Connect with us

राजनीति

तो इसका मतलब 2 जी घोटाला हुआ ही नहीं था?

Published

on

नई दिल्ली:  हिन्दुस्तान के इतिहास का और कांग्रेस पर घोटालों के काले धब्बे में 2G स्पेक्ट्रम घोटाला बहुत ही बड़ा था | 2G स्पेक्ट्रम घोटाला, कोल ब्लाक आवंटन घोटाला उनमे से एक है जो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की साफ़ छवी को मटियामेट करती सी नजर आती है, अदालत का ये फैसला मनमोहन सिंह के लिए निजी तौर पर काफी रहत देने वाला साबित होगा|

क्या है पूरा मामला?

करीब नौ साल पहले मनमोहन सिंह की अगुवाई वाली यू पी ए सरकार पर 2G स्पेक्ट्रम आवंटन के मामले में बड़े भ्रष्टाचार का आरोप लगा था| मामले में 17 आरोपियों में 14 लोग एवं 3 कंपनी शामिल थे जिनके ऊपर धोखाधड़ी, घुस लेने/ देने और सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया| आरोपियों में पूर्व दूर संचार मंत्री ए राजा, एम करूणानिधि की बेटी कनीमोई , पूर्व दूरसंचार सचिव सिद्धार्थ बेहुरा सहित  सहीद बलवा और करीम मोरानी जैसे नाम थे वही 3 कंपनियों में रिलायंस टेलिकॉम, स्वान टेलिकॉम और यूनिटेक शामिल थी|

कब क्या हुआ:

15 नवम्बर 2008: केंद्रीय सतर्कता आयोग ने मोबाइल सेवाओं के लिए आवंटित स्पेक्ट्रम में खामियां पाई और मंत्रालय ने कुछ अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की अनुशंसा की

4 मई 2009: एक एनजीओ ने सीवीसी में  2G स्पेक्ट्रम के लायसेंस आवंटन में अनियमितता की शिकायत की

21 अक्टूबर 2009: सीबीआई ने टेलिकॉम विभाग के अफसरों पर एफआईआर दर्ज की

10 नवम्बर 2010: कैग ने 2G आवंटन मामले में अपनी रिपोर्ट दी और कहा की इस मामले में 1.76 लाख करोड़ का नुकसान हुआ है|

14 नवम्बर 2010: तत्कालीन दूरसंचार मंत्री ए राजा की इस्तीफा देना पड़ा

13 दिसम्बर 2010: दूरसंचार विभाग ने उच्चतम न्यायलय के सेवा निवृत न्यायाधीश शिवराज वी पाटिल समिति को स्पेक्ट्रम आवंटन के नियमों एवं नीतियों को देखने के लिए अधिसूचित किया|

2 फरबरी 2011: मामले में सभी आरोपी को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया

14 मार्च 2011: मामले की सुनवाई के लिए दिल्ली उच्च न्यायलय ने विशेष अदालत का गठन किया

2 अप्रैल 2011: सीबीआई ने इस मामले में चार्जशीट दाखिल की

25 अप्रैल 2011: सीबीआई ने दूसरी चार्जशीट दाखिल की जिसमे कनीमोई का नाम भी शामिल था

11 नवम्बर 2011: विशेष अदालत ने इस मामले में सुनवाई शुरू की

12 दिसम्बर 2012 : तीसरी चार्जशीट दाखिल की

2 फरबरी 2012: सुप्रीम कोर्ट ने राजा के कार्यकाल में आवंटित लायसेंस को रद्द कर के 4 महीने के भीतर फिर से निविदा मंगवाने को कहा

1 जून 2015: ई डी ने कहा की कलईनगर टी वी को आवंटन से 200 करोड़ का फायदा पंहुचा

19 अप्रैल 2017 : अदालत की सुनवाई ख़तम हुई और आरोपियों को बड़ी कर दिया गया

फैसले के बाद सत्ता पक्ष पर कांग्रेस पार्टी का आक्रमण तेज:

