Connect with us

बीट विशेष

कम्युनिस्टों ने जब लालू जी को मुख्यमंत्री बनने में सहयोग दिया तब उनको अहीर नही सामाजिक न्याय का मसीहा समझा

Published

on

कम्युनिज्म में सुधार की पूरी संभावना है। इसलिए खुल के आलोचना भी की जा सकती है। लेकिन सीपीआई या कम्युनिस्ट मूवमेंट की आलोचना से पहले थोड़ा अध्ययन जरूर कर लेना चाहिए; इसका इतिहास समृद्ध है। लफ्फाजी इधर नहीं चलेगा।

मंडल** के चेलों/अम्बेडकरवादियों को सीपीआई के शीर्ष पर भूमिहार नेताओं होने से तकलीफ है। हमें भी है। हम इसको लेकर पार्टी के भीतर स्ट्रगल में हैं। आइये इस स्ट्रगल में साथ दीजिये।

हो सके तो सपा बसपा राजद और बीजेपी के नेताओं से भी पूछियेगा कि वहां सभी जातियों की नुमाइंदगी क्यों नहीं हैं। महिलाएं क्यों नहीं है। बीजेपी में अल्पसंख्यक क्यों नहीं है? शायद इन पार्टियों में ये सवाल पूछने की गुंजाइश ही नहीं है। लेकिन सीपीआई के नेताओं से जरूर पूछा जा सकता है।

एक बार यूं हुआ कि बिहार में सीपीआई के आधे दर्जन यादव सरनेम वाले विधायक एक साथ राजद में शामिल हो गये। कई लालू सरकार में मंत्री भी बनाये गए। वैसे ही जैसे कम्युनिस्ट नेता भोला सिंह जीवन के उत्तरार्ध में बीजेपी के टिकट से चुनाव लड़े और बेगूसराय से सांसद बने।

ऐसा होता है,कोई कभी भी बदल सकता है। जब तक कोई ठीक है उसका साथ दिया जाना चाहिए।

सभी पार्टियों में दलबदल सामान्य सी बात हो गयी है। शाम में कमल के साथ होते हैं तो सुबह में हाथ के साथ और अगर वहां भी बात नहीं बने तो लालटेन थामने में भी कोई गुरेज नहीं रखते हैं। लेकिन कम्युनिस्ट पार्टी में दलबदल नहीं के बराबर है। इसलिये कम्युनिस्ट पार्टियां चुनाव के समय दूसरे दलों के असंतुष्टों को टिकट देने से परहेज रखती है। नही तो चुनाव में दो चार सीट लाना कोई बड़ी बात नहीं है।

सीपीआई ने ही पहली बार लालू यादव का समर्थन करके उन्हें मुख्यमंत्री बनाया था। तब बिहार में सीपीआई विधायकों की ठीक ठाक संख्या थी। तब शायद सीपीआई के ‘भूमिहार’ नेताओं ने लालू को अहीर नहीं सामाजिक क्रांति का वाहक माना होगा।

बहुजनों के लिए आवाज उठाने वालों में ज्यादातर सवर्ण ही रहे हैं। सामाजिक बदलाव के शुरुआती दौर में अपने समाज के विरोध में जाकर प्रेमचंद, दिनकर, भगत सिंह जैसे हजारों नाम हैं जिन्होंने पिछड़ों के लिए आवाज उठाई। जिनके लिए आज जातिसूचक शब्द इस्तेमाल होने लगा है। तब इन महापुरुषों ने जाति नहीं देखी। आज भी इसी परम्परा से लोग आ रहे हैं। जो जाति देखकर काम नहीं करते हैं। कम्युनिस्ट भी जाति देखकर काम नहीं करते हैं। बहुत से लोग जाति देखकर काम नहीं करते हैं।

बिहार में जातीय नरसंहार हुआ। सरकार की जिम्मेदारी नरसंहार को रोकना और हत्यारों को सजा दिलवाना था। लेकिन तत्कालीन लालू यादव सरकार (तब सीपीआई ने समर्थन वापस ले लिया था) ने इसको बढ़ावा दिया। नतीजतन एमसीसी ने सवर्णों की हत्या की और रणवीर सेना ने दलितों को मारा। लालू इसे रोक सकते थे। यह सरकार की जिम्मेदारी बनती है। आखिर हम 2002 के दंगों के लिए नरेंद्र मोदी को दोषी क्यों मानते हैं?

