Connect with us

शिक्षा

करेंगे पॉलिटिक्स करेंगे प्यार, संघ परिवार खबरदार : कन्हैया कुमार

Published

on

दिल्ली:- करेंगे पॉलिटिक्स, करेंगे प्यार”। इस नारे से घबराने वाले संघी ही डीयू में कँवलप्रीत कौर पर हमला करने की कोशिश करने जैसा शर्मनाक और कायराना काम कर सकते हैं। आज सत्यवती कॉलेज में जब कँवलप्रीत डिजिटल दुनिया में महिलाओं की सुरक्षा के मसले पर अपनी बात रखने के लिए गईं तब संघी गुंडों ने उन पर हमला करने की कोशिश की। अगर वहाँ प्रोफ़ेसर और दूसरे लोग अच्छी संख्या में नहीं मौजूद होते तो पता नहीं क्या हो जाता।

जब-जब ऐसे हमले किए जाएँगे, तब-तब पिंजरा तोड़ और तमाम दूसरे प्रगतिशील संगठन नारी मुक्ति के नारों के साथ सड़कों पर मिलेंगे। मोहन भागवत का मानना है कि शिक्षित जोड़ों में तलाक ज़्यादा होता है। पत्नी अपने पति की सेवा करे और पति उसका खर्च उठाए, यही सोच है आरएसएस के ‘महान’ चिंतक मोहन भागवत की। जब एबीवीपी यानी आरएसएस का बच्चा संगठन कँवलप्रीत जैसी लड़कियों पर हमला करता है तो वह असल में अपना वैचारिक खोखलापन ही दिखाता है। कल जेएनयू में नजीब से जुड़े पोस्टर साटने वालों को इसी संगठन के लोगों ने धमकाया। पटना यूनिवर्सिटी में यही संगठन बैलट पेपर की धाँधली करता है और यही संगठन रोहित वेमुला जैसे साथियों को कैंपस से झूठ बोलकर बाहर करवाता है। एबीवीपी को सबसे ज़्यादा घबराहट लड़कियों की आज़ादी से होती है। लेकिन अब उनके घबराने का समय आ गया है। न लड़कियाँ पति की सेवा को ज़िंदगी का एकमात्र लक्ष्य मानने वाली हैं न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में चुप बैठने वाली हैं। वे बार-बार नारे लगाएँगी। इतनी ज़ोर से नारे लगाएँगी कि मानवता के तमाम दुश्मन अपने बिल में घुस जाएँगे।

कँवलप्रीत पर हुए हमले की सिर्फ़ निंदा करने से काम नहीं चलेगा। हमें ऐसे तमाम मोर्चों पर एकजुटता बनानी होगी जहाँ संघी हमलावर होने की कोशिश करते हैं।

शिक्षा

जेएनयू एक बार फिर हुआ लाले लाल:- सेंट्रल पैनल की चारों शीटों पर लेफ्ट यूनिटी का कब्जा

Published

on

जे एन यू:- जेएनयू की लाल मिट्टी में एक बार फिर लाल पतका फहरा है। काउंटिंग के दौरान शनिवार को हुई हिंसा के बाद रविवार दोपहर छात्र संघ चुनाव के परिणाम घोषित कर दिए गए। सेंट्रल पैनल के चारों सीटों पर यूनाईटेड लेफ्ट ने कब्जा जमा लिया है। वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का इस चुनाव में एक काउंसलर तक नहीं जीत सका। इस चुनाव में आइसा, एआईएसएफ, एसएफआई व डीएसएफ ने गठबंधन कर चुनाव लड़ा था।

चुनाव परिणाम के मुताबित एन साई बालाजी(आइसा) छात्र संघ के नए अध्यक्ष चुने गए। इन्हें 2161 मत प्राप्त हुए।वहीं इनके प्रतिद्वंदी विद्यार्थी परिसर के ललित पांडेय को मात्र 982 वोट मिले। इस तरह से बाला जी 1179 मतों से विजय घोषित किए गए। उपाध्यक्ष पर यूनाईटेड लेफ्ट की सारिका चैधरी ने अपना कब्जा जमाया। सारिका को कुल 2692 वोट मिले। वहीं प्रतिद्वंदी विद्यार्थी परिषद के गीता बरुआ को मात्र 1012 वोट मिले। इस तरह से सारिका ने 1680 मतों से गीता को पराजीत किया। वहीं महासचिव के पद पर यूनाईटेड लेफ्ट एजाज अहमद राथेर विजयी हुए। इन्हें 2423 मत मिले। वहीं प्रतिद्वंदी विद्यार्थी परिषद के गणेश गुर्जर को 1123 वोट मिले। इस तरह से एजाज 1300 मतों से विजयी घोषित किए गए। संयुक्त सचिव पर यूनाईटेड लेफ्ट की अमुथा जयदीप(एआईएसएफ) विजयी घोषित हुई।

अमुथा को 2047 वोट मिले। वहीं प्रतिद्वंदी विद्यार्थी परिषद के वेंकट चैबे को 1247 मत मिले। इस तरह से 800 मतों से अमुथा विजयी घोषित की गईं।जीत के बाद पूरा कैम्पस लाल सलाम के नारों से गूंज रहा है। यूनाईटेड लेफ्ट की ओर से विजयी जुलूस निकाला गया है। डफली की थाप पर समर्थक डांस कर रहे हैं। पूरे जेएनयू में जश्न का माहौल है। जेएनयू में जीत पर एआईएसएफ के राष्ट्रीय महासचिव विश्वजीत कुमार व राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद वली उल्लाह कादरी ने जेएनयू के छात्रों को बधाई दी है।

Continue Reading

बीट विशेष

बीजेपी-आरएसएस से एक पत्रकार का 20 सवाल

Published

on

दिलीप मंडल

बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले अपने घोषणापत्र में भारत की जनता से कुछ वादे किए थे, जिन्हें पांच साल में पूरा किया जाना था। मोदी ने यह भी कहा था कि जो कहते हैं, वह करते हैं। ये सारे सवाल बीजेपी के 2014 लोकसभा चुनाव के घोषणापत्र से निकले हैं।

1. देश में 100 नए शहर कब तक बसाए जाएंगे?

2. देश के सबसे पिछड़े 100 जिलों को विकसित जिलों में शामिल होना था, वह काम कब शुरू होगा.

3. राष्ट्रीय वाइ-फाई नेटवर्क बनना था. वह काम कब शुरू होगा?

4. बुलेट ट्रेन की हीरक चतुर्भुज योजना का काम कहां तक आगे बढ़ा है?

5. कृषि उत्पाद के लिए अलग रेल नेटवर्क कब तक बनेगा?

6. हर घर को नल द्वारा पानी की सप्लाई कब तक शुरू होगी?

7. जमाखोरी और कालाबाजारी रोकने के लिए विशेष न्यायालयों का गठन कब होगा?

8. बलात्कार पीड़ितों और एसिड अटैक से पीड़ित महिलाओं के लिए विशेष कोष कब तक बनेगा?

9. वरिष्ठ नागरिकों को आर्थिक सहायता देने के वादे का क्या हुआ?

10. किसानों को उनकी लागत का कम से कम 50% लाभ देने की व्यवस्था होने वाली थी. उसका क्या हुआ?

11. 50 टूरिस्ट सर्किट बनने वाले थे. कब बनेंगे?

12. अदालतों की संख्या दोगुनी करने के लक्ष्य का क्या हुआ?

13. न्यायपालिका में महिलाओं की संख्या बढ़ाने की दिशा में पहला कदम कब उठाया जाएगा?

14. जजों की संख्या दोगुनी करने की दिशा में कितनी प्रगति हुई है?

15. फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया को तीन हिस्सों में बांटने की योजना का क्या हुआ?

16. महिला आईटीआई की स्थापना कब होगी?

17. महिलाओं द्वारा संचालित बैंकों की स्थापना होनी थी. ऐसे कितने बैंक बने?

18. हर राज्य में एम्स जैसे संस्थानों की स्थापना होनी थी. कितने राज्यों में इनका काम शुरू हुआ है? बाकी राज्यों में कब काम शुरू होगा?

19. बैंकों के खराब कर्ज यानी एनपीए को कम करने की सरकार के पास क्या योजना है?

20. नदियों को साफ करने के लिए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने के काम में कितनी प्रगति हुई है?

बीऐसे वादों की लिस्ट बहुत लंबी है, और फिर ये तो लिखित वादे हैं। नरेंद्र मोदी ने चुनावी सभाओं में जो वादे किए थे, उनकी तो फिलहाल बात भी नहीं हो रही है।

Continue Reading

शिक्षा

रास्क क्रू:- पहाड़ों पर थिरकते पैर।

Published

on

पहाड़ों की जिंदगी जितनी मुश्किल है उतना ही मुश्किल है रोजमर्रा की जिंदगी से हट कर के करियर चुनना। लेकिन रास्क क्रू के इन टेलेंटेड और जिंदादिल बच्चो ने अपने लिए एक अलग ही केरियर चुना है इन्होंने डांस को अपनी जिंदगी बना लिया है।

रोज 8 से 10 घने प्रेक्टिस करने वाले रास्क क्रू के ये बच्चे डांस में अपना करियर तलाश रहे है।

पहाड़ों में डांस फिर इस तरह के किस भी विधा को बहुत तबज्जो नही दी जाती है। और ये सब बातें जानते हूए भी रास्क फैमली अगर डांस में अपना कैरियर बनाने का सपना देख रही है तो ये अपने आप मे बहुत बड़ी बात है।

Continue Reading

Trending