आरोपियों के बड़ी होने के बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा की में कुछ नहीं कहना चाहता हु, अदालत के फैसले का सम्मान होना चाहिए , फैसले से साफ़ जाहिर होता है की यू पी ए के खिलाफ किया जा रहा व्यापक दुष्प्रचार बेबुनियाद था|

वही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने अदालत के फैसले पर खुसी जाहिर करते हुए कहा की इससे साबित होता है की यू पी ए सरकार पर लगाये गए आरोप गलत थे भाजपा को ऐसे फर्जी आरोप नहीं लगाने चाहिए थे|

फैसले पर सत्ता पक्ष की नसीहत:

अदालत के फैसले के बाद हमलावर हुए विपक्ष पर पलटवार करते हुए वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा की कांग्रेस को अदालत द्वारा दिए गए फैसले को शान नहीं समझना चाहिए आरोपियों को बड़ी किये जाने से कांग्रेस को इमानदारी का तमगा नहीं मिल जाता

फैसले के बाद भी सवाल बरकरार?

आदालत का सम्मान करते हुए उनके फैसले पर सवाल करना उचित नहीं होगा पर फैसले के बाद कुछ सवाल है जिसका जवाब मिलना आवश्यक है|

  • टू जी स्पेक्ट्रम घोटाला हुआ था या नहीं?
  • क्या कैग की जाँच रिपोर्ट निराधार थी?
  • नुकसान की जो बात कही गयी थी उसका आधार क्या था?
  • सी बी आई ने अपने 80,000 पन्नों की चार्जशीट में क्या लिखा?
  • स्वान टेलिकॉम और कलिग्नार टी वी पर लायसेंस पाने के लिए 200 करोड़ की रिश्वत का आरोप का आधार क्या था?
  • आखिर 654 पन्नों के दस्तावेज में किस बात का जिक्र था?
  • अगर घोटाला हुआ नहीं नहीं तो 10 साल तक सी बी आई क्या करती रही?

ऐसे कई सवाल देश की जनता के जहाँ में आ रहे होंगे पर शायद सत्ता के इस चक्रव्यूह का खेज समझ पाना आम जनता के बस की बात नहीं है, जानत तो बस नेताओं के भाषण से अभिभूत होकर वोट डालने वाले मशीन बन कर रह गयी है|

जो भी हो कहा जा रहा है की इस फैसले के खिलाफ  सीबीआई उपरी अदालत में जा सकती है|

राजनीति

भाजपा कांग्रेस ने जनता को सिर्फ ठगा है:- आम आदमी पार्टी नेता रजिया बेग,

Published

on

सहसपुर विधानसभा के गणेशपुर में आम आदमी पार्टी की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी की प्रदेश उपाध्यक्ष रजिया बेग ने कहा कि प्रदेश में सत्ता रहने वाली भाजपा और कांग्रेस पार्टी ने बारी-बारी से यहां के निवासियों को ठगने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर प्रदेश की जनता की सभी समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

बैठक में गणेशपुर और आसपास के क्षेत्रवासियों ने काफी संख्या में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। नए सदस्यों का स्वागत करते हुए आप की प्रदेश उपाध्यक्ष व बार काउंसिल की पूर्व चेयरमैन रजिया बेग ने पार्टी की नीतियों पर विस्तार से चर्चा किया। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड बनने के बाद से लेकर अभी तक प्रदेश में कभी भाजपा तो कभी कांग्रेस की सरकार रही, लेकिन इन दोनों पार्टियों ने सत्ता में रहते हुए प्रदेश की जनता को कोई सुविधा नहीं दिया।

सड़क, बिजली, पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं तक सरकार जनता को उपलब्ध नहीं करा पाई हैं। उन्होंने दिल्ली सरकार का उदहारण देते हुए कहा कि दिल्ली सरकार के कामकाज की आज देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी तारीफ हो रही है। वहां की जनता को बिजली पानी मुफ्त में मिल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर प्रदेश की सरकारें ईमानदारी से काम करती तो पहाड़ के निवासियों को पलायन नहीं करना पड़ता।

