Connect with us

बीट विशेष

टट्टी साफ करने वाली मां महान और समाज की टट्टी सर पर पैखाना ढोने वाला अछूत ! गज़ब का दोगलापन है

Published

on

एक दलित होने का दर्द क्या होता है क्या ये समाज समझ पाएगा? क्या हमने मंदिरों में अरदास लगाई थी कि इस जाति में पैदा करना? बहुत लोगों का तर्क है कि जातिवाद का कारण आरक्षण है, जातिआधारित भेदभाव लगभग 5000 साल से चल रहा है, जातिगत आरक्षण 70 साल से, लेकिन फिर भी लोग आरक्षण को इसका मुख्य कारण मानते हैं. मैंने आरक्षण का विरोध करने वाले आजतक एक भी व्यक्ति को नहीं देखा जो अपनी जातीय ताने-बाने या जातीय श्रेष्ठता को छोड़ने की बात करता हो. कुछ लोग कहते हैं कि सब तो ले ही रहे हो कुछ तो छोड़ दो? देश की 70% अर्थव्यवस्था का पैसा महज 1% के पास है और उसमें एक भी दलित नहीं है. सरकारी आंकड़ें देख लो 50% में से 20% भी आरक्षण ढंग से लागू नहीं हुआ.

कुछ लोग जातिआधारित भेदभाव इसलिए करते हैं कि दलित गंदगी साफ करते हैं. गंदा करने वाला श्रेष्ठ है. बच्चे की टट्टी साफ करने वाली मां महान और समाज की टट्टी सर पर धोने वाला शुद्र और अछूत? गज़ब का दोगलापन है.

एक दलित जब किराए का मकान लेने जाता है तब भेदभाव, शादी में खाने की अलग व्यवस्था, नौकरी में जातिआधारित शोषण, स्कूल में ज़मीन पर बिठाना. मुझे याद है मुंबई में मेरे क्लास का मॉनिटर मुझे हर रोज जातिसूचक नाम से बुलाता था ओबीसी होने के नाते भी मैं अछूता नहीं रहा. जब मीडिया में नौकरी के लिए उतरा तो बहुत से संपादक सीधा जात जानने के लिए सरनेम पूछते थे. दिल्ली में पहले दिन मेरे क्लास के एक लड़के ने कहा था कि तुम्हारी जाति के लोगों को हमारे यहां बहुत पीटते हैं. लोगों को उनका प्रतिद्वंद्वी हराता है और हमें पूरा समाज हराने के लिए लगा रहता है. हर दिन कोई न कोई एहसास दिलाता है कि मैं एक अछूत हूँ और शूद्र हूँ. ऐसा नहीं है सब करते हैं कुछ अच्छे लोग हैं मैं इस मामले में भाग्यशाली रहा. कुछ अच्छे लोग मिले जिन्होंने कभी एहसास नहीं होने दिया.

हां मैं एक दलित समाज में जन्मा हूँ. इसमें मेरा कोई दोष नहीं लेकिन मैं इस पहचान के साथ मारूंगा नहीं. बहुत लोगों को मेरी बात कड़वी लगती होगी, लेकिन आपका अतीत सुनहरा होगा, लेकिन मेरा और मेरा समाज का अतीत उस कोयले की खान की तरह अंधेरा रहा है जिसमें अपमान, उपेक्षा और अत्याचार रहा है. ये आग उसी की देन है. मैं यूँही धीरे-धीरे चलूंगा, चैन उतरेगी तो उतर कर चढ़ाऊंगा। न रुकूँगा न थामुंग। तुम्हारे हर वार का प्रतिकार करूँगा, मैं सबको पार करूँगा.

