Connect with us

बीट विशेष

कम्युनिस्टों ने जब लालू जी को मुख्यमंत्री बनने में सहयोग दिया तब उनको अहीर नही सामाजिक न्याय का मसीहा समझा

Published

on

कम्युनिज्म में सुधार की पूरी संभावना है। इसलिए खुल के आलोचना भी की जा सकती है। लेकिन सीपीआई या कम्युनिस्ट मूवमेंट की आलोचना से पहले थोड़ा अध्ययन जरूर कर लेना चाहिए; इसका इतिहास समृद्ध है। लफ्फाजी इधर नहीं चलेगा।

मंडल** के चेलों/अम्बेडकरवादियों को सीपीआई के शीर्ष पर भूमिहार नेताओं होने से तकलीफ है। हमें भी है। हम इसको लेकर पार्टी के भीतर स्ट्रगल में हैं। आइये इस स्ट्रगल में साथ दीजिये।

हो सके तो सपा बसपा राजद और बीजेपी के नेताओं से भी पूछियेगा कि वहां सभी जातियों की नुमाइंदगी क्यों नहीं हैं। महिलाएं क्यों नहीं है। बीजेपी में अल्पसंख्यक क्यों नहीं है? शायद इन पार्टियों में ये सवाल पूछने की गुंजाइश ही नहीं है। लेकिन सीपीआई के नेताओं से जरूर पूछा जा सकता है।

एक बार यूं हुआ कि बिहार में सीपीआई के आधे दर्जन यादव सरनेम वाले विधायक एक साथ राजद में शामिल हो गये। कई लालू सरकार में मंत्री भी बनाये गए। वैसे ही जैसे कम्युनिस्ट नेता भोला सिंह जीवन के उत्तरार्ध में बीजेपी के टिकट से चुनाव लड़े और बेगूसराय से सांसद बने।

ऐसा होता है,कोई कभी भी बदल सकता है। जब तक कोई ठीक है उसका साथ दिया जाना चाहिए।

सभी पार्टियों में दलबदल सामान्य सी बात हो गयी है। शाम में कमल के साथ होते हैं तो सुबह में हाथ के साथ और अगर वहां भी बात नहीं बने तो लालटेन थामने में भी कोई गुरेज नहीं रखते हैं। लेकिन कम्युनिस्ट पार्टी में दलबदल नहीं के बराबर है। इसलिये कम्युनिस्ट पार्टियां चुनाव के समय दूसरे दलों के असंतुष्टों को टिकट देने से परहेज रखती है। नही तो चुनाव में दो चार सीट लाना कोई बड़ी बात नहीं है।

सीपीआई ने ही पहली बार लालू यादव का समर्थन करके उन्हें मुख्यमंत्री बनाया था। तब बिहार में सीपीआई विधायकों की ठीक ठाक संख्या थी। तब शायद सीपीआई के ‘भूमिहार’ नेताओं ने लालू को अहीर नहीं सामाजिक क्रांति का वाहक माना होगा।

बहुजनों के लिए आवाज उठाने वालों में ज्यादातर सवर्ण ही रहे हैं। सामाजिक बदलाव के शुरुआती दौर में अपने समाज के विरोध में जाकर प्रेमचंद, दिनकर, भगत सिंह जैसे हजारों नाम हैं जिन्होंने पिछड़ों के लिए आवाज उठाई। जिनके लिए आज जातिसूचक शब्द इस्तेमाल होने लगा है। तब इन महापुरुषों ने जाति नहीं देखी। आज भी इसी परम्परा से लोग आ रहे हैं। जो जाति देखकर काम नहीं करते हैं। कम्युनिस्ट भी जाति देखकर काम नहीं करते हैं। बहुत से लोग जाति देखकर काम नहीं करते हैं।

बिहार में जातीय नरसंहार हुआ। सरकार की जिम्मेदारी नरसंहार को रोकना और हत्यारों को सजा दिलवाना था। लेकिन तत्कालीन लालू यादव सरकार (तब सीपीआई ने समर्थन वापस ले लिया था) ने इसको बढ़ावा दिया। नतीजतन एमसीसी ने सवर्णों की हत्या की और रणवीर सेना ने दलितों को मारा। लालू इसे रोक सकते थे। यह सरकार की जिम्मेदारी बनती है। आखिर हम 2002 के दंगों के लिए नरेंद्र मोदी को दोषी क्यों मानते हैं?