जातीय संघर्ष के दीर्घकालिक समाधान के लिए भूमिसुधार जैसे फैसले लिए जा सकते थे। लेकिन लालू यादव ने ऐसा करने की बजाय जातीय मारकाट को बढ़ावा दिया। और राजनीतिक फायदे के लिए अपराधियों के संरक्षक बन बैठे। आज शहाबुद्दीन भी जेल में हैं और लालू यादव भी।

इस चुनाव में राजद अगर सीपीआई को समर्थन देती तब भी यही सच होता। कन्हैया को लेकर आपका जातिवाद जाग गया है। जबकि वह बार बार कहा है कि उसकी लड़ाई साम्प्रदायिक ताकतों के खिलाफ है महागठबंधन से नहीं। खैर यही एक कम्युनिस्ट नेता की असल परीक्षा होगी।

Kanhaiya Kumar के फेसबुक पोस्ट को देखकर उसके संघर्षों का अनुमान लगा सकते हैं। रोहित वेमुला से लेकर 13 पॉइंट रोस्टर का विरोध आपको दिखेगा।

बेशक आप किसी को भी वोट करें लेकिन समाज में हिंसा और नफरत मत फैलाएं।

कम्युनिस्ट बनने में बहुत तपना पड़ता है। कभी कम्युनिस्ट आंदोलनकारी बनकर देखिये। कम्युनिस्ट मूवमेंट में सिर्फ जाति बता देने से लोग साथ नहीं आते हैं। 100 सवालों के जवाब देने होते हैं।

यही वजह है कम्युनिस्ट विचारधारा को जीनेवाले एक फीसदी लोग नहीं मिलेंगे। कोई जाति, धर्म जैसे पूर्वाग्रहों को छोड़कर कम्युनिस्ट बनता है। कभी कभी लगता है कम्युनिस्ट ही असल माइनॉरिटी हैं। खैर नास्तिक और रैशनल लोग तो और भी कम हैं।

कम्युनिस्ट पार्टी सीमित संसाधनों में हर किसी के लिए लड़ती भिड़ती रही है।

कम से कम मैंने बिहार में सीपीआई के कैडर को अपना सबकुछ गवां कर काम करते तो देखा ही हूं।

अपनी जमीन बचाने के लिए जितने लोग कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े होंगे, उससे कई गुना ज्यादा लोगों को कम्युनिस्ट मूवमेंट की वजह से जमीन पर अधिकार मिला। लाख कमियों के बावजूद कम्युनिस्ट मूवमेंट जैसा सुलझा और दूरदर्शी आंदोलन कम से कम स्वतंत्र भारत में नहीं हुआ है।

आज ऐसे थोड़े से कम्युनिस्ट विचारधारा को मानने वालों के खिलाफ तमाम जातिवादी/साम्प्रदायिक और कॉरपोरेट दुश्मन बने बैठे हैं।

कम्युनिस्ट के खिलाफ कुप्रचार करने वालों को 100 साल बाद दुनिया कैसे देखेगी, एक बार जरूर सोचियेगा।

लाल सलाम!

लेखक: कुमार गौरव

बीट विशेष

पूर्व गृह मंत्री व् अनुभवी सीपीआई के नेता इन्द्रजीत गुप्ता का जन्म शताब्दी समारोह दिल्ली में मनाया गया

Published

on

By

इन्द्रजीत गुप्ता 1919-2001.

भारत के वो नेता जो सबसे अधिक 11 बार जीते लोकसभा चुनाव,  

CPI और AITUC के महासचिव रह चुके.

इंद्रजीत गुप्ता भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी (CPI) के कुशल व् प्रखर राजनेता रहे हैं. उन्होंने 1960 में पहली बार हुए उपचुनावों से भारतीय राजनीति में कदम रखा और जीतकर लोकसभा में पहुंचे. साल 1919 में जन्मे इन्द्रजीत गुप्ता का 2001 में जब निधन हुआ तब भी वे लोकसभा के सदस्य थे. आज 21 जुलाई 2019 को इनका जन्मशताब्दी समारोह constitution club दिल्ली में मनाया गया जिसमे CPI(M) के महासचिव सीताराम येचुरी व् पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने शिरकत की. इन्द्रजीत गुप्ता को याद करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा “आज का यह अवसर लोकतंत्र को समृद्ध करने में इन्द्रजीत गुप्ता के योगदान को प्रतिबिंबित करता है. सीपीआई के ये पूर्व महासचिव जीवन भर मजदूर आन्दोलन के लिए समर्पित रहे.”

