Connect with us

जुर्म

क्या दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर और कुख्यात गैंगस्टर हाशिम बाबा के बीच पढ़ चुकी है दरार ?

Published

on

चौधरी हैदर अली

दिल्ली का डॉन कहलाने वाले अब्दुल नासिर और उसका दायां हाथ कहे जाने वाले दिल्ली के कुख्यात गैंगस्टर हाशिम बाबा के रास्ते अब अलग अलग हो चुके हैं!दिल्ली पुलिस फिलहाल नासिर एवं बाबा के बीच हुए मत भेदों पर कुछ भी बोलने से बच रही है! सूत्रों के अनुसार 23-24 जुलाई 2019 की रात हुई अब्दुल नासिर के करीबी इमरान की हत्या ही नासिर और बाबा के बीच दरार पड़ने की वजह है! नासिर और बाबा के साथ काम कर चुके एक पूर्व गैंगस्टर ने अपना नाम ना उजागर करने की शर्त पर People’s BEAT को बताया की नासिर और बाबा के बीच पड़ी दरार की सबसे पहली वजह नासिर और छेनू पहलवान के बीच हुई सुलाह भी है, आपको बता दें पिछले एक दशक से नासिर और छेनू पहलवान के बीच खूनी गैंगवार चली आ रही थी जिसमें अब तक 3 दर्जन से ज्यादा लोग मौत के घाट उतर चुके थे!

“हाशिम बाबा और उसके साथी नहीं चाहते थे अब्दुल नासिर और छेनू पहलवान के बीच सुलाह”

सूत्रों के मुताबिक हाशिम बाबा और उसके साथी नहीं चाहते थे कि नासिर और छेनू पहलवान के बीच सुलाह हो यमुनापार में चल रही गैंगवार किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है, लोगों का कहना है नासिर ने 16 जनवरी को जेल से आने के बाद नशे का कारोबार कर रहे माफियाओं पर नकेल कसनी शुरू कर दी थी, नासिर ने नशा बेचने वालों को इलाके से चले जाने या अपना काम बंद कर कोई दूसरा काम शुरू करने की चेतावनी भी दे रखी थी, इस वजह से भी हाशिम बाबा के साथी अब्दुल नासिर के खिलाफ थे

“दिल्ली क्राइम ब्रांच ने मकोका के तहत अब्दुल नासिर पर कर रखा है मुकदमा दर्ज”

दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर (31) के खिलाफ 9 जुलाई 2019 को मकोका के तहत मुकदमा दर्ज किया हुआ है! दिल्ली क्राइम ब्रांच के अनुसार अब्दुल नासिर के गैंग पर ऑर्गेनाइज क्राइम सिंडिकेट चलाने के साथ-साथ ठेके पर हत्या, जबरन वसूली करने का आरोप है! दिल्ली पुलिस का कहना है कि नासिर जेल में बंद अपने गुर्गे अजीम से दिल्ली के कारोबारियों को फोन कर रंगदारी मांगता है जो रंगदारी नहीं देता नासिर उनके घरों पर गोलियां चलवा देता है!दिल्ली क्राइम ब्रांच का दावा है कि अब्दुल नासिर ने अपराध की दुनिया से कम से कम अपनी 50 करोड रुपए प्रॉपर्टी बना रखी है इतना ही नहीं जिस कार से अब्दुल नासिर घूमता है उस कार की कीमत भी 1 करोड़ से ज्यादा है!

“आखिर कौन है हाशिम बाबा”