समस्याओं का निस्तारण कर रही सरकार

 

सहसपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम झाझरा में आयोजित बहुद्देश्यीय शिविर में विधायक सहदेव सिंह पुंडीर ने विभिन्न समस्याओं के निस्तारण का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि सरकार जनता की समस्याओं के निराकरण व सरकार की योजनाओं से पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित करने की दिशा में निरंतर काम कर रही है। शिविर में क्षेत्रवासियों की विभिन्न समस्याओं को निस्तारित किया गया।

शिविर में विभिन्न विभागों से संबंधित कुल 23 मामलों में आवेदन प्राप्त हुए इसमें कुल नौ शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया। अन्य 14 शिकायतों के निस्तारण के लिए संबंधित विभागों के अधिकारियों ने आवेदनकर्ताओं से एक माह का समय लिया है। शिविर में कृषि विभाग से आशाराम वर्मा, प्रमोद कुमार, श्रीदेव सिंह, विकासखंड अधिकारी शकुंतला शाह, आंचल, आनंद सिंह, उद्यान विभाग से जेडी वर्मा, जिला पूर्ति विभाग से विजय नैथानी, कमला रावत, पंकज शर्मा, दर्शन सिंह सजवाण उपस्थित रहे।

Continue Reading

राजनीति

मैं हमेशा ही नितीश कुमार के खिलाफ रहा हूँ: चिराग पासवान

Published

on

लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए (NDA) से राहें जुदा कर ली हैं. हालांकि, वह बीजेपी के साथ हैं और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से नाराज हैं. एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में चिराग पासवान ने कहा कि नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू (JDU) को हर सीट पर हराना हमारा मकसद है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार सहयोगियों की सुनते नहीं हैं. साथ ही पासवान ने यह भी कहा कि  हम JDU के साथ मजबूरी में थे. अब जनता दल यूनाइटेड (JDU) को हर सीट पर हराना ही हमारा मक़सद है.

चिराग पासवान ने रविवार को बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए (NDA) का हिस्सा बने रहते हुए ही अलग चुनाव लड़ने का ऐलान किया. उन्होंने जेडीयू के खिलाफ सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारने, लेकिन बीजेपी (BJP) प्रत्याशियों के खिलाफ नहीं लड़ने की बात कही थी. हालांकि, अब चिराग पासवान ने कहा कि कुछ सीटों पर बीजेपी के खिलाफ भी उम्मीदवार उतारने की तैयारी है.

एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा, “मैं हमेशा नीतीश कुमार के खिलाफ रहा. नीतीश का पत्ता हम नहीं जनता काटेगी.” गठबंधन को लेकर पूछ गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि गठबंधन में रहने के लिए बीजेपी का कोई दबाव नहीं था. हम पीएम मोदी के प्रति समर्पित हैं. चुनाव नतीजों के बाद जेडीयू के साथ जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस पर अभी बात नहीं की जानी चाहिए.

पासवान ने दावा किया है कि बिहार चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और लोक जनशक्ति पार्टी की डबल इंजन वाली सरकार बनेगी. उन्होंने कहा कि कुछ सीटों पर BJP के ख़िलाफ़ उम्मीदवार भी उतारने की तैयारी है

NDTV के इंटरव्यू में चिराग पासवान की 10 बड़ी बातें-
1.    नीतीश सहयोगियों की नहीं सुनते
2.    हम JDU के साथ मजबूरी में थे
3.    JDU को हर सीट पर हराना मक़सद
4.    मैं हमेशा नीतीश के ख़िलाफ़ रहा
5.    गठबंधन में रहने के लिए BJP का कोई दबाव नहीं
6.    हम पीएम मोदी के प्रति समर्पित
7.    नतीजे के बाद JDU के साथ की अभी बात नहीं
8.    BJP-LJP की डबल इंजन की सरकार बनेगी
9.    कुछ सीटों पर BJP के ख़िलाफ़ उम्मीदवार भी
10.    नीतीश का पत्ता हम नहीं जनता काटेगी.

