Connect with us

बीट विशेष

आलेख:- दलितों के संवैधानिक अधिकारों और आरक्षण पे हंगामा क्यों?

Published

on

भारतीय समाज में वर्ण और जाति के आधार पर शोषण तथा अतिक्रमण हज़ारों सालों से होता चला आ रहा है! वर्ण आधारित जातिवादी व्यवस्था आज जो हम देख रहे हैं इसकी शुरुआत का सटीक अनुमान संभव नहीं है! विद्वानों का मानना है कि वैदिक काल से ही समाज किसी ना किसी रूप रूप में वर्ण-व्यवस्था पे आधारित रहा है! प्रचलित मान्यताओं के आधार पर चार वर्णों (ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शुद्र) में विभाजित समाज की स्थापना का श्रेय आर्यों को जाता है! सर्प्रथम आर्यों ने ही समाज के एकीकरण के नाम पर वर्ण आधारित जातिगत सोपान की शुरुआत की थी! अपने आपको सर्वश्रेष्ठ संस्कृति मानकर आर्यों ने ख़ुद को सर्वोपरि (ब्राह्मण) बना लिया तथा सांस्कृतिक रूप से अलग बहुसंख्यक लोगों को शुद्र की संज्ञा दे दी! अर्थात भारत में रह रहे मूल निवासियों को ही आर्यों ने समाज के सबसे पिछले पायदान पर रख दिया!

सभ्यता और संस्कृति के नाम पर बनाए गए वर्ण व्यवस्था में सबसे पिछले पायदान पर रखे गए लोगों के साथ तब से लेकर अब तक शोषण, अतिक्रमण और अत्याचार होता चला आ रहा है! आर्यों ने शुरु से ही समाज के एकीकरण के नाम पर वर्ण व्यवस्था का भरपूर दोहन किया है!आज भी सामाजिक अभिजात वर्ग “सांस्कृतिक राष्ट्रवाद” के नाम पर अपना खेल सतत जारी किए हुए हैं!

वर्ण व्यवस्था से ही जाति व्यवस्था का निर्माण किया गया, जिसकी कमान ब्राह्मणों ने अपने पास रखा! इसी क्रम में निचले पायदान पर उनको रखा जिनके पास ना तो खाने के लिए सही खाना, पीने को स्वच्छ पानी, तथा रहने को घर, और ना ही किसी भी तरह का सामाजिक अधिकार था! असल में समाज के वर्ग व्यवस्था को बचाए रखने के लिए शासक वर्ग द्वारा शोषित वर्गो पे शोषण को बकरार रखने के लिए ही लगातार दलितों पे अत्याचार करते आ रहे हैं!

दलितों पे हो रहे अत्याचार के विरूद्ध कई महापुरुषों ने संघर्ष किया है, उनमें से आधुनिक भारत में बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर का नाम अग्रणीय है! बाबा साहब का जन्म उस वक़्त के अछूत जाति (महार) में 14 अप्रैल 1891 को हुआ था! बचपन से ही शिक्षा के प्रति उनके लगन के कारण छुआछूत जैसी सामाजिक बाधाओं से संघर्ष करते हुए उन्होंने पी. एच. डी सहित कुल 26 उपाधियों की प्राप्ति की!

बहुमुखी प्रतिभा के धनी बाबा साहब ने छूआछूत एवं जात-पात सहित अन्य सामाजिक कुरीतियों के विरुद्ध कई आंदोलन किए! उनका मानना था कि शिक्षा प्राप्त कर दलित मनुवादियों के षड्यंत्र को समझ कर अपना अधिकार पाने में सफल हो सकते हैं! आगे चलकर बाबा साहब को उनकी योग्यता और क्षमता के आधार पर भारतीय संविधान के ड्राफ्ट समिति का अध्यक्ष बनाया गया! संविधान निर्माण के दौरान ही उन्हें इस बात का अहसास हो गया था कि मनुवादी लोग देश की स्वतंत्रता के पश्चात भी अपनी मनुवादी व्यवस्था क़ायम रखना चाहेंगे अतः उन्होंने दलितों को विशेष अधिकार देने का काम किया जिससे उनको समाज मे ससम्मान जीने का अधिकार मिल जाए! दलितों को संसद तथा विधानसभाओं, स्थानीय संस्थाओं, एवं शिक्षण संस्थानों में विशेष प्रावधान कर प्रतिनिधित्व की व्यवस्था की!