हाशिम बाबा 2007 में अपराध की दुनिया में शामिल हुआ और उस पर पहला मुकदमा भारतीय दंड संहिता की धारा 307 के तहत उत्तर पूर्वी दिल्ली के थाना गोकलपुरी में दर्ज हुआ जिसमें हाशिम बाबा ने मुस्तफाबाद के नामचीन गैंगस्टर रहे कासिम गड्ढे वाले पर गोलियां चलाई थी, जिसमें कासिम बाल-बाल बच गया था, उसके बाद हाशिम बाबा ने अब्दुल नासिर से हाथ मिला लिया और सट्टे के नेटवर्क में घुस एक के बाद एक सनसनी खेज वारदातों को अंजाम देता गया जिसे देख दिल्ली पुलिस आयुक्त ने उसकी गिरफ्तारी पर 1 लाख का इनाम रख दिया था हाशिम बाबा को गिरफ्तार करने में दिल्ली पुलिस को 7 साल लग गए 2007 से फरार चल रहे हाशिम बाबा को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने बड़ी मशक्कत के बाद 2 जून 2014 को आखिर उत्तराखंड के रामनगर से गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिल्ली पुलिस का मस्तक ऊंचा किया! 2016 में जेल से जमानत पर छूटे हाशिम बाबा पर 2017 में जाफराबाद में हुए डबल मर्डर का आरोप लगा जब से बाबा फरार है दिल्ली पुलिस का दावा है हाशिम बाबा मोनू दरियापुर हत्याकांड का भी हिस्सा है जिसमें 2 पुलिस कर्मी शहीद हुए थे, जिसके बाद से दिल्ली पुलिस ने हाशिम बाबा पर एक लाख और यूपी पुलिस ने 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा है हाशिम बाबा अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है!

“राष्ट्रीय न्यूज़ पेपर्स के संवाददाताओं से गुजारिश है कृपया कर हमारी न्यूज़ वेबसाइट से खबर उठाकर कट पेस्ट ना करें”

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जुर्म

“दिल्ली पुलिस ने भजनपुरा में एक ही परिवार के 5 लोगों के हत्याकांड का 24 घंटों मे किया खुलासा!

Published

on

By :- Haidar Baaghi

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के भजनपुरा इलाके में एक ही परिवार के पांच लोगों ही बेरहमी से हत्या कर दी गई। बुधवार सुबह तेज दुर्गंध आने पर पड़ोसियों ने सूचना पुलिस को दी। पुलिस भीतर पहुंची तो दंपती और उनके तीन बच्चों के 6-7 दिन पुराने बुरी तरह सड़े-गले शव मिले। इनकी शिनाख्त शंभूनाथ चौधरी (43), पत्नी सुनीता (37), बेटे शिवम कुमार (17), सचिन (14) और बेटी कोमल (12) के रूप में हुई। दंपती का शव एक कमरे से मिला, जबकि तीनों बच्चों के शव दूसरे कमरेभजनपुरा इलाके में एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या की गुत्थी को पुलिस ने 24 घंटे के भीतर सुलझा लिया है। पुलिस की मानें तो मृतक शंभू के फुफेरे भाई प्रभुनाथ चौधरी ने महज 30 हजार रुपये के लिए शंभू और उसके पूरे परिवार की हत्या कर दी। शंभू से उसने 30 हजार रुपये ले रखे थे, लेकिन वह रुपये वापस नहीं कर पा रहा था। पुलिस ने हत्याकांड का राज खोलते हुए आरोपी प्रभुनाथ (26) को गिरफ्तार कर लिया है।

तीन फरवरी को प्रभुनाथ ने शंभू के घर पहुंचकर पहले उसकी पत्नी सुनीता का नोकझोंक के बाद गला घोटा, बाद में उसके सिर पर रॉड से वार कर दिया। इसके बाद बेटी कोमल, बेटे शिवम और सचिन को मौत के घाट उतार दिया। चार घंटे घर में बिताने के बाद उसने शंभू को फोन कर गामड़ी गांव बुलाया। वहां दोनों ने शराब पी और रात 11 बजे उसे भी घर लेकर पहुंचा, वहां उसकी भी हत्या कर दी। बाद में आरोपी घर पर ताला लगाकर फरार हो गया। पुलिस ने कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) और सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से हत्याकांड से पर्दा उठाया।संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार ने बताया कि बुधवार सुबह भजनपुरा की गली नंबर-11 में पुलिस को शंभू, पत्नी सुनीता, तीन बच्चे शिवम, सचिन व कोमल के शव बरामद हुए थे। शव इतनी सड़ी-गली हालत में थे कि उनकी मौत की वजह पता नहीं चल पा रही थी। शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की। स्थानीय पुलिस के अलावा स्पेशल स्टाफ की टीम को जांच का जिम्मा सौंपा गया। इंस्पेक्टर विनय यादव की टीम ने भी पड़ताल शुरू की। टीम ने शंभू के मोबाइल का कॉल डिटेल रिकॉर्ड निकलवाया, तो उस पर आखिरी कॉल शंभू के फुफेरे भाई प्रभुनाथ की थी। इसके अलावा गली में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई, तो तीन फरवरी को दोपहर 3.30 बजे प्रभुनाथ को घर में घुसते हुए और शाम 7 बजे निकलते देखा गया। बाद में रात को दोबारा 11 बजे शंभू के साथ आता फुटेज में देखा गया। पुलिस ने शक के आधार पर प्रभुनाथ को बुलाया। शुरुआत में वह पुलिस को गुमराह करने लगा लगा, लेकिन बाद में उसने हत्या की बात कुबूल कर ली। 