(साभार: khabar.ndtv.com)

Continue Reading

देश

रामविलास पासवान का हुआ दिल का आपरेशन, शनिवार को बिगड़ी तबियत

Published

on

लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के स्वास्थ्य को लेकर अपडेट सामने आया है। बेटे चिराग पासवान (Chirag paswan) ने बताया कि शनिवार को अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद देर रात उनके दिल का ऑपरेशन किया गया है। संभव है कि अगले कुछ हफ्तों में एक और ऑपरेशन करना पड़े। चिराग पासवान ने ट्वीट करके अपने पिता के स्वास्थ्य की जानकारी दी है।

शनिवार शाम अचानक बिगड़ गई रामविलास पासवान की तबीयत

केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान की तबीयत काफी समय से ठीक नहीं चल रही है। उनका इलाज दिल्ली के एक अस्पताल में चल रहा है। इस बीच शनिवार को उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ने की जानकारी सामने आई। जिसके बाद चिराग पासवान तुरंत ही अपने पिता को देखने के लिए अस्पताल पहुंचे। इस बीच बिहार चुनाव को लेकर शनिवार को एलजेपी संसदीय बोर्ड की अहम बैठक भी थी, जिसे टाल दिया गया।

 

चिराग पासवान बोले- कुछ हफ्तों में एक और सर्जरी संभव

इसके बाद एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने रविवार सुबह करीब 5 बजे एक ट्वीट किया, इसमें उन्होंने केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की तबीयत के बारे में बताया। उन्होंने लिखा, ‘पिछले कई दिनों से पापा का अस्पताल में इलाज चल रहा है। कल शाम अचानक उत्पन हुई परिस्थितियों की वजह से देर रात उनके दिल का ऑपरेशन करना पड़ा। जरूरत पड़ने पर सम्भवतः कुछ हफ्तों बाद एक और ऑपरेशन करना पड़े। संकट की इस घड़ी में मेरे और मेरे परिवार के साथ खड़े होने के लिए आप सभी का धन्यवाद।’

दिल्ली के अस्पताल में चल रहा पासवान का इलाज

रामविलास पासवान की बीमारी को लेकर बेटे चिराग ने पहले भी अपनी बात रखी थी। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को एक बेहद भावपूर्ण चिट्ठी भी लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि आज मेरे पिता को जब मेरी जरूरत है तो मुझे उनके साथ रहना चाहिए नहीं तो मैं अपने आपको माफ नहीं कर पाऊंगा। दूसरी ओर बिहार चुनाव को लेकर भी चिराग पासवान को कई जरूरी फैसले लेने हैं। खास तौर से एनडीए में रहने को लेकर एलजेपी का क्या रुख है इस पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। हालांकि चिराग पासवान ने शनिवार को एक ट्वीट के जरिए अपनी आगे की रणनीति की ओर इशारा जरूर कर दिया।

बिहार चुनाव में 143 सीट पर उम्मीदवारी की तैयारी में LJP

एलजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान ने शनिवार को अपने ट्वीट से ये संकेत दे दिए एलजेपी बिहार में 143 सीटों पर उम्मीदवार उतार सकती है। चिराग पासवान ने ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी तस्वीर शेयर की है। जिसके साथ उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के सभी उम्मीदवार प्रधानमंत्री के हाथ मजबूत करेंगे। साथ ही ये भी साफ कर दिया कि उन्हें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली पार्टी जेडीयू से शिकायत है। उन्होंने मोदी के संग अपनी एक तस्वीर के साथ ट्विटर पर एक संदेश पोस्ट किया, ‘मुझे आशा ही नहीं बल्कि पूरा विश्वास है कि बिहार को फर्स्ट बनाने के लिए और बिहार की खोई अस्मिता को लौटाने के लिए आप सभी मुझे अपना आशीर्वाद देंगे, ताकि मेरे सभी प्रत्याशी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों को मजबूत कर सकें।’

Continue Reading

Trending