमर पर हमले को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की नेता मीनाक्षी लेखी ने महज प्रोपेगैंडा करार दिया.

छात्र नेता शेहला रशीद ने ट्वीट कर इस घटना को चौंकाने वाला और निंदनीय करार दिया. उन्होंने कहा कि दिल्ली में उमर खालिद पर किसी ने पीछे से गोली मारने की कोशिश की. वह अभी ठीक हैं, लेकिन हम उनकी सुरक्षा को लेकर बेहद चिंतित हैं.

सड़क पर मिली पिस्तौल

आरोप है कि हमला करने आए हमलावर पिस्तौल छोड़कर वहां से फरार हो गए. ये पिस्तौल सड़क पर पड़ी मिली है. फिलहाल, पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामले की तफ्तीश की जा रही है.

Continue Reading

देश

कन्हैया कुमार का बेगूसराय दौरा कहीं 2019 के चुनाव का आगाज तो नही?

Published

on

आज कल जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार अपने गृह जनपद बेगूसराय में है और वहां पर घूम घूम कर जन सम्पर्क कर रहे है। छात्र छात्राओं से मिल रहे है और बड़े बुजुर्गों से आशीर्वाद लेते नजर आ रहे है। हाल ही में कन्हैया कुमार ने बेतिया में एक जन सभा को संबोधित किया और मोदी सरकार पर जम कर हमला किया है। वैसे तो कन्हैया कुमार हर बार ही मोदी सरकार पर हमला बोलते नजर आते है लेकिन इस बार उन के तेवर कुछ और ही कह रहे है।
हालांकि इस बात की पुष्टि करने का हमारे पास कोई सबूत नही है और ना ही हमारी कन्हैया कुमार से किसी तरह की कोई बात हुई है की इस बात को सही ठहराया जाय कि कन्हैया कुमार ने 2019 के चुनाव का आगाज कर दिया है लेकिन जिस तरह से कन्हैया कुमार जनसंपर्क और छात्र छात्राओं, बड़े बुजुर्गों के बीच पहुँच रहे है उस हिसाब से लग रहा है कि कन्हैया कुमार 2019 के चुनाव के लिए कमर कस चुके है।
पूर्व में चल रही खबरों से यह तो स्पष्ट हो ही गया है कि कन्हैया कुमार 2019 में बेगूसराय से कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार होंगे। कन्हैया कुमार राजनीति में अपना सिक्का जमा चुके है और आज की तारीख में देश के जाने माने छात्र नेताओं में से एक है।
कन्हैया कुमार को मुख्य रूप से उन के तीखे तेवर और मोदी सरकार को आड़े हाथों लेने के लिए जाना जाता है। कुछ दिन पूर्व ही कन्हैया कुमार ने अपनी पीएचडी की थीसिस जमा कर के उन तमाम मोदी समर्थकों को करारा जवाब दिया जो कि कन्हैया के कई सालों से जेएनयू में रहने पर सवाल खड़े कर रहे थे।
अपने घर पहुचते ही अपनी पीएचडी की थीसिस अपनी मां को सौंपी है। कन्हैया की मां आज भी आंगनवाड़ी में सहयका है और उसी से अपने परिवार का पालन पोषण कर रही है।

Continue Reading

Trending