भजनपुरा में ही परिवार के साथ रहने वाला प्रभुनाथ लक्ष्मी नगर स्थित एक इंस्टीट्यूट में नौकरी करता था। उसने कुछ समय पहले शंभू से 30 हजार रुपये ब्याज पर लगवाने के नाम पर लिए थे, लेकिन रुपये वह वापस नहीं करा रहा था। वारदात वाले दिन प्रभुनाथ ने शंभू को लक्ष्मी नगर आने के लिए कहा और खुद 3.30 बजे उसके घर पहुंच गया। वहां सुनीता ने उससे नोकझोंक शुरू की तो करीब 3.45 बजे उसका गला घोट दिया। इसके बाद उसके सिर पर रॉड से वार कर दिया। बाद में शव को घसीटकर अंदर वाले कमरे में ले गया।

शाम करीब 5 बजे कोमल ट्यूशन पढ़कर लौटी तो आरोपी ने कमरे में अंधेरा कर उसे अंदर बुलाया। पीछे से वार कर उसे भी मौत के घाट उतार दिया। शिवम भी किसी दोस्त से मिलकर शाम 5.45 बजे घर लौटा, तो प्रभुनाथ ने अंदर बुलाकर उसके भी सिर पर रॉड से हमला कर मार दिया। बाद में सचिन 6.45 बजे पहुंचा तो उसकी भी हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी ने शंभू को फोन किया। वह उसे बाइक से लेकर गामड़ी गांव पहुंचा। वहां शंभू को उसने शराब पिलाई और उसने खुद बियर पी। देर रात 11 बजे वह शंभू को नशे की हालत में लेकर घर पहुंचा और सिर पर वार कर 11.30 बजे उसे भी मार दिया। बाद में वह घर पर ताला लगाकर फरार हो गया। से मिले। शवों के पास ही एक हथौड़ा और आरी बरामद हुई है।

आशंका है कि वारदात में इनका इस्तेमाल किया गया। शंभूनाथ के मकान का ताला बाहर से बंद था। वारदात की सूचना पर संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार समेत तमाम आला अधिकारियों, क्राइम टीम व एफएसएल की टीम ने मौके का मुआयना किया।

Continue Reading

जुर्म

पूर्वी दिल्ली के पूर्व गैंगस्टर मोहम्मद हसन उर्फ़ सूफी कलवा पर दिनदहाड़े चली गोलियां!

Published

on

उत्तर पूर्वी दिल्ली में गैंगवार की वारदातें थमने का नाम ही नहीं ले रहीं ऐसा ही मामला कल शाम 05:55 बजे थाना उस्मानपुर क्षेत्र के ब्रह्मपुरी इलाके मे घटा जिसे दो बदमाशों ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के पूर्व गैंगस्टर मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा पर कई राउंड गोलियां चलाकर अंजाम दिया मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा के एक गोली कमर में लगी उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया सूफी कलवा के परिजनों ने बताया कि उनकी हालत नाजुक बनी हुई है!

पुलिस सूत्रों के अनुसार सूफी कलवा पर गोली चलाने वाले का नाम राजू उर्फ बेचैन है जो थाना उस्मानपुर इलाके का घोषित अपराधी है उस पर कई अपराधिक मामले चल रहे हैं! सूत्रों के अनुसार मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा उत्तर पूर्वी दिल्ली में चल रहे सट्टे का सबसे बड़ा ऑपरेटर है!