ये अनुभवी नेता बीच के 3 साल(1977 से 1980) को छोड़ कर ताउम्र सांसद रहे. उन्होंने शुरुआती चुनाव (1962 से 1967) कलकत्ता साउ‌थ वेस्ट इसके बाद (1967 से 1977) अलीपुर, (1980 से 1989) बशीरहाट और (1989-2001) मिदनापुर से चुनाव जीते. वे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) और All India Trade Union (AITUC) के महासचिव भी रह चुके हैं.

इन्द्रजीत गुप्ता एचडी देवगौड़ा और इंद्र कुमार गुजराल के शासनकाल में देश के गृहमंत्री रहे.  सादगी की मिशाल माने जाने वाले सांसद इन्द्रजीत गुप्ता गृह मंत्री बनने के बाद भी दिल्ली की वेस्टर्न कोर्ट में आवंटित आवास में रहते थे जहाँ आम तौर पर रसूख वाले सांसद रहने से कतराते हैं. कभी उनके निवास के ठीक बगल में रहने वाले वरिष्ठ राजनेता क्रांति प्रकाश बताते हैं, “देश के गृहमंत्री होने के बावजूद उन्होंने वेस्टर्न कोर्ट को नहीं छोड़ा. वे अपने दो-रूम के क्वॉर्टर से अपनी गतिविधियों को अंजाम देते थे. वे असल में सादगी के मिसाल थे.”

भारतीय जनता पार्टी के प्रखर नेता हुकुमदेव नारायण यादव ने संसद में बोलते हुए एक बार कहा था, ”वे एक कम्यूनिस्ट नेता थे. लेकिन इससे बड़ी बात यह थी कि वे एक महान सांसद थे.”

Continue Reading

बीट विशेष

अस्तित्व की लड़ाई लड़ती कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के नवनिर्वाचित महासचिव के लिए रास्ता नही होगा आसान ।

Published

on

सीपीआई के नवनिर्वाचित महासचिव कॉमरेड डी.राजा को अग्रिम बधाई। हालाँकि अभी औपचारिक घोषणा सीपीआई की राष्ट्रीय परिषद् की बैठक की समाप्ति के बाद आज से २ दिन बाद होगी। यह कम्युनिस्ट पार्टी के लिए भी ऎतिहासिक क्षण होगा जब पार्टी पे आरोप लगती रही है कि कोई दलित अभी तक पार्टी के सर्वोच्य पद पर अभी तक नहीं पहुंच पाया था। पार्टी को बधाई।

कॉमरेड डी.राजा एक ऐसे समय में पार्टी की कमान संभालने जा रहे है जब पार्टी अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। यहाँ तक की सीपीआई पर राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा खत्म होने का भी खतरा मंडरा रहा है। केरला जैसे राज्य को छोड़ दे तो किसी और राज्य में पार्टी की विधानमंडलों और लोकसभा में भी कोई निर्णायक भूमिका नहीं बची है। सांगठनिक तौर पर भी पार्टी क्षरण की ओर अग्रसर है। कॉमरेड डी.राजा के लिए इस वक़्त यह भूमिका ग्रहण करना काटों भरा ताज पहनने से कम नहीं है और अगर वे पार्टी को इससे उबार पाए तो निश्चित ही वे चैंपियन होंगे। नए नेतृत्व को एक दिशाहीन पार्टी में नयी ऊर्जा ,जूनून और लक्ष्य निर्धारण करके आगे बढ़ने की गंभीर चुनौती है।

