Connect with us

जुर्म

पूर्वी दिल्ली के पूर्व गैंगस्टर मोहम्मद हसन उर्फ़ सूफी कलवा पर दिनदहाड़े चली गोलियां!

Published

on

उत्तर पूर्वी दिल्ली में गैंगवार की वारदातें थमने का नाम ही नहीं ले रहीं ऐसा ही मामला कल शाम 05:55 बजे थाना उस्मानपुर क्षेत्र के ब्रह्मपुरी इलाके मे घटा जिसे दो बदमाशों ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के पूर्व गैंगस्टर मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा पर कई राउंड गोलियां चलाकर अंजाम दिया मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा के एक गोली कमर में लगी उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया सूफी कलवा के परिजनों ने बताया कि उनकी हालत नाजुक बनी हुई है!

पुलिस सूत्रों के अनुसार सूफी कलवा पर गोली चलाने वाले का नाम राजू उर्फ बेचैन है जो थाना उस्मानपुर इलाके का घोषित अपराधी है उस पर कई अपराधिक मामले चल रहे हैं! सूत्रों के अनुसार मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा उत्तर पूर्वी दिल्ली में चल रहे सट्टे का सबसे बड़ा ऑपरेटर है!

ब्रहमपुरी एवं जाफराबाद के लोगों का कहना है मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा एवं राजू उर्फ बेचैन के बीच सट्टे के कारोबार को लेकर काफी वक़्त से खींचतान चल रही है! आपको बता दें उत्तर पूर्वी दिल्ली में सट्टे का नेटवर्क अपनी जड़े जमा चुका है जिसे उत्तर पूर्वी दिल्ली पुलिस आंखें मूंद बढ़ावा दे रही है!

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जुर्म

क्या दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर और कुख्यात गैंगस्टर हाशिम बाबा के बीच पढ़ चुकी है दरार ?

Published

on

चौधरी हैदर अली

दिल्ली का डॉन कहलाने वाले अब्दुल नासिर और उसका दायां हाथ कहे जाने वाले दिल्ली के कुख्यात गैंगस्टर हाशिम बाबा के रास्ते अब अलग अलग हो चुके हैं!दिल्ली पुलिस फिलहाल नासिर एवं बाबा के बीच हुए मत भेदों पर कुछ भी बोलने से बच रही है! सूत्रों के अनुसार 23-24 जुलाई 2019 की रात हुई अब्दुल नासिर के करीबी इमरान की हत्या ही नासिर और बाबा के बीच दरार पड़ने की वजह है! नासिर और बाबा के साथ काम कर चुके एक पूर्व गैंगस्टर ने अपना नाम ना उजागर करने की शर्त पर People’s BEAT को बताया की नासिर और बाबा के बीच पड़ी दरार की सबसे पहली वजह नासिर और छेनू पहलवान के बीच हुई सुलाह भी है, आपको बता दें पिछले एक दशक से नासिर और छेनू पहलवान के बीच खूनी गैंगवार चली आ रही थी जिसमें अब तक 3 दर्जन से ज्यादा लोग मौत के घाट उतर चुके थे!

“हाशिम बाबा और उसके साथी नहीं चाहते थे अब्दुल नासिर और छेनू पहलवान के बीच सुलाह”

सूत्रों के मुताबिक हाशिम बाबा और उसके साथी नहीं चाहते थे कि नासिर और छेनू पहलवान के बीच सुलाह हो यमुनापार में चल रही गैंगवार किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है, लोगों का कहना है नासिर ने 16 जनवरी को जेल से आने के बाद नशे का कारोबार कर रहे माफियाओं पर नकेल कसनी शुरू कर दी थी, नासिर ने नशा बेचने वालों को इलाके से चले जाने या अपना काम बंद कर कोई दूसरा काम शुरू करने की चेतावनी भी दे रखी थी, इस वजह से भी हाशिम बाबा के साथी अब्दुल नासिर के खिलाफ थे

“दिल्ली क्राइम ब्रांच ने मकोका के तहत अब्दुल नासिर पर कर रखा है मुकदमा दर्ज”

दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर (31) के खिलाफ 9 जुलाई 2019 को मकोका के तहत मुकदमा दर्ज किया हुआ है! दिल्ली क्राइम ब्रांच के अनुसार अब्दुल नासिर के गैंग पर ऑर्गेनाइज क्राइम सिंडिकेट चलाने के साथ-साथ ठेके पर हत्या, जबरन वसूली करने का आरोप है! दिल्ली पुलिस का कहना है कि नासिर जेल में बंद अपने गुर्गे अजीम से दिल्ली के कारोबारियों को फोन कर रंगदारी मांगता है जो रंगदारी नहीं देता नासिर उनके घरों पर गोलियां चलवा देता है!दिल्ली क्राइम ब्रांच का दावा है कि अब्दुल नासिर ने अपराध की दुनिया से कम से कम अपनी 50 करोड रुपए प्रॉपर्टी बना रखी है इतना ही नहीं जिस कार से अब्दुल नासिर घूमता है उस कार की कीमत भी 1 करोड़ से ज्यादा है!