सांत्वना नहीं चाहिए अधिकार चाहिए

(प्रशांत की फेसबुक वाल से)

1 Comment

1 Comment

  1. Sushil K. Rajoria

    June 27, 2018 at 2:05 pm

    Behtrin lekh Parshantji. Too good to say any thing more. Ye vidambana hi hai samaj ki manusya dogle pan mai jeeta hai. Nahi to kam to sabhi jaruri hai. Roj hi sharir ki safai na ho to apna swasthya kitna kharab lagta hai. Isi tarah desh ke swasthya ka kya oga andaja lagaya ja sakta hai. Lekin log pakhandi he aur bharat jati dambh ke karan dunia ka sabse pakhandi desh hai. Chahe log kitne bhi pakhandi ho hame apna kam karte rahna chahiye. Mai apki isi baat ko bal dunga jo apne ant me kahi: हां मैं एक दलित समाज में जन्मा हूँ. इसमें मेरा कोई दोष नहीं लेकिन मैं इस पहचान के साथ मारूंगा नहीं. बहुत लोगों को मेरी बात कड़वी लगती होगी, लेकिन आपका अतीत सुनहरा होगा, लेकिन मेरा और मेरा समाज का अतीत उस कोयले की खान की तरह अंधेरा रहा है जिसमें अपमान, उपेक्षा और अत्याचार रहा है. ये आग उसी की देन है. मैं यूँही धीरे-धीरे चलूंगा, चैन उतरेगी तो उतर कर चढ़ाऊंगा। न रुकूँगा न थामुंग। तुम्हारे हर वार का प्रतिकार करूँगा, मैं सबको पार करूँगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बीट विशेष

COVID-19 के खिलाफ प्रधानमंत्री के LockDown और देश को स्वच्छ बनाए रखने के कार्यक्रम की धज्जियां उड़ा रहे पशु माफ़िया…!

Published

on

Haidar Baaghi

भजनपुरा के सुभाष मोहल्ला की गली नं 16 में इमरान डेरी वाला, सहित नूर-ए-इलाही में रिफाकत नामक पशु माफिया बड़े जानवरों से ज़्यादा 15 से 20 दिन के बच्चों की कटाई कर रहे हैं…!!!

आधी रात सुभाष मोहल्ला की गलियों से
गली नं 16 में इमरान डेरी के कसाई खाने जानवर ले जाते पशु माफिया “

एक तरफ़ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार-बार देश की जनता को संबोधित कर Covid-19 जैसी आपदा से निपटने के लिए जनता को नए-नए सुझाव बड़ी गंभीरता के साथ देते हैं!

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए देश की जनता से अपने अपने क्षेत्र को साफ़ रखने एवं हर एक व्यक्ति को कुछ-कुछ समय बाद खुद को सैनिटाइजर का प्रयोग करे जाने एवं Social Distancing का विशेष पालन करने की हर एक भारतीय को हिदायत दी थी!

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के थाना भजनपुरा क्षेत्र के सुभाष मोहल्ला और नूर इलाही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हर एक अपील की धज्जियां सिर्फ पशु माफिया ही नहीं बल्कि कुछ पैसों के लालच में शासन प्रशासन के लोग भी उड़ा रहे हैं!

“यह सुभाष मोहल्ला गली नंबर 16 स्थित Pashu Mafia इमरान का डेरी के नाम पर चलने वाला पशु हत्या का कसाई खाना है”

सुभाष मोहल्ला की गली नंबर 16 में इमरान नामक व्यक्ति और नूर-ए-इलाही में दूसरा सबसे बड़ा पशु हत्या का कारखाना चलाने वाले रिफाकत नामक व्यक्ति के यहां रात 12:00 बजे से सुबह 7:00 बजे तक 800 से ज्यादा पशु काटे जाते हैं!

दिल्ली में lockdown के चलते गाज़ीपुर बूचड़खाना बंद है जिसकी वजह से पूरी दिल्ली में कहीं भी गोश्त नहीं मिल रहा और जिन जगह चोरी-छिपे जानवर काटे जाते थे उन जगह पर पुलिस ने काफी सख्ती कर रखी है यही वजह है की भजनपुरा को छोड़कर दिल्ली के किसी भी इलाके में अवैध बूचड़खाने बिल्कुल बंद हैं!