जातीय संघर्ष के दीर्घकालिक समाधान के लिए भूमिसुधार जैसे फैसले लिए जा सकते थे। लेकिन लालू यादव ने ऐसा करने की बजाय जातीय मारकाट को बढ़ावा दिया। और राजनीतिक फायदे के लिए अपराधियों के संरक्षक बन बैठे। आज शहाबुद्दीन भी जेल में हैं और लालू यादव भी।

इस चुनाव में राजद अगर सीपीआई को समर्थन देती तब भी यही सच होता। कन्हैया को लेकर आपका जातिवाद जाग गया है। जबकि वह बार बार कहा है कि उसकी लड़ाई साम्प्रदायिक ताकतों के खिलाफ है महागठबंधन से नहीं। खैर यही एक कम्युनिस्ट नेता की असल परीक्षा होगी।

Kanhaiya Kumar के फेसबुक पोस्ट को देखकर उसके संघर्षों का अनुमान लगा सकते हैं। रोहित वेमुला से लेकर 13 पॉइंट रोस्टर का विरोध आपको दिखेगा।

बेशक आप किसी को भी वोट करें लेकिन समाज में हिंसा और नफरत मत फैलाएं।

कम्युनिस्ट बनने में बहुत तपना पड़ता है। कभी कम्युनिस्ट आंदोलनकारी बनकर देखिये। कम्युनिस्ट मूवमेंट में सिर्फ जाति बता देने से लोग साथ नहीं आते हैं। 100 सवालों के जवाब देने होते हैं।

यही वजह है कम्युनिस्ट विचारधारा को जीनेवाले एक फीसदी लोग नहीं मिलेंगे। कोई जाति, धर्म जैसे पूर्वाग्रहों को छोड़कर कम्युनिस्ट बनता है। कभी कभी लगता है कम्युनिस्ट ही असल माइनॉरिटी हैं। खैर नास्तिक और रैशनल लोग तो और भी कम हैं।

कम्युनिस्ट पार्टी सीमित संसाधनों में हर किसी के लिए लड़ती भिड़ती रही है।

कम से कम मैंने बिहार में सीपीआई के कैडर को अपना सबकुछ गवां कर काम करते तो देखा ही हूं।

अपनी जमीन बचाने के लिए जितने लोग कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े होंगे, उससे कई गुना ज्यादा लोगों को कम्युनिस्ट मूवमेंट की वजह से जमीन पर अधिकार मिला। लाख कमियों के बावजूद कम्युनिस्ट मूवमेंट जैसा सुलझा और दूरदर्शी आंदोलन कम से कम स्वतंत्र भारत में नहीं हुआ है।

आज ऐसे थोड़े से कम्युनिस्ट विचारधारा को मानने वालों के खिलाफ तमाम जातिवादी/साम्प्रदायिक और कॉरपोरेट दुश्मन बने बैठे हैं।

कम्युनिस्ट के खिलाफ कुप्रचार करने वालों को 100 साल बाद दुनिया कैसे देखेगी, एक बार जरूर सोचियेगा।

लाल सलाम!

लेखक: कुमार गौरव

बीट विशेष

कांग्रेस नेता शब्बीर अली के दामाद और पूर्व कमिश्नर ऑफ़ पुलिस के बेटे पर एक एन आर आई से लाखों की ठगी का कथित आरोप

Published

on

बता दें की एक एन आर आई जिनका नाम अब्दुल वहाब है कांग्रेस नेता शब्बीर अली के दामाद और पूर्व कमिश्नर ऑफ़ पुलिस हैदरावाद के बेटे मोहसिन खान पर कथित रूप से लाखों की ठगी का आरोप लगाया है, उन्होंने मीडिया को मेल भेज कर मामले से अवगत कराया और अपनी आपबीती सुनाई, उन्होंने यहाँ तक कहा की अगर इस बात का कोई निदान नहीं निकलता है तो वो मीडिया के सामने आत्महत्या कर लेंगे।

  आगे पीड़ित द्वारा भेजे गए मेल आपके सामने जस के तस रख रहा हूँ।

मैं एक एन आर आई और मोहसिन खान का शिकार हूँ, जो कांग्रेस नेता शब्बीर अली के दामाद और पूर्व कमिश्नर ऑफ़ पुलिस हैदरावाद ( वर्तमान में तेलंगाना राज्य के लिए अल्पसंख्यकों के कानूनी सलाहकार) के बेटे हैं, मैंने नवंबर 2015 और जनवरी 2016 में तेलंगाना राज्य में रेत निष्कर्षण व्यवसाय के लिए 6 महीने की सहमत शर्तों के साथ अपने एक्सिस बैंक एनआरई खाते के माध्यम से 99 लाख रुपये उनको दिया।