“आखिर कौन है हाशिम बाबा”

हाशिम बाबा 2007 में अपराध की दुनिया में शामिल हुआ और उस पर पहला मुकदमा भारतीय दंड संहिता की धारा 307 के तहत उत्तर पूर्वी दिल्ली के थाना गोकलपुरी में दर्ज हुआ जिसमें हाशिम बाबा ने मुस्तफाबाद के नामचीन गैंगस्टर रहे कासिम गड्ढे वाले पर गोलियां चलाई थी, जिसमें कासिम बाल-बाल बच गया था, उसके बाद हाशिम बाबा ने अब्दुल नासिर से हाथ मिला लिया और सट्टे के नेटवर्क में घुस एक के बाद एक सनसनी खेज वारदातों को अंजाम देता गया जिसे देख दिल्ली पुलिस आयुक्त ने उसकी गिरफ्तारी पर 1 लाख का इनाम रख दिया था हाशिम बाबा को गिरफ्तार करने में दिल्ली पुलिस को 7 साल लग गए 2007 से फरार चल रहे हाशिम बाबा को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने बड़ी मशक्कत के बाद 2 जून 2014 को आखिर उत्तराखंड के रामनगर से गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिल्ली पुलिस का मस्तक ऊंचा किया! 2016 में जेल से जमानत पर छूटे हाशिम बाबा पर 2017 में जाफराबाद में हुए डबल मर्डर का आरोप लगा जब से बाबा फरार है दिल्ली पुलिस का दावा है हाशिम बाबा मोनू दरियापुर हत्याकांड का भी हिस्सा है जिसमें 2 पुलिस कर्मी शहीद हुए थे, जिसके बाद से दिल्ली पुलिस ने हाशिम बाबा पर एक लाख और यूपी पुलिस ने 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा है हाशिम बाबा अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है!

“राष्ट्रीय न्यूज़ पेपर्स के संवाददाताओं से गुजारिश है कृपया कर हमारी न्यूज़ वेबसाइट से खबर उठाकर कट पेस्ट ना करें”

Continue Reading

जुर्म

दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर पर दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 9 जुलाई को कर दिया था MCOCA के तहत मुकदमा दर्ज!

Published

on

चौधरी हैदर अली

नई दिल्ली:दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर (31) के खिलाफ 9 जुलाई 2019 को मकोका के तहत मुकदमा दर्ज किया हुआ है!दिल्ली क्राइम ब्रांच के अनुसार अब्दुल नासिर के गैंग पर ऑर्गेनाइज क्राइम सिंडिकेट चलाने के साथ-साथ ठेके पर हत्या, जबरन वसूली करने का आरोप है!

“अब्दुल नासिर पर ऑर्गेनाइज क्राइम सिंडिकेट चलाने का लगाया है आरोप”

दिल्ली क्राइम ब्रांच का दावा है कि अब्दुल नासिर ने अपराध की दुनिया से कम से कम 50 करोड रुपए की प्रॉपर्टी बना रखी है इतना ही नहीं जिस कार से अब्दुल नासिर घूमता है उस कार की कीमत भी 1 करोड़ से ज्यादा है!दिल्ली क्राइम ब्रांच के मुताबिक डिपार्टमेंट से नासिर पर मकोका लगाए जाने की खबर लीक हो जाने की वजह से नासिर और उसके साथी 6 जुलाई 2019 से ही हो गए अंडरग्राउंड!

दिल्ली क्राइम ब्रांच के उपायुक्त श्री राजेश देव ने कहा हमने सक्षम अथॉरिटी से अप्रूवल लेकर अब्दुल नासिर पर मकोका के तहत मुकदमा दर्ज किया है उसकी सभी प्रॉपर्टी और गैंग मेंबरों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है जल्द से जल्द इन लोगों पर सख्त एक्शन लिया जाएगा!

People’s BEAT एक जिम्मेदार न्यूज़ पोर्टल है इसलिए हमने दिल्ली क्राइम ब्रांच के साथ-साथ (MCOCA) के आरोपी अब्दुल नासिर के परिवार वालों का भी पक्ष लिया है!