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 15 के अनुसार राज्य किसी नगरिक के विरूध धर्म, वंश, जाति, लिंग, जन्म स्थान आदि के आधार पर नागरिकों के प्रति जीवन के किसी क्षेत्र में पक्षपात नहीं करेगा। अनुच्छेद 17 छुआछूत का अंत करती है, अनुच्छेद 21 जीवन का अधिकार देती है! अनुच्छेद 23 और 24 शोषण के विरूद्ध अधिकार देती है! इसी प्रकार कई ऐसे अधिकार संविधान हमें देती है जिस आधार पर स्वतंत्र भारत मे किसी को भी जाति, धर्म, संप्रदाय, लिंग, क्षेत्र या किसी अन्य व्यक्तिगत पहचान के आधार पर किसी के साथ पक्षपात, शोषण या अत्याचार नहीं किया जा सकता!

इन सबके बावजूद जब दलितों पे अत्याचार खत्म नहीं हुए तो 11 सितंबर 1989 को अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम 1989, पारित हुआ! इस एक्ट का उद्देश्य इन जातियों के साथ अपराध करने वाले को दंडित करना है। जिसमें तुरंत गिरफ़्तारी से लेकर विशेष अदालत द्वारा शीघ्र सजा का प्रावधान है!

यह कानून इस वर्ग के ससम्मान जीवन यापन तथा उनके खिलाफ हो रहे शोषण और अत्याचार को रोकने के लिए है। इस कानून के अंतर्गत सिर्फ़ वही अपराध आते हैं जिसे एक सभ्य समाज कभी सहन ना करे!
जैसे जबरन मल, मूत्र इत्यादि खिलाना,सामाजिक बहिष्कार करना, इनके सदस्यों को व्यापार और रोजग़ार करने से बंचित करना, शारीरिक चोट पहुंचाना, घर के आस-पास या परिवार में उन्हें अपमानित करने या क्षुब्ध करने की नीयत से कूड़ा-करकट, मल या मृत पशु का शव फेंक देना, बलपूर्वक कपड़ा उतारना या उसे नंगा करके या उसके चेहरें पर पेंट पोत कर सार्वजनिक रूप में घुमाना,गैर कानूनी ढंग से खेती काट लेना, खेती जोत लेना या उसकी भूमि पर कब्जा कर लेना,भीख मांगनें के लिए मजबूर करना या बंधुआ मजदूर के रूप में रहने को विवश करना,मतदान नहीं देने देना या किसी खास उम्मीदवार को मतदान के लिए मजबूर करना,महिला का उसके इच्छा के विरूद्ध या बलपूर्वक यौन शोषण करना, उपयोग में लाए जाने वालें जलाशय या जल स्त्रोतों को गंदा कर देना अथवा अनुपयोगी बना देना,सार्वजनिक स्थानों पर जाने से रोकना,अपना मकान अथवा निवास स्थान छोड़नें पर मजबूर करना इत्यादि!

अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम 1989 के संवंध में यह कहा गया कि इसका दुरुपयोग होता है, अतः इसमें कुछ बदलाव हो! इसी दौरान कुछ मनुवादियों ने यह भी मांग करना प्रारंभ कर दिया कि दलितों को मिलने वाला हर प्रकार के आरक्षण को समाप्त कर दिया जाय!

इस पर हम यह मानते हैं कि आज भी जब अनुसूचित जाति और जनजाति पे अत्याचार इसी आधार पर होते हैं कि वो दलित हैं तो उनसे संबंधित कानून पे पुनर्विचार क्यों?

जहाँ तक कानून के दुरुपयोग की बात है तो आज पूँजीवाद तथा मनुवाद के इस युग में किस क़ानून का दुरुपयोग नहीं हो रहा है, तो क्या सब पे पुनर्विचार संभव है?

हम आरक्षण का समर्थन करते हैं और आरक्षण के विरोधियों से यह कहना चाहते हैं कि अगर आरक्षण से इतनी नफरत है तो बराबर से बांट दो ना अपनी ज़मीन, और करो ना आपस में एक दूसरे के घर शादी! ध्वस्त कर दो ना मनुवादी मानसिकता! कर दो ना देश में समान शिक्षा व्यवस्था लागू! स्वीकार कर लो ना हमें अपने साथ व्यापार और निजी कंपनियों के रोजग़ार में, और आने दो ना हमें संख्या के आधार पर हर जगह! दे दो ना हमें वो सामाजिक सम्मान और अधिकार जो हज़ारों सालों से भोगते आए हो!

हम सत्तासीन मठाधीसों से यह प्रश्न पूछना चाहते हैं कि क्यों नहीं देते दलितों को सम्मान?, क्या वो भारत माता की समान संतान नहीं? क्या उनका भारत निर्माण में तुम से ज़्यादा योगदान नहीं? इसमें दलितों का क्या कसूर है कि मनुवादियों ने उन्हें शुद्र बना दिया?, आख़िर दलित भी सभों की तरह भारत के समान नागरिक हैं! कोई किसी भी जाति में पैदा लिया हो, हम जातिवादी व्यवस्था में कतई नहीं मानते तथा जाति, धर्म या किसी भी प्रकार के पहचान पे समाज की स्थापना और राजनीति की कड़ी शब्दों में निंदा करती है!

एक और सवाल जो पूछा जाता है कि जब हर जाति में ग़रीब है तो सबको समान आरक्षण क्यों नहीं, ग़रीबी जाति देखकर तो नहीं आती!

हाँ इस बात में सत्यता है कि ग़रीबी जाति देखकर नहीं आती पर आजतक दलितों पे अत्याचार जाति देखकर ही हो रहा है! और आरक्षण का आधार सिर्फ़ आर्थिक कतई नहीं हैं! अनुसुचित जाति एवं जनजाति पे सदियों से हो रहा शोषण और समाज से उनको अलग थलग कर देने की व्यवस्थाओं को ख़त्म कर उनको मुख्यधारा में लाने के लिए एक सार्थक प्रयास का नाम है आरक्षण ना कि यह कोई कृपा है!

हमारे देश की यह सत्यता है कि लोकतांत्रिक ढांचे के इतने साल बाद भी हमारा समाज जातीय आधार पर बंटा हुआ है! और जब तक समाज में किसी भी तरह का ग़ैर बराबरी रहेगा, वो लोकतांत्रिक समाज की स्थापना और राष्ट्रनिर्माण में सबसे बड़ा बाधा बना रहेगा!जब तक समाज का हर तबक़ा ख़ुद को राष्ट्र का समान हिस्सेदार ना मानने लगें, बाबा साहेब के सपनों का राष्ट्र संभव नहीं!

लिखित रूप में हमारा संविधान दुनियाँ का सबसे अच्छा संविधान है, इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी उनकी है जिनके हाथों वोट देकर हमने अपना भविष्य गिरवी रखा हुआ है! हमें अगर समतामूलक समाज चाहिए तो सर्वप्रथम हमें अपना संविधान बचाना चाहिए, धर्म एवं हमारे सारे अधिकार स्वतः ही बच जाएंगे! इस संदर्भ में बाबा साहब ने कहा था कि हम सबसे अच्छा संविधान लिख सकते हैं, लेकिन उसकी कामयाबी आख़िरकार उन लोगों पर निर्भर करेगी, जो देश को चलाएंगे!

आरक्षण के नाम पे आजकल जो चल रहा मनुवादियों का खेल है इसे हम अच्छे से समझते हैं, हमारी आवादी 85 प्रतिशत और हमें 49.5 प्रतिशत में समेटे रखने और खुद 15 प्रतिशत होकर 50.5 प्रतिशत हथियाने का षड्यंत्र रचा जा रहा है! समाज के जातीय विविधताओं को हम स्वीकार करते हैं परन्तु ये जो मनुवादी आर्यों के तर्ज़ पर एवं सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के नाम पर ग़रीब को और ग़रीब एवं अमीर को और अमीर बनाने का खेल खेला जा रहा है जनता अब इसे अच्छे से समझने लगी है!

सदियों से सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और शैक्षणिक रूप से उपेक्षित तथा वंचित लोगों को उनका अधिकार मिलता रहे इसमें किसी को क्या समस्या हो सकती है, जिन्हें भी आरक्षण से समस्या है उनके लिए बस यही कहना चाहूँगा की देश अब ग़ुलाम नहीं और ना कोई हमारा राजा है! हम अपने अधिकारों तथा संविधान की रक्षा के लिए सतत संघर्ष करते रहेंगे!

शाहनवाज़ भारतीय, पी.एच.डी, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली!