आपको बता दें उत्तर-पूर्वी दिल्ली के भजनपुरा के सुभाष मोहल्ला और नूर-ए-इलाही से जानवर काट कर दिल्ली के मालवीय नगर, इंद्रलोक, उत्तम नगर, नांगलोई, कसाब पुरा, चांद बाग़ जैसे अन्य और काफी इलाकों मे सप्लाई किया जा रहा है!

lockdown के दौरान अपने घर का राशन दूध दवाई जैसी अन्य चीजें खरीदने गए लोगों को पुलिस ने lockdown का उल्लंघन करने का आरोप लगा बहुत लाठी डंडे मारे लेकिन इन जैसे लोगों को डंडा तो दूर इनके खिलाफ कार्यवाही करने से भी आखिर पुलिस क्यों गुरेज़ कर रही है…!!!

“राष्ट्रहित में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें”

 

 

 

 

Continue Reading

बीट विशेष

“तिहाड़ जेल के कैदी ने वीडियो बना वायरल किया…!

Published

on

दिल्ली की तिहाड़ जेल के लिए कहा जाता था,कि तिहाड़ जेल में बिना इजाज़त परिंदा भी पर नहीं मार सकता, वह तिहाड़ जेल जिसकी गिनती हमारे देश की सबसे सुरक्षित जेलों में पहले नंबर पर और एशिया में दूसरे नंबर पर की जाती है!वही तिहाड़ जेल पिछले कुछ दिनों से विवादों मेंं घिरी नजर आ रही है!

हालिया मामला एक वायरल हो रहे वीडियो का है, जिसमें शशांक नामक व्यक्ति खुद को तिहाड़ की 01 नंबर जेल के 02 नंबर वार्ड में विचाराधीन कैदी बताते हुए जेल स्टाफ पर आरोप लगाते हुए कहता है, कि जेल का ही एक स्टाफ अपने परिचित कैदियों को मोबाइल उसके माध्यम से भिजवाता है! कैदी ने वीडियो बनाते समय जो तस्वीरें दिखाई हैं, वह हैरत-अंगेज और परेशान करने वाली हैं। वीडियो बनाते समय उसके पास तीन मोबाइल हैं।

यह वीडियो वायरल होने के बाद जेल अधिकारियों की नींद उड़ी हुई है। वीडियो के संबंध में एडीजी राजकुमार का कहना है कि यह वीडियो उनकी जानकारी में रविवार को आया था। उसके बाद से मामले की जांच सतर्कता विभाग को दे दी गई है।

आपको बता दें पिछले दिनों People’s beat ने एक खबर में बताया था की कैसे जेल के अधिकारी पर एक अरबपति कैदी सुकेश चंद्रशेखर ने आरोप लगाया था की जेल अधीक्षक ने उन्हें फ़ोन देने के एवज में एक करोड़ रूपए की मांग की और कैदी द्वारा मना किये जाने पर उन्हें अति संवेदनशील वार्ड में डाल दिया गया।

हमारे संवाददाता से बात करते हुए सुकेश चंद्रशेखर के वकील मयंक त्रिपाठी ने बताया की उनके क्लाइंट से जेल में शांति और सुख सुविधा से रहने के लिए जेल नंबर 8/9 के अधीक्षक पवन कुमार अहलावत ने एक करोड़ रूपए की मांग की और कैदी द्वारा मना किये जाने पर उन्हें एकांत जेल में डाल दिया गया, जहाँ खूंखार कैदी सहित आतंकवादियों को रखे जाने का प्रावधान है। सुकेश चंद्रशेखर ने खुद को हाई रिस्क वार्ड में डाले जाने को उच्च न्यायालय में चैलेंज किया जिस पर जस्टिस नवीन चावला ने सुनवाई करते हुए जेल के डी जी को जवाब दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का वक़्त दिया है।

 

Continue Reading

देश

CAA, NRC, NPR जैसे मुद्दों पर AIMIM के Lok Sabha सांसद SYED IMTIYAZ JALEEL के साथ खास बातचीत People’s BEAT Facebook Live पर आज रात 08:30 से 10:00 बजे ।

Published

on

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के औरंगाबाद लोकसभा सीट से AIMIM के सांसद जनाब इम्तियाज जलील से People’s BEAT के दर्शक देश में गर्मा रहे सभी राजनीतिक मुद्दों पर सीधा सवाल People’s BEAT के Facebook Live पर कर सकते हैं। जिसका जवाब माननीय सांसद इम्तियाज जलील जरूर देंगे।

Continue Reading

Trending