हम जाफराबाद की गली नंबर 48 में स्थित अब्दुल नासिर के घर गए अब्दुल नासिर के घर पर हमारी मुलाकात अब्दुल नासिर की वाल्दा 63 वर्षीय श्रीमती इशरत जहां से हुई हमने अब्दुल नासिर की वाल्दा से पूछा के दिल्ली क्राइम ब्रांच का आप के बेटे अब्दुल नासिर पर आरोप है कि उसने अपराध जगत से अपनी संपत्ति 50 करोड़ रुपए से भी ज्यादा की बना रखी है?
63 वर्षीय बुजुर्ग अब्दुल नासिर की अम्मी ने हमारे सवाल का जवाब देते हुए कहा हमारे पास सिर्फ यही एक घर है जो आज से 45-46 साल पहले नासिर के दादा जी ने खरीदा था! नासिर की वाल्दा ने कहा नासिर और उसके भाइयों के पास अगर पैसा होता तो सबसे पहले वह अपना यह घर बनवाते जोकि झर-झर हालत में है और इस घर से इन सभी बच्चों की यादें जुड़ी हुई हैं! उन्होंने कहा अगर इस पुश्तैनी मकान के अलावा 50 करोड़ तो दूर कोई नासिर पर 5 लाख की संपत्ति ही साबित कर दे उसके बाद जो सजा नासिर को दी जाएगी वह उसे कबूल होगी!

“दिल्ली अंडरवर्ल्ड की तीसरी किस्त जल्द ही आपके साथ सांझा की जाएगी!

Continue Reading

जुर्म

पाकिस्‍तान में ही है मोस्‍ट वांटेड दाऊद इब्राहिम अमेरिका ने की पुष्टि!!!

Published

on

चौधरी हैदर अली
पाकिस्‍तान अपने यहां दाऊद इब्राहिम की मौजूदगी से लगातार इनकार करता रहा है, पर भारत अरसे से इस पर जोर देता रहा है कि 1993 मुंबई ब्‍लास्‍ट्स के बाद से ही देश से फरार दाऊद पाकिस्‍तान में ही है और वहीं से अपनी गतिविधियां चला रहा है!अब अमेरिका ने भी इसकी पुष्टि की है कि भारत का ‘मोस्‍ट वांटेड टेररिस्‍ट’ दाऊद इब्राहिम और उसकी ‘डी कंपनी’ पाकिस्‍तान में स्थित है और वह कराची से अपना अंतरराष्‍ट्रीय आपराधिक कारोबार चला रहा है!अमेरिका की ओर से दाऊद के पाकिस्‍तान में होने की पुष्टि तब की गई, जब उसके करीबी पाकिस्‍तानी सहयोगी जाबिर मोती (51) के प्रत्‍यर्पण को लेकर लंदन की एक अदालत में सुनवाई चल रही थी,इस दौरान अमेरिकी सरकार की ओर से पेश हुए वकील जॉन हार्डी ने की,मोती के प्रत्‍यर्पण को लेकर वेस्‍टमिंस्‍टर कोर्ट में सुनवाई के दौरान हार्डी ने कहा कि अमेरिकी जांच एजेंसी फेडरल ब्‍यूरो ऑफ इंवेस्‍टीगेशन (FBI) दाऊद डी-कंपनी के खिलाफ जांच कर रही है, जो पाकिस्‍तान,भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से अपनी आपराधिक गतिविधियां संचालित करती है!

‘TOI’ के अनुसार, हार्डी ने कहा, ‘डी कंपनी का प्रमुख दाऊद इब्राहिम है, जो पाकिस्‍तान में रह रहा है! वह उसका भाई अनीस इब्राहिम भारत के मुंबई में 1993 में हुए सिलसिलेवार बम हमलों के बाद से ही भारत से भागे हुए हैं और पाकिस्‍तान में रह रहे हैं! उन्‍होंने यह भी कहा कि दाऊद की डी-कंपनी ने पिछले 10 वर्षों में अमेरिका में मनी-लॉन्ड्रिंग, मादक पदार्थ की तस्करी और जबरन वसूली जैसी कई गैरकानूनी गतिविधियों को अंजाम दिया है, जिसे लेकर प्रशासन सख्‍त है! उन्‍होंने इसमें दाऊद के करीब सहयोगी मोती की खास भूमिका का जिक्र करते हुए कहा कि ‘डी कंपनी में उसका खासा रसूख है और वह अपने आका दाऊद के लिए मुलाकातों का आयोजन करता था! उन्‍होंने इस संबंध में मोती की गोपनीय बैठकों, फोन और ई-मेल के जरिये की गई बातचीत को लेकर एफबीआई की कई जांचों का भी जिक्र किया!


जाबिर मोतीवाला और जाबिर सिद्दीक जैसे अलग अलग नामों से बुलाए जाने वाले दाऊद के सहयोगी मोती को ब्रिटेन की स्कॉटलैंड यार्ड ने पिछले साल गिरफ्तार किया था, जो अमेरिका में प्रत्‍यर्पण का सामना कर रहा है! सुनवाई के दौरान मोती के वकीलों ने यह कहकर प्रत्‍यर्पण का विरोध किया कि उनका मुवक्किल मानसिक अवसाद से गुजर रहा है और वह तीन बार आत्‍महत्‍या की कोशिश कर चुका है, इसलिए प्रत्‍यर्पण के लिए फिट नहीं है!

Continue Reading

Like us on Facebook

Recent Posts

Trending