ब्रहमपुरी एवं जाफराबाद के लोगों का कहना है मोहम्मद हसन उर्फ सूफी कलवा एवं राजू उर्फ बेचैन के बीच सट्टे के कारोबार को लेकर काफी वक़्त से खींचतान चल रही है! आपको बता दें उत्तर पूर्वी दिल्ली में सट्टे का नेटवर्क अपनी जड़े जमा चुका है जिसे उत्तर पूर्वी दिल्ली पुलिस आंखें मूंद बढ़ावा दे रही है!

Continue Reading

जुर्म

दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर पर दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 9 जुलाई को कर दिया था MCOCA के तहत मुकदमा दर्ज!

Published

on

चौधरी हैदर अली

नई दिल्ली:दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दिल्ली का डॉन कहे जाने वाले अब्दुल नासिर (31) के खिलाफ 9 जुलाई 2019 को मकोका के तहत मुकदमा दर्ज किया हुआ है!दिल्ली क्राइम ब्रांच के अनुसार अब्दुल नासिर के गैंग पर ऑर्गेनाइज क्राइम सिंडिकेट चलाने के साथ-साथ ठेके पर हत्या, जबरन वसूली करने का आरोप है!

“अब्दुल नासिर पर ऑर्गेनाइज क्राइम सिंडिकेट चलाने का लगाया है आरोप”

दिल्ली क्राइम ब्रांच का दावा है कि अब्दुल नासिर ने अपराध की दुनिया से कम से कम 50 करोड रुपए की प्रॉपर्टी बना रखी है इतना ही नहीं जिस कार से अब्दुल नासिर घूमता है उस कार की कीमत भी 1 करोड़ से ज्यादा है!दिल्ली क्राइम ब्रांच के मुताबिक डिपार्टमेंट से नासिर पर मकोका लगाए जाने की खबर लीक हो जाने की वजह से नासिर और उसके साथी 6 जुलाई 2019 से ही हो गए अंडरग्राउंड!

दिल्ली क्राइम ब्रांच के उपायुक्त श्री राजेश देव ने कहा हमने सक्षम अथॉरिटी से अप्रूवल लेकर अब्दुल नासिर पर मकोका के तहत मुकदमा दर्ज किया है उसकी सभी प्रॉपर्टी और गैंग मेंबरों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है जल्द से जल्द इन लोगों पर सख्त एक्शन लिया जाएगा!

People’s BEAT एक जिम्मेदार न्यूज़ पोर्टल है इसलिए हमने दिल्ली क्राइम ब्रांच के साथ-साथ (MCOCA) के आरोपी अब्दुल नासिर के परिवार वालों का भी पक्ष लिया है!

हम जाफराबाद की गली नंबर 48 में स्थित अब्दुल नासिर के घर गए अब्दुल नासिर के घर पर हमारी मुलाकात अब्दुल नासिर की वाल्दा 63 वर्षीय श्रीमती इशरत जहां से हुई हमने अब्दुल नासिर की वाल्दा से पूछा के दिल्ली क्राइम ब्रांच का आप के बेटे अब्दुल नासिर पर आरोप है कि उसने अपराध जगत से अपनी संपत्ति 50 करोड़ रुपए से भी ज्यादा की बना रखी है?
63 वर्षीय बुजुर्ग अब्दुल नासिर की अम्मी ने हमारे सवाल का जवाब देते हुए कहा हमारे पास सिर्फ यही एक घर है जो आज से 45-46 साल पहले नासिर के दादा जी ने खरीदा था! नासिर की वाल्दा ने कहा नासिर और उसके भाइयों के पास अगर पैसा होता तो सबसे पहले वह अपना यह घर बनवाते जोकि झर-झर हालत में है और इस घर से इन सभी बच्चों की यादें जुड़ी हुई हैं! उन्होंने कहा अगर इस पुश्तैनी मकान के अलावा 50 करोड़ तो दूर कोई नासिर पर 5 लाख की संपत्ति ही साबित कर दे उसके बाद जो सजा नासिर को दी जाएगी वह उसे कबूल होगी!

“दिल्ली अंडरवर्ल्ड की तीसरी किस्त जल्द ही आपके साथ सांझा की जाएगी!

Continue Reading

Trending