पार्टी के पिछले महाधिवेशन में कन्हैया कुमार ने जब कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया को कन्फ्यूज्ड पार्टी ऑफ़ इंडिया कहा तब बड़ा बवाल मचा था. लेकिन मैं समझता हूँ की उन्होंने कुछ गलत नहीं कहा था। आज लगभग हर राज्यों में पार्टी का संगठन होने के बावजूद पार्टी अपने दम पर हर सीट पर कैंडिडेट नहीं उतार पाती है। राष्ट्रीय नेता ऑफिसों में बैठकर, देश भर में घूम घूम कर भाषण देकर और पार्टी की मीटिंग अटेंड करके आत्ममुग्ध रहते है,और इसी का अनुसरण राज्यों के नेता भी करते है। और जब इन नेताओ से पार्टी की चुनावी हार पर बात कीजिये तब ये कहेंगे की ” हम चुनावी (संसदीय ) राजनीति के लिए नहीं बने है “.यह जवाब निश्चित ही “संशोधनवादी होने ” के आरोप का प्रतिउत्तर लगता है. यही से साबित होता है की पार्टी पूरी तरह कन्फ्यूज्ड है। क्योँकि इस जवाब से फिर यह सवाल भी उठता है कि तब आप चुनाव लड़ते ही क्योँ है? क्या सिर्फ इसलिए की आपकी पार्टी का राष्ट्रीय दर्जा बचा रहे और आप आराम से नेता बने रहे। लेकिन उनका क्या जो जमीन पर हर दुःख दर्द जुल्म सहकर पार्टी का झंडा उठाये हुए है। इस शुद्धतावादी सोच से आगे बढ़ना होगा। सोवियत संघ के विघटन के ‘शॉक’ से बाहर निकलना होगा। कॉमरेड इस ‘शॉक’ ने न जाने कितने प्रतिभाशाली पार्टी कार्यकर्ताओ की ज़िंदगी ख़राब कर दी है।
पार्टी को एक सर्जरी की अत्यंत जरुरत है। असक्षम और निक्कम्मे नेताओ से पार्टी को किनारा करना होगा। पार्टी और जन संगठनो में सदस्यता की जाँच होनी चाहिए। आज फर्जी सदस्यता के कारण ही नाकाम और असक्षम नेतृत्व कुर्सी जमा कर बैठे हुए है। यह न सिर्फ पार्टी बल्कि आंदोलन के साथ भी गद्दारी है। क्या कारण है कि महिला संगठन, शिक्षक संगठन, कर्मचारी संगठन ,इप्टा, प्रलेस इत्यादि में पार्टी सदस्य जनरल सेक्रेटरी तो है लेकिन संगठन खंड खंड बिखरा हुआ है? न तो इन संगठनो पर पार्टी के नेता का कोई प्रभाव होता है न ही इसके अधिकतर सदस्यों का पार्टी और विचारधारा से कोई लगाव होता है। मुझे याद आता है की २०११ -१२ में बिहार में असक्षम नेतृत्व के कारण कॉलेज का एडमिनिस्ट्रेशन कॉलेज के शिक्षक और कर्मचारी संगठन पर हावी हो जाता है और पार्टी का शिक्षक और कर्मचारी संघ AISF को असामाजिक तत्व बताते हुए एडमिनिस्ट्रेशन को समर्थन पत्र लिखता है। पार्टी को आज इस बात पर भी मंथन करना चाहिए की क्या अपने जन संगठनो को पार्टी का जन संगठन बताने से परहेज करना और सभी के लिए जन संगठन का दरवाजा खुला रखना, कही पार्टी और आंदोलन को नुकसान तो नहीं पंहुचा रहा है। उदाहरण के लिए मजदूरों के संगठन AITUC में भाजपा का विधायक नेता कैसे बना हुआ है।

आज पार्टी के कार्यकर्ताओं में घोर निराशा है जिसको ख़त्म करने की चुनौती नए नेतृत्व की है। वरना गोवा की आज़ादी के लिए लड़ने वाली सीपीआई अब गोवा में चुनाव नहीं लड़ती वही हाल देश भर में हो जायेगा, और कुछ समय बाद सीपीआई गोवा की तरह सिर्फ पार्टी का नाम ,पार्टी का ऑफिस और पार्टी के नेता बचेंगे, बस पार्टी नहीं बचेगी।
–पीयूष रंजन झा

Continue Reading

बीट विशेष

डॉक्टर कफील की मेहनत बताती है कि अगर हम सचमुच संजीदा होते तो कई बच्चों की जान बच सकती थी।

Published

on

बिहार: मुजफ्फरनगर त्रासदी देश मे हर एक सजीव और संवेदनशील व्यक्ति के आंखों में आंसू ला सकता है। चश्मदीद की मानें तो अस्पताल का मंजर भयावह है, चारो तरफ मौत का मंजर, बेबस मा बाप की चीख पुकार और अस्पताल प्रबंधन को मोह चिढ़ाती वहां गंदगी का अम्बार किसी के मन को विचलित कर सकता है।

ऐसे माहौल जब वहां का प्रशासन बेबस और डॉक्टर लाचार नज़र आ रहे थे तभी वहाँ आत्मविश्वास से लबरेज एक इंसान फरिश्ते की तरह वहां पहुँचा और दिन रात अपने मेहनत से सैकड़ों बच्चों और उनके मा बाप को इस भयानक बीमारी से न सिर्फ बचाने के मुहीम में जुट गया बल्कि लोगों से चंद मांग कर उनके लिए दवाई और डॉक्टरों की व्यवस्था की, जिसका नाम है डॉक्टर कफील खान।