बीट विशेष

जो ऊपर हैं वो मग़रूर हैं, जो नीचे हैं वो मजबूर हैं

Published

on

Pic Credit: Cartoonstock.com
 हमारी पस्ती का सिर्फ़ एक ही कारण है कि, “जो ऊपर हैं वो मग़रूर हैं, जो नीचे वो मजबूर! ऊपर के लोग अपने से नीचे के लोगों की राय लेना आपनी तौहीन समझते हैं! कोई व्यक्ति अपनी ख़ूबी दिखा ही नहीं सकता अगर आप उसकी अवहेलना ही करते रहेंगे!
उसूल और पाबन्दी, पाबन्दी और सख़्ती, सख्ती और ज़ुल्म के बीच की लाईन बड़ी महीन है जिसकी पहचान होना हुक्मरानों के लिए बहुत ज़रूरी है! एक अच्छे हुक्मरान के लिए यह ज़रूरी है कि उठाए गए सवालों की गहराई में जाएं, ना कि सवाल करने वालों को ही बदनाम करने की कोशिश में लग जाएं!
सीधे पहाड़ की चोटी पर उतरने से पहाड़ पर चढ़ने का तज़र्बा नहीं मिलता! ज़िन्दगी की सीख पहाड़ की चढ़ानो पर मिलती है चोटी पर नहीं! चढानों पर ही तज़ुर्बे मिलते हैं और ज़िन्दगी मँझती है! आप किसी भी सख्स को चोटी पर तो चढ़ा सकते हैं लेकिन अगर उसे चढ़ाई का तज़र्बा नहीं तो यह उसके और आपके मिशन, दोनों के लिए ख़तरनाक होगा!
कोई भी शख़्स अपनी ज़िम्मेवारी में तभी क़ामयाब हो सकता है, अगर वो विश्वासी तथा उत्तरदायी हो और अपने फ़ैसलों के लिए उसे सही हद तक आज़ादी हो! आज़ादी हासिल करने के लिए भी उसी हद तक शिक्षित हो! शिक्षा एक बहुत ही महत्वपूर्ण हथियार है, शिक्षा जितनी ज़्यादा होगा उतनी ही आज़ादी मिल पाना संभव होगा!
लोकतंत्र में आज़ादी पाने के लिए सच्चे रहनुमाओं की ज़रूरत है!और सच्चे रहनुमा वही हो सकते हैं जिनकी जानकारी मुक़म्मल हो! जानकारी तभी मुक़म्मल होगी जब आप शिक्षण तथा प्रशिक्षण को बढ़ावा देंगे! अपने काम को अपना फ़ख्र समझेंगे, जिस काम में यक़ीन हो वही करें वरना दूसरों के विश्वासघात का शिकार बनते रहेंगे!
लेकिन, हमारी सच्चाई यही है कि हम अपने प्रशिक्षित, ईमानदार तथा उपयोगी लोगों को हद दर्जे तक निचोड़ कर छोड़ देते हैं, जिससे वो नाकाम और निकम्मे लोगों से चिढ़ने लगते हैं! अलग-अलग हुक्मरानों से वफ़ा करते-करते हमने अपनी हैसियत खो दी है! मौजूदा हालात ऐसे हो गए हैं कि हमे अपने ही समाज से चिढ़ होने लगी है और हम तकलीफ़ में रहने लगे हैं, लेकिन फिरसे उठ खड़े होने को जी चाहता है जब बेंजामिन फ्रेंक्लिन की यह बात नज़र पे आती है!
“जिन बातों से तकलीफ़ होती है, उनसे ही तालीम भी मिलती है”!
लेखक:शाहनवाज़ भारतीय, शोधकर्ता, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली!
नोट:ऊपर लिखी गई बातों में अधिकांश बातें डॉ. ए. पी. जे अबुल कलाम की हैं जो आज के नेताओं को भी आईना दिखाती हैं अगर वो देखना चाहें तो!
Continue Reading

बीट विशेष

कॉमरेड ज्ञानेद्र खंतवाल के नेतृत्व में उत्तराखंड के सीमान्त जिले चमोली में सी पी एम् ने किया केरल आपदा पीड़ितों के लिए चन्दा

Published

on

By

केरल में आई भीषण आपदा ने केरल को तहस नहस कर दिया है. पूरा भारत केरल के लिए आपदा रहत कोष जुटाने में लगा हुआ है. इसी दौरान भारतीय कमुनिस्ट पार्टी माक्सवादी, भारत ज्ञान विज्ञानं समिति और तमाम सामाजिक संगठनो द्वारा भारत के तमाम कोनो से राहत कार्य के लिए चन्दा एकत्र कर मानवता के हित में अपना योगदान देने की कोशिश कर रहे हैं. इसी कड़ी में उतराखंड के सुदूर पिछड़े एवं सीमांत इलाके में स्थित चमोली जिले के घाट ब्लाक में भी सी पी आई एम् के कार्यकर्ताओं ने केरल राहत कोष के लिए चन्दा इकठ्ठा किया.

घाट में किये जा रहे चंदा कार्यक्रम का नेतृत्व ज्ञानेंद्र खंतवाल द्वारा किया गया. ज्ञानेंद्र खंतवाल से हुई बातचीत में उन्होंने कहा की केरल में आई आपदा कोई छोटी आपदा नहीं है इस आपदा के लिए पुरे देश को एक जुट होकर के सामने आना होगा. केरल प्रगतिशील राज्य है और भारत सरकार को भी चाहिए की केरल की खूबसूरती को एक बार फिर से वापस लाने में केंद्र सरकार को भी अहम् भूमिका निभानी चाहिए.

उन्होंने आगे कहा सन 2013 में आई केदारनाथ आपदा में केरल से आई भारत ज्ञान विज्ञान समिति की डाक्टरों की टीम ने कई महीनो तक दवाइयों के साथ केदारनाथ में ही  डेरा डाल कर रखा हुआ था और उन्होंने आपदा पीड़ितों के लिए मुफ्त चिकित्सीय सहायता प्रदान किया था.

जब केरल आपदा के वक्त हमारे काम आ सकता है तो हमारा भी यह फर्ज बनता है कि जब केरल आपदा से जूझ रहा है तो हमें केरल के साथ तन मन और धन के साथ जुटना चाहिए.

घाट में हुए चन्दा कार्यक्रम में कामरेड मदन मिश्रा, कमलेश गौड़, मोहन सिंह रावत, नरेंद्र रावत, कुंवर राम, कान्ति, प्रताप सिंह, विक्रम, सोहन लाल आदि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

(प्रेस रिलीज द्वारा प्राप्त )

Continue Reading

बीट विशेष

RSS संचालित स्कूल में मासूम बच्चों से पूछा जा रही उसकी जाति, पिता ने किया फेसबुक पोस्ट

Published

on

कागज़ के फूलों से पूछी जा रही उसकी खुशबू की जाति !

गुरूजी, आखिर क्यों पूछते हो बच्चो से उनकी जाति ?

मासूम बच्चो के कोमल मनमस्तिष्क में भरी जा रही जाति का जहर

आनंदराम ढांढनिया सरस्वती विद्या मंदिर भागलपुर में अनोखा कारनामा

भागलपुर के आनंदराम ढांढनिया सरस्वती विद्या मंदिर में छोटे छोटे बच्चो से उसकी जाति पूछी जा रही है . यह कारनामा और कोई नहीं खुद स्कूल के क्लास टीचर कर रहे है… जिसे स्कूल में बच्चे आचार्य जी कह कर सम्बोधित करते है, शनिवार को अंतिम पीरियड में क्लास में बच्चो से क्रमवार तरीके से उसकी जाति पूछी गयी …कई बच्चो ने ठीक से जबाब से दे दिया लेकिन जब पांचवी में पढ़ने वाली मेरी बिटिया तनिष्का सिंह से जब यह सवाल पूछा गया तो वह सही जबाब नहीं दे सकी ,,उसने अपना नाम बताया तनिष्का सिंह तो क्लास टीचर ने कहा भूमिहार हो ? मेरी बेटी ने कहा ये क्या होता है ,, मैं नहीं जानती , क्लास टीचर ने कहा ,,, स्कूल आईडी दिखाओ-जहा नाम लिखा था – तनिष्का सिंह गहलौत . क्लास टीचर ने कहा – बाबू साहब हो ,,,मेरी बिटिया ने कहा – नहीं जानते सर.. राजपूत हो … बिटिया ने कहा नहीं जानते सर,, मेरे पापा को pata होगा,? क्लास टीचर ने आईडी कार्ड पर मेरा नाम लिखा देखा, कहा – सोमनाथ आर्य,, जाति समझ में नहीं आया ,,, तो बोले क्या करते है पापा ? बिटिया बोली – जौर्नालिस्ट है? क्लास टीचर ने कहा सोमवार को जाति पता कर आना,…
बिटिया जब घर आयी तो बोली – पापा मैं कौन सा कास्ट हूँ .मैंने कहा क्यों ? उसने कहा क्लास टीचर ने पूछा है… मैंने सिलसिलेवार तरीके से पूरी जानकारी ली. फिर स्कूल फ़ोन लगाया ,,,मैंने सवाल किया – छोटे बच्चो से उनकी जाति क्यों पूछी जा रही है, जबाब मिला,पटना से एक फॉर्म आया है,उसके लिए जाति पूछना अनिवार्य है … मैं अपने बच्चो को उसकी जाति बता दू या स्कूल जाकर उसके क्लास टीचर से मिलू ? मार्गदर्शन करे ? …… बच्चों से उसकी जाति पूछने वाले क्लास टीचर का नाम है ,,गोपाल आचार्य जो गणित पढाते है.

Continue Reading

Trending