मेरे द्वारा कई मेल भेजने के बाद भी मोहसिन खान और रिश्तेदारों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। इसके बाद मेरे पास स्थानीय, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय मीडिया के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है। मैं अब्दुल वहाब हमारे वकील मोहसिन खान के सभी दस्तावेजों और एक टेलीफोन पर बातचीत (कॉल रिकॉर्डिंग) और एके खान के ईमेल उत्तर के साथ हैदराबाद प्रेस क्लब में मोहसिन खान, एके खान और शब्बीर अली के खिलाफ एक संवाददाता सम्मेलन के लिए जाएंगे।

Photo Credit: Tollywoodfans.in

4 साल से अधिक हो गए जब मैंने ये निवेश किया और मुझे अपनी पूंजी और उसके लाभ अब तक नहीं मिले हैं| मैंने उनसे अनुरोध किया है कि वे उनके द्वारा की गई व्यावसायिक नैतिकता और प्रतिबद्धताओं को समझने के लिए असीमित समय का प्रयास करें और अपनी पूंजी और उसके लाभ को वापस कर दें पर उन्होंने मुझे धमकी दी है और मुझे मुख्यमंत्री और न्यायपालिका के पास जाने का सुझाव दिया है।

मोहसिन खान अपने पिता के पद का अनुचित लाभ उठा रहे हैं और उनके पिता ए के खान भी आपराधिक गतिविधियों में उनका उत्साहजनक समर्थन दे रहे हैं। जहां हमारे माननीय मुख्यमंत्री के रूप में श्री के.सी.आर. अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं वहीँ एके खान और उनका बेटा सत्ता के दुरुपयोग के साथ निर्दोष लोगों का खून चूस रहे हैं।

मैं बेरोजगार हूँ और और आज कल पूरी रात जाग कर और दिल में दर्द के साथ गुजार रहा हूँ, मेरे डॉक्टर ने मुझे सलाह दी है कि मेरे पहले से ही कमजोर दिल को और तनाव न दूँ, कृपया ध्यान दें कि मेरी पत्नी और बच्चों को इन गंभीर तनाव के कारण मेरे निधन की स्थिति में कोई अन्य रोटी देने वाला भी नहीं है, अतः मैं आपसे पुनः अनुरोध करता हूँ की मुझे वापस अपने निवेश और उसके द्वारा वादा किया वित्तीय लाभ प्राप्त करने में मदद करें। कृपया इस ईमेल का जवाब नहीं देकर मुझे मौत के लिए कोने मत करो।

कृपया ध्यान दें कि 99 लाख रुपये हमारे अनिवासी भारतीयों के लिए कोई छोटी राशि नहीं है, कड़ी मेहनत से अर्जित जीवन बचत है और मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप मुझे जितनी जल्दी हो सके इस दुख से बाहर निकाल दें।

मैं दृढ़ता से विश्वास है कि आप एक बहुत ही गंभीर मानवीय तरीके से मेरी अपील पर विचार करेंगे और शब्बीर अली (एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता और एके खान) को लाभ के साथ मेरी राशि वापस करने के लिए सूचित करेंगे, नहीं तो मेरे पास मीडिया के सामने आत्महत्या करने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है।

Continue Reading

बीट विशेष

कई इमारतें गिरने के बाद भी भजनपुरा के सुभाष मोहल्ले में बिल्डर माफिया धड़ल्ले से कर रहे अवैध फ्लैट निर्माण!

Published

on

“सुभाष मोहल्ले की गली नंबर 13 में बिल्डर माफिया द्वारा बनाई जा रही हैं तीन अवैध इमारतें”

चौधरी हैदर अली
दिल्ली के उत्तर-पूर्वी जिले में आए दिन इमारतें गिरने की खबर तो आप सुनते रहते होंगे आज हम आपको बताने जा रहे हैं आखिर इतनी इमारतें गिरने की क्या वजह है! जिसकी वजह से सैकड़ों लोग मलबे के ढेर में दब कर अपनी जान से हाथ धो बैठे!

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के बाबरपुर और सीलमपुर विधानसभा क्षेत्र में पिछले 5 सालों मे बिल्डर माफिया 500 से ज्यादा अवैध फ्लैट निर्माण करा चुके हैं जिनकी हालत अब जर्जर हो रही हैं और दर्जनभर इमारत तो मलबे के ढेर में तब्दील हो गई! इमारतें गिरने और जर्जर होने की वजह है बेकार मैटेरियल का इस्तमाल, बिल्डर माफिया चंद पैसों के खातिर लोगों की कीमती जिंदगी दांव पर लगा रहे हैं, जिसे पूर्वी-दिल्ली नगर निगम और दिल्ली सरकार नज़र-अंदाज़ कर आंखें मूंदे तमाशा देख रही है!

स्थानीय लोगों का कहना है इस वक़्त बिल्डर माफिया बाबरपुर विधानसभा के वार्ड 48/E में काफी तेजी के साथ फ्लैट निर्माण कर रहे हैं, पिछले 2 साल में 100 से ज्यादा अवैध फ्लैट नुमा इमारतें बिल्डर माफिया बना चुके जिनमें से काफी इमारतें तो जर्जर भी हो चुकी हैं और कभी भी गिर सकती हैं!सुभाष मोहल्ला वार्ड 48 ई की गली नंबर 13 में अब्दुल सलाम मस्जिद के आसपास रहने वाले लोगों ने कहां कि हमने गली में हो रहे तीनों अवैध निर्माणों की शिकायत नगर निगम को दी लेकिन बिल्डर माफियाओं की पहुंच काफी ऊपर तक होने की वजह से नगर निगम अधिकारियों ने सभी शिकायत कर्ताओं के नाम बिल्डर माफिया को बता दिए जिसके बाद बिल्डर माफियाओं ने शिकायत कर्ताओं को दोबारा शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी!

People’s Beat ने जनता के आग्रह पर बिल्डर माफिया, स्थानीय पुलिस एवं नगर निगम के कर्मचारियों की शिकायत माननीय प्रधानमंत्री एवं गृहमंत्री जी को दे दी है!

Continue Reading

बीट विशेष

एक हारा हुआ सांसद, जिसने हजारों लोगों को अपने बल पर राहत पहुँचाया।

Published

on

बिहार के कई जिले बाढ़ की चपेट में हैं , इसका असर आम जन जीवन पर बहुत बुरा पड़ा है यातायात,स्वास्थ्य और खाने से लेकर पीने के पानी की समस्या से आम आदमी को जूझना पड़ रहा है, कुछ ही दिन हुए जब मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से बच्चे काल के गाल में समा रहे थे।
यह महज कुछ घटनाएं नहीं है यह पोल खोलती है हमारे तथाकथित विकास की क्या हम इतने गए गुजरे हो गए हैं कि कभी एक राज्य के कुछ जिले आपदा ग्रस्त हुए और सरकारी महकमा हाथ खड़े कर देता है,जिस तरह से सडा हुआ आलू और खाद्य सामग्री बिहार सरकार के द्वारा वितरित की जा रही है वह और ज्यादा रोगी बनायगी लोगों को।

मुख्य सवाल यही है कि लगे हाथ हम डोनेट का रोना रोने लगते है,और इसे उसे कोसने लगते हैं हम इस बात पर विचार करना क्यों जरूरी नहीं समझते कि यह सब आपदा प्रबंधन के लिए बड़े बड़े सरकारी महकमे बने हुए है जो मोटी तनख्वाहों से ऐशो आराम करते हैं..उनका काम इसी समय आता है।

इस बाढ़ का प्रकोप हो या चमकी बुखार का एक पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव खुले हाथों से लोगों की मदद करने को आगे रहे है, वह आज भी जेसीबी और टैक्टर पर बैठकर चलकर राहत सामग्री बांट रहे हैं।

जब यह मधेपुरा सांसद थे उस समय काफी बार इनसे मिलना होता था मंडी हाउस वाले आवास पर उस समय का एक वाकया याद आता है मैं छात्रसंघ का चुनाव लड़ रहा था और मेरी हर सम्भव मदद करने का आश्वासन इन्होंने दिया था, उसी समय कॉलेज में से फोन आता है कि कुछ लोग अपने प्रत्याशी से झगड़ा कर रहे हैं,जब स्तिथि से अवगत कराया तो सांसद जी ने तुरंत ही dsp को फोन कर स्तिथि सम्हालने की हिदायत दी थी।

वैसे मैं किसी का गुणगान करने से बचता हूँ लेकिन मेरे सहयोगियों द्वारा एक बार ही कहने पर यह पूरे जोश के साथ मेरा प्रचार करने भी आये थे कॉलेज में ,वह दौर गुजर गया कुछ यादें रह गयी लेकिन आज फिर एक अनुभव ताजा हो गया।

39 सांसदों में एक हारा हुआ सांसद मोर्चा संभाल रहा है………..और जनता अपना नेता चुनने में अक्सर भूल कर देती है कभी कभी।

अजीत आर्य

 

Continue Reading

Like us on Facebook

Recent Posts

Trending