जी हां हम उसी डॉक्टर कफील की बात कर रहे हैं जिनका नाम सब से पहले गोरखपुर के ऑक्सीजन हादसे के बाद मीडिया में आया, वही डॉक्टर कफील जिसने वहां भी भगवान बन कर अपने बूते ऑक्सीजन की व्यवस्था कर कई घर के चिराग को बुझने से बचाया, वही डॉक्टर कफील जिसे राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित करने के वजाय सबके सामने जलील किया गया,वही डॉक्टर कफील जिन्हें अपने नेक काम के बजाय झुठे आरोप में फ़सा कर उन्हें जेल भेज गया।

पर कहते हैं ना जो इंसान दिल से जितना नेक होता है उसकी सच के लिए लड़ने की हिम्मत पहाड़ से ज्यादा मजबूत भी होता है और यही साबित किया डॉक्टर कफील ने, अपने हक और अधिकार के लिए वो लाडे और सर्वोच्च न्यायालय तक गए और कानून ने इनके पक्ष में फैसला दिया।

मुजफ्फरपुर त्रासदी में जिस तरह दिन रात मुफ्त कैम्प लगा कर डॉक्टर कफील बच्चों का इलाज कर रहे है ये बताता है कि जहां एक तरफ डॉक्टर के ऊपर लोगों का भरोसा काम हो रहा है वहां ऐसे भी लोग है जो दिन रात गर्मी और बारिश की परवाह किये बिना जान सेवा में लगे हुए हैं।

आज डॉक्टर कफील ने प्रेस रिलीज के जरिये एक बार फिर अपनी बात अवाम तक पहुचने की कोशिश कर रहे हैं जो इस प्रकार है।

Press release
Muzaffarpur chamki bimari encephalitis fact finding report dated 23/06/19

चमकी बीमारी से बिहार में हुईं २०० से ज़्यादा मौतों से पूरा भारत व्यथित है चमकी बीमारी के कारक का पता नहीं हो पाया है पर इसके लक्षण उत्तर प्रदेश के मस्तिष्क ज्वर जैसे ही हैं अंतर केवल इतना है की उत्तर प्रदेश में मस्तिष्क ज्वर का प्रकोप वर्षा होने पर पाया गया है और बिहार का चमकी बीमारी अत्यधिक गर्मी में घातक होती है .

बिहार का मुआयना करने के बाद कुछ बातें चमकी बीमारी के बारे में समझ आयीं
१-केवल लीची खाने से ही चमकी बीमारी नहीं हो रही और भी कारण हैं क्योंकि बहुत से माता पिता ने बताया कि उन्होंने बच्चें को लीची नहीं खिलायें थी
२- अगर जल्द से जल्द इलाज स्टार्ट करा दिया जाए तो चमकी बीमारी का इलाज संभव है
३- बीमारी से ज़्यादा सरकारी अव्यवस्था बच्चों की मृत्यु का कारण है .श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज सरकारी दुर्व्यवस्था का उदाहरण है डॉक्टर /नर्स की कमी है ,ज़रूरी दवाई की क़िल्लत है ,एक एक बेड पर ३-३ मरीज़ों का इलाज चल रहा है ,गंदगी का अंबार है .
बिहार की प्राथमिक चिकित्सा बेहद ख़राब हालत में है .
४- जागरूकता अभियान ज़ोर शॉर से चलाने की आवश्यकता है

डॉक्टर कफ़ील खान मिशन स्माइल फ़ाउंडेशंज़ तथा इंसाफ़ मंच के सौजन्य से पिछले एक हफ़्ते में मुज़फ़्फ़रपुर बिहार में ७ चमकी बीमारी जाँच शिविर में क़रीब १५०० बच्चों की जाँच कर और उन्हें दवाइयाँ मुफ़्त दी गयी
पेरेंट्स को चमकी बीमारी के लक्षण और बचाव के तरीक़ों से अवगत कराया गया
यह जाँच शिविर दमोदरपुर ,चैनपुर बाँगर , चकिया पूर्वी चंपारन , नीम चौक ,नथुनी चौक सुमेरा, मेकरी मुर्रा टोला , अली नेउरा में लगाया गया

7 गाँवों में चौपाल लगा करा चमकी बीमारी के बारे में जानकारी दी गयी सभी परिवारों को बुखार नापने का डिजिटल थर्मामीटर और ORS भी निशुल्क दिया गया .
२२/०६/१९ के कैम्प मे कन्हैया कुमार जी ने उपस्थित होकर अपना योगदान देने का वादा किया |

डाक्टरो की टीम में डाक्टर कफील खान के आलावा डा एन आजम,डाo आशीष गुप्ता ,डॉक्टर अरशद अंजुम शामिल थे .इंसाफ मंच बिहार के उपाध्यक्ष जफर आज़म, कामरान रहमानी, दानिश, धरामदेव यादव ,चंदन पासवान ,ऐजाज,सोनू तिवारी तथा पिंटू गुप्ता का भी योगदान सराहनीय रहा

चमकी बुखार से बच्चो को बचाने के लिऐ बच्चो को
1- धुप से दुर रखे।
2-अधिक से अधिक पानी का सेवन कराऐ।
3-हलका साधारण खाना खिलाऐ ,बच्चो को जंक फुड से दुर रखे।
4-खाली पेट लिची ना खिलाऐ।
5-रात को खाने के बाद थोरा मिठा ज़रूर खिलाऐ।
6-घर के आसपास पानी जमा न होने दे ।किटनाशक दवाओ का छिरकाओ करे।
7-रात को सोते समय मछर दानी का ईस्तेमाल करे ।
8- पुरे बदन का कपड़ा पेहनाऐ।
9-सड़े गले फल का सेवन ना कराऐ ।ताज़ा फल ही खीलाऐ।
10- बच्चो के शरीर मे पानी की कमी ना होने दें।अधिक से अधिक बच्चो को पानी पीलाऐ ।

लक्षण :-

बच्चो को –
1-अचानक तेज बुखार आना।
2-हाथ पेर मे अकड़ आना/टाईट हो जाना ।
3-बेहोश हो जाना।
4-बच्चो के शरीर का चमकना/शरिर का कांपना ।
5-शरीर पे चकत्ता निकलना ।
6-गुलकोज़ का शरीर मे कम हो जाना ।
7-शुगर कम हो जाना। ईत्यादि

मुख्यतः तीन विन्दु उभरकर सामने आए जिसपर तत्काल पहलकदमी की आवश्यकता है.

1. *आईसीयू में बेड संख्या 200 करना:* अस्पताल में बच्चों का 14 बेड का पीआईसीयू था, जिसे अभी बढा़कर 50 किया गया है. लेकिन अभी भी अस्पतामल में 96 बच्चे भर्ती हैं. इसका मतलब यह है कि एक बेड पर दो बच्चे हैं. सुपटेंडेंट ने कहा कि यदि इसे बढ़ाकर 200 बेड कर दिया जाए तो सभी बच्चों को राहत मिल सकती है. माले राज्य सचिव ने कहा कि 200 बेड वाले आईसीयू करने में आखिर सरकार का क्या परेशानी हो रही है? इसे तत्काल किया जाना चाहिए.

2. *प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर डाॅक्टर, दवा व एंबुलेस:* दूसरे सुझाव में डाॅक्टरों की टीम ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य उपकेंद्रों की स्थिति ठीक किया जाना चाहिए और वहां बड़ी संख्या में बच्चे के डाॅक्टर बहाल किए जाने चाहिए. यदि 3 घंटे के भीतर बच्चे स्वास्थ्य केंद्र पर पहूंच जाते हैं, तो उन्हें बचाना ज्यादा आसान हो जाएगा. केंद्रों पर दवा व एंबुलेस का भी प्रबंध होना चाहिए.

3. *साफ पानी, ग्लूकोज लेवल मेंटेन रखना:*
तीसरे सुझाव में कहा कि बीमारी के स्रोत पर हमला किया जाना चाहिए. सरकार को इस बात का उपाय करना चाहिए कि दवा का लगातार छिड़काव होता रहे और साफ पानी की व्यवस्था हो. यदि बच्चों का ग्लूकोज लेवल मेंटन कर लिया जाए और इसके लिए भोजन की उचित व्यवस्था हो तो इस महामारी पर रोक लगाई जा सकती है.

कफील खान ने ने आगे कहा कि अब तक 700 इस बीमारी से ग्रसित हो चुके है और 200 से ज़्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है. मृत्यु की दर 25 प्रतिशत है.

Continue Reading

Trending