Connect with us

देश

भाजपा को हराना कोई मुश्किल काम नहीं है:- कन्हैया कुमार

Published

on

पटना :- लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से पटना के गांधी मैदान में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि भाजपा को हराना कोई मुश्किल काम नहीं है, सब एकजुट हो रहे हैं अब जल्द ही भाजपा को हराएंगे और देश को बचाएंगे।

कन्हैया ने कहा कि मैं अपने साथी को देखने पटना एम्स गया था तो वहां मुझपर गुंडागर्दी करने का आरोप लगा। वहां डॉक्टर के रूप में मोदी-मोदी जपने वाले लोग हैं।मैं कानून मानता हूं और डॉक्टर को भगवान का रूप मानता हूं। हम अमित शाह के बेटे नहीं जो घोटाला कर ले तो भी कोई बात नहीं। मुझसे स्वास्थ्य मंत्री ने कहा बिहार में किसी की गुंडागर्दी नहीं चलेगी, मैंने कहा कि बिहार में पहले से ही भाजपा की गुंडागर्दी चल रही तो अब किसकी गुंडागर्दी चलेगी।

कन्हैया कुमार ने रैली को संबोधित करते हुए आगे कहा कि भाजपा को जब तक तोड़ेंगे नहीं, तब तक छोड़ेंगे नहीं। कन्हैया ने कहा कि कांग्रेस नेता श्रीकृष्ण सिंह की जयंती मनाने का भाजपा ढोंग कर रही है। जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष ने आगे कहा कि देश में संवैधानिक मूल्यों पर हमला हो रहा है और एक-एक करके देश की संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है। इसके अलावा कन्हैया ने कहा कि मुद्दों से भटकाने के लिए भाजपा फिर मंदिर का राग अलाप रही है। उन्होंने आगे कहा कि बिहार के युवाओं के कंधों पर सांप्रदायिकता के रथ को रोकने की जिम्मेदारी है


पार्टी के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह ने बुधवार को गांधी मैदान में पत्रकार वार्ता में आरोप लगाया कि संघ के इशारे पर सरकार और जिला प्रशासन रैली को विफल करने की साजिश कर रहा है। कहा कि दो दिनों की बुकिंग होने के बाद भी गांधी मैदान के सभी गेटों को प्रशासन ने बुधवार शाम तक बंद रखा। मैदान के अंदर जदयू की तीन सौ गाड़ियां जबरन पार्क करायी गईं। इससे लोग बाहर भटकते रहे और उनको मैदान के अंदर आने में मुश्किल हुई। अगर गुरुवार को गेट नहीं खोला गया तो ताला तोड़कर रैली की जाएगी। सरकार के इशारे पर प्रशासन ने कन्हैया कुमार का तीन दिनों का रोड शो भी रद्द करा दिया।

देश

“तिहाड़ के सुपरिटेंडेंट पर अरबपति कैदी से जबरन एक करोड़ रुपए रिश्वत मांगने का आरोप, उच्च न्यायालय मे याचिका दर्ज…

Published

on

By – Haidar Baaghi

पॉलीटिकल फिक्सर और अरबपति कैदी के नाम से मशहूर सुकेश चंद्रशेखर ने तिहाड़ जेल नंबर (8-9) के (अधीक्षक) पवन कुमार अहलावत एवं मनोज गोगिया (जेल कैदी) के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दर्ज कराई! याचिका कर्ता को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने अप्रैल 2017 में गिरफ़्तार किया था, तब ही से वह तिहाड़ की जेल नंबर 4 में बंद था!

कुछ दिन पहले सुकेश चंद्रशेखर के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किए जाने के शक के चलते हैदराबाद से सीबीआई की टीम ने तिहाड़ जेल में छापा मारा था! उस वक़्त सीबीआई की टीम को सुकेश के पास से किसी तरह का कोई मोबाइल फोन नहीं मिला था!

इसके बावजूद उन्हें जेल नंबर 04 से जेल नंबर 08 और जेल नंबर 09 में स्थानांतरित कर दिया। याचिकाकर्ता, पॉलिटिकल फिक्सर, सुकेश चंद्रशेखर को जेल नंबर 4 से 8-9 मे जिस वक़्त ट्रांसफर किया गया, पवन कुमार अहलावत (जेल अधीक्षक) ने याचिकाकर्ता को धमकी देना शुरू कर दिया था!

याचिकाकर्ता को दंडित किया जा रहा है क्योंकि उन्होंने जेल अधीक्षक श्री पवन कुमार अहलावत को तिहाड़ जेल में 1 करोड़ रुपये का भुगतान करने से इनकार कर दिया और उच्च जोखिम (एकांत कारावास) में जेल काट दिया। याचिकाकर्ता ने जेल अधीक्षक द्वारा मांगे गए रिश्वत के खिलाफ जांच शुरू करने का अनुरोध किया और याचिकाकर्ता को सजा दी गई। यह न केवल याचिकाकर्ता है, बल्कि अन्य कैदियों को राशि का भुगतान करने के लिए परेशान किया जा रहा है।

To Be Continue…!!!

Continue Reading

देश

भड़काऊ भाषण देने वाले नेताओं पर लगे आजीवन प्रतिबंध: अखिलेश यादव

Published

on

Story By/- Haidar Baaghi

समाजवादी पार्टी (Samajwadi party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा नेताओं के बयानों की भाषा को लेकर कड़ी आपत्ति जताते हुए उन्हें जमकर निशाने पर लिया है! उनकी मांग है कि ऐसे नेताओं पर कार्रवाई करके उन्हें आजीवन चुनाव लड़ने से वंचित कर दिया जाना चाहिए! यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि ‘भाजपा के जनप्रतिनिधियों का हिंसक वाचन एक भयावह स्थिति है! निम्नस्तरीय भाषा का इस्तेमाल न केवल छुटभइये नेता कर रहे हैं, बल्कि भाजपा के मंत्री भी वही भाषा बोल रहे हैं! ‘डंके की चोट पर’… ‘बोली के बदले गोली’ और ‘गोली मारो……..’ के साथ ही अब भाजपाई धुरंधर आजादी की लड़ाई के इतिहास को भी बिगाड़ने में लग गए हैं!


अखिलेश यादव ने भाजपा नेता अनंत हेगड़े के महात्मा गांधी पर दिए बयान पर क्षोभ जताते हुए कहा कि ‘गांधी जी के नेतृत्व में जिस आजादी के लिए लाखों लोगों ने कुर्बानी दी उसे भाजपा के एक सांसद को अंग्रेजों की सहमति से नाटक बताते शर्म नहीं आई, अखिलेश ने भाजपा पर यह भी आरोप लगाया कि बीजेपी नेताओं की नफरत भरी बयानबाजी के चलते कुछ युवा गुमराह होकर उन्मादी हो रहे हैं! अखिलेश यादव ने कहा, आज के सत्ताधारी जिस प्रकार समाज को नफरत से भर रहे हैं उसी का ये दुष्परिणाम है कि कुछ नौजवान असलहों के साथ साम्प्रदायिक उन्माद का प्रदर्शन करने लग गए हैं! राजनीति द्वारा पोषित इस घृणा से युवाओं में जो भटकाव आ रहा है, वह समाज और राष्ट्र की चिंता का विषय है! भाजपा-आरएसएस को इसके दुष्परिणामों से अभी से सबक लेना चाहिए!

अखिलेश यादव ने दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर जिस तरह से सियासी पार्टियों ने अलग-अलग तरीके से बयान जारी किए हैं उस पर भी कटाक्ष करते हुए कहा कि, दिल्ली के चुनावों में भाजपाई बदजुबानी कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है! इससे साबित होता है कि भाजपा अपनी साख और जमीन दोनों खोती जा रही है! भाषा के स्तर में गिरावट राजनीति में घटिया सोच और संकीर्ण मानसिकता को उजागर करती है! माननीय उच्च न्यायालय और चुनाव आयोग को बिगड़े बोलों का संज्ञान लेकर तुरन्त दंण्डात्मक कार्यवाही करनी चाहिए!

अखिलेश यादव ने मांग की है कि जरूरी तो यह है कि जानबूझकर भड़काऊ बयान देने वाले ऐसे असामाजिक तत्वों की संसद या विधानमंडल की सदस्यता रद्द करके इन पर सदैव के लिए प्रतिबंध लगाना चाहिए! साथ ही आगामी चुनावों में उन विषयों की सूची चुनाव आयोग को पहले से ही जारी करनी चाहिए जिन पर बोलने से दोषी की उम्मीदवारी रद्द हो जाए!

Continue Reading

देश

भारत के गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात को लेकर शाहीनबाग के प्रदर्शनकारी दो गुटो में बटे।

Published

on

Story By/- Haidar Baaghi

भारत के गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात को लेकर शाहीनबाग के प्रदर्शनकारी दो गुटो में बंट गए हैं! याद रहे गृहमंत्री अमित शाह ने प्रदर्शनकारियों को एक चैनल के माध्यम से मुलाकात का न्योता दिया था। शाहीनबाग के कुछ प्रदर्शनकारी गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात के पक्ष में आगे आए हैं, इन प्रदर्शनकारियो का कहना है कि वे आज दोपहर दो बजे मार्च करते हुए गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर उनसे मिलने के लिए जाएंगे!

दिल्ली पुलिस सूत्रों के अनुसार अमित शाह से मुलाकात और मार्च को लेकर अब तक किसी ने पुलिस से संपर्क नहीं किया है, मार्च की अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि प्रदर्शनकारी मिलना चाहते हैं, तो वे गृह मंत्रालय से प्रतिनिधिमंडल मंडल की मुलाकात के लिए संपर्क करें! लेकिन शाहीनबाग से मार्च करने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी!

Continue